ENGLISH HINDI Friday, September 18, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

कोरोना योद्धाओं के लिए ईएनसी बैंड ने किया लाइव प्रदर्शन

August 06, 2020 07:32 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
पूर्वी नौसेना कमान ने 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के एक हिस्से के रूप में 05 अगस्त 2020 को संकरम विशाखापट्टनम में बोज्जाना कोंडा विरासत स्थल पर कोरोना योद्धाओं को श्रद्धांजलि के रूप में नेवी बैंड के एक लाइव प्रदर्शन का आयोजन किया। नौसेना ऑफिसर इंचार्ज (आंध्र प्रदेश) सीएमडीई संजीव इस्सर ने मुख्य अतिथि अनाकपल्ली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य डॉ. बीसेट्टी वेंकट सत्यवती और और कार्यक्रम के लिए जिला प्रशासन द्वारा नामित सभी सम्मानित कोरोना योद्धाओं का स्वागत किया।
घंटे भर के प्रदर्शन में मार्शल, इंग्लिश पॉप संगीत से लेकर कुछ आत्म को झकझोर देने वाले देशभक्ति गीतों के साथ व्यापक संगीत का प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन में लोकप्रिय और सदाबहार गीत ‘सुनो गौर से दुनिया वालों’ और ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ जैसे गीत शामिल थे और इस कार्यक्रम का समापन तीनों सेनाओं के गीतों के साथ हुआ। डीडी हैदराबाद ने डीडी सप्तगिरि और डीडी यादगिरी पर बैंड प्रदर्शन का लाइव प्रदर्शन प्रसारित किया था।
सैन्य बैंड पहली बार 01 अगस्त से देश भर में अपने प्रदर्शन को प्रदर्शित करके स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। इसका उद्देश्य अपनी जान जोखिम में डालकर भी कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए जी-जान से जुटे कोरोना योद्धाओं के प्रति राष्ट्र की कृतज्ञता प्रकट करना और उनकी सराहना करना है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री अनचाहे गर्भ का खतरा कम करता है आपातकालीन गर्भनिरोधक राष्ट्र की नियति युवाओं के हाथ में: उपराष्ट्रपति जी-20 देशों के मंत्रियों की बैठक में कोविड-19 से उत्पन्न समस्याओं का हल मिलकर ढूंढने की जरूरत राज्‍य/केन्‍द्र शासित प्रदेश अस्‍पताल में भर्ती प्रत्‍येक कोविड रोगी की ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता के लिए जिम्‍मेदार पुरानी शिक्षा व्यवस्था बदलना उतना ही आवश्यक, जितना खराब हुआ ब्लैकबोर्ड: प्रधानमंत्री केंद्र से जम्मू-कश्मीर में पंजाबी का सरकारी भाषा का रुतबा तुरंत बहाल करने की माँग उत्तराखंड हिमालयी क्षेत्र अध्ययन: 15 प्रतिशत हिस्से में भूस्खलन का सर्वाधिक खतरा