ENGLISH HINDI Friday, September 18, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

पेट्रोल— डीजल के थोक और खुदरा विपणन का अधिकार नियमों को बनाया सरल

August 04, 2020 07:07 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने 8 नवंबर 2019 को पारित किए गएप्रस्ताव के तहत मोटर वाहन स्पिरिट (पेट्रोल)एमएस और हाई स्पीड (डीजल)एचएसडी के थोक और खुदरा विपणन का अधिकार दिए जाने के नियमों को सरल बना दिया है। इसका उद्देश्य एमएस और एचएसडी के विपणन में निजी क्षेत्र की भागीदारी को बढ़ाना है। इसमें यह शर्त रखी गई है कि खुदरा अथवा थोक विपणन का अधिकार प्राप्त करने की इच्छुक इकाई के पास आवेदन करते समय 250 करोड़ रुपए और खुदरा तथा थोक विपणन दोनों का अधिकार पाने के लिए 500 करोड़ रुपए की न्यूनतम राशि का होना जरूरी है। इसके लिए आवेदन मंत्रालय द्वारा जारी आवेदन पत्र में सीधे भेजे जा सकते हैं। खुदरा विपणन के अधिकार के लिए आवेदन करने वाली इकाई को विपणन का अधिकार मिलने के बाद कम से कम 100 खुदरा दुकानें खोलनी होंगी। इसके साथ ही मंत्रालय ने पेट्रोलियम उत्पादों के विपणन के लिए पहले बनाई गई सख्त नीति के कई प्रावधान सरल बना दिए हैं और ऐसे उत्पादों के लिए विपणन का बड़ा क्षेत्र खोल दिया है।इस नीति में देश में परिवहन ईंधन के विपणन के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाने की क्षमता है।
इस विषय पर किसी भी तरह की जानकारी के लिए पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के लैंडलाइन नंबर: + 91-11-2338 6119/6071 (सोमवार से शुक्रवार के बीच कार्यालय समय के दौरान) कॉल कर सकते हैं।
पेट्रोल और डीजल के थोक और खुदरा विपणन का अधिकार पाना सरल हो जाने से इस क्षेत्र में निजी क्षेत्र के साथ ही विदेशी कारोबारियों की भागीदारी भी बढ़ाई जा सकेगी। यह वैकल्पिक ईंधन के वितरण और दूरदराज के क्षेत्रों में खुदरा नेटवर्क के विस्तार को प्रोत्साहित करेगा और ग्राहक सेवा को बेहतर बनाएगा।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री अनचाहे गर्भ का खतरा कम करता है आपातकालीन गर्भनिरोधक राष्ट्र की नियति युवाओं के हाथ में: उपराष्ट्रपति जी-20 देशों के मंत्रियों की बैठक में कोविड-19 से उत्पन्न समस्याओं का हल मिलकर ढूंढने की जरूरत राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेश अस्‍पताल में भर्ती प्रत्‍येक कोविड रोगी की ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता के लिए जिम्‍मेदार पुरानी शिक्षा व्यवस्था बदलना उतना ही आवश्यक, जितना खराब हुआ ब्लैकबोर्ड: प्रधानमंत्री केंद्र से जम्मू-कश्मीर में पंजाबी का सरकारी भाषा का रुतबा तुरंत बहाल करने की माँग उत्तराखंड हिमालयी क्षेत्र अध्ययन: 15 प्रतिशत हिस्से में भूस्खलन का सर्वाधिक खतरा