ENGLISH HINDI Saturday, September 19, 2020
Follow us on
 
पंजाब

बासमती की फसल को किया जा सकता है जहरीली स्प्रे से मुक्त: सीएओ

August 02, 2020 08:20 PM



बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
बासमती चावलों की फसल को बचाने के लिए अब तक किसान नौ जहरीले स्प्रे करते आ रहे थे। इस फसल को सप्रे से मुक्त करने के लिए बरनाला के चीफ एग्रीकल्चर अफसर डा. बलदेव सिंह ने किसानों को विशेष नुक्ते दिए हैं। जिससे धरती का निचले पानी के गिरते स्तर को ऊपर उठाने के लिए सरकार द्वारा शुरू किये मिश्न तंदरुस्त पंजाब और जल शक्ति अभियान को भी शक्ति मिल सकेगी।    

फसल को बचाने के लिए 9 तरह की सप्रे करते आ रहे हैं किसान।


सीएओ ने शुरू की किसानों के साथ मीटिंग:
मुख्य कृषि अधिकारी डा. बलदेव सिंह ने बरनाला जिला के विभिन्न गांवों में किसानों के साथ बैठकें करनी शुरू की हैं। गांव चीमा, भोतना, कोठा गोबिन्दपुरा के किसानों को जानकारी देते हुए डा. बलदेव सिंह ने बताया कि जिन किसानों ने बासमती की फसल की बोआई की है, उन्होंने किसानों को अपनी फसल की क्वालिटी बढ़ाने के लिए पंजाब सरकार द्वारा बासमती पर प्रतिबंधित स्प्रे नहीं करने की सलाह दी। किसानों को कहा कि यह स्प्रे पैस्टीसाईडज/फंगीसाईडज बासमती की गुणवत्ता और क्वालिटी को घटाते हैं। जिसके कारण बासमती की कीमत नहीं बढ़ रही। डा. सिंह ने बताया कि कोविड-19 के कारण बासमती की मांग बहुत बढ़ी है, लेकिन फसल पर हुए जहरीले स्प्रे के अंश मिलने के कारण बासमती की बिक्री नहीं हो सकी। यदि किसान लोग कृषि विभाग की सलाह मान कर बासमती पर प्रतिबंधित सप्रे करना छोड़ दें तो बासमती की क्वालिटी बढिय़ा होगी और किसानों को बासमती का वाजिब रेट मिलेगा, धान क्षेत्रफल कम होकर बासमती के नीचे आ जाएगा और धरती के निचले पानी का स्तर अपने आप ही ऊपर उठ जाएगा।
खतरनाक हैं यह नौ स्प्रे:
डा. बलदेव सिंह ने बताया कि ऐसीफेट, बुपरोफेजिन, ट्राईजोफास, कारबोफ्यूरॉन, थॉयऑमिथोकसन, प्रॉपीकोनाजॉल, कारबैंडाजिम, थायऑफीनेट मिथायल, ट्राईसाईकॉलाजोल 9 स्प्रे हैं जो कि बहुत ही मंहगे और बासमती की फसल के लिए घातक हैं। जो मित्र कीड़े होतें हैं उन्हें यह सप्रे खत्म कर देते हैं। दुश्मन कीड़े और बीमारियों की रोकथाम के लिए बहुत ही जरूरत पडऩे पर कृषि माहरों के साथ सलाह करके ही दवाओं का किया जाना चाहिए।
डीलरों को दी हिदायतें:
सीएओ नेजिला के समूह डीलरों को भी हिदायतें जारी की है कि बासमती की फसल पर किये जा रहे 9 जहरीले सपरे वाली दवाओं की बिक्री से गुरेज करें और किसानों को बेची गई दवाओं के पक्के बिल दिए जाएं।
इस कारण होती है फसल रिजैकट:
मुख्य कृषि अधिकारी डा. बलदेव सिंह ने बताया है कि पंजाब के बासमती को निर्यात करने और क्वालिटी चैक करने के समय रिजेक्ट कर दिया जाता है। जिसका कारण बासमती में स्प्रे के अंश मिलना होता है। नतीजा यह होता है कि रिजेक्ट घोषित किया गया बासमती वापस भेज दिया जाता है। बासमती का रेट नहीं बढऩे का कारण भी सपरे का होना ही पाया गया है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
बठिंडा फार्मा पार्क मेडिसन सैक्टर में चीन का एकाधिकार तोड़ेगा: मनप्रीत बादल यूनिवर्सिटिज के लिए क्षेत्र की शर्त में छूट का फैसला केंद्र सरकार की ‘विशाल ड्रग पार्क स्कीम’ के लिए पंजाब करेगा प्रयास जीरकपुर में भारी भरकम बिजली बिलों से लोगों को लगा जोरदार 'करंट' एटीएम नहीं बदला न ही किसी ने ओटीपी मांगा, फिर भी बैंक खाते से हवा हुए 24,500 बाबा बंदा सिंह बहादुर के 350वें जन्म दिवस पर सार्वजनिक अवकाश का ऐलान पुलिस द्वारा बाल अधिकार और सुरक्षा ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित 26वीं वाहिनी, भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल द्वारा फिट इंडिया फिडम रन का आयोजन मसाज पार्लर की आड़ में फल-फूल रहा है जिस्मफरोशी का धंधा, पुलिस तमाशबीन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा पंजाब अचीवमेंट सर्वे के लिए डेटशीट जारी