ENGLISH HINDI Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
श्री आनंदपुर साहिब की पावन धरती पर रिलीज हुई सामाजिक बुराईयों को नग्न करती पंजाबी फिल्म‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण, हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनाये जा रहे हैं थीम बेस्ड सिटी पार्ककोविड प्रोटोकॉल की सख़्ती से पालना और सार्वजनिक जागरूकता व मज़बूत करने के आदेश10 हज़ार रुपए की रिश्वत लेने वाला राजस्व पटवारी रंगे हाथों काबूबासमती के लिए मंडी और ग्रामीण विकास फीस घटाने का ऐलानशिक्षा विभाग द्वारा पारदर्शिता और काम में तेज़ी के लिए फंड्स की ऑनलाईन निगरानी का फ़ैसलाआपदा स्थिति में त्वरित राहत एवं बचाव कार्यों से किया जा सकता है जानमाल की क्षति को कमग्रामीण विकास कार्यों की रफतार बढ़ाने पर दें जोर: एडीसी
राष्ट्रीय

हिमालय क्षेत्र में गर्म पानी के स्रोत करते हैं वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्‍साइड का उत्‍सर्जन

August 10, 2020 07:20 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
ज्वालामुखी विस्फोटों, भूगर्भीय चट्टानों और भू-तापीय प्रणाली के माध्यम से पृथ्वी के आंतरिक भाग से वायुमंडल में उत्‍सर्जित होने वाली कार्बन डाइऑक्‍साइड गैस वैश्विक कार्बन चक्र में योगदान करती है जो पृथ्वी पर छोटे और लंबे समय तक जलवायु को प्रभावित करती है। हिमालय क्षेत्र में विभिन्न तापमान और रासायनिक स्थितियों वाले लगभग 600 गर्म पानी के सोते हैं। क्षेत्रीय और वैश्‍विक जलवायु परिवर्तन तथा भूगर्भीय चट्टानों के खिसकने से होने वाले गैस उत्सर्जन की प्रक्रिया में इनकी भूमिकापरग्लोबल वार्मिंग का आकलन करते समय विचार करने की आवश्यकता है।  

हिमालय क्षेत्र में विभिन्‍न तापमान और रासायनिक गुण वाले ऐसे करीब 600 स्रोत हैं


हिमालय के गढ़वाल क्षेत्र में लगभग 10,000 वर्ग किमी क्षेत्र में फैले भूगर्भीय सोतेकार्बन डाइऑक्साइड (सीओ2) से समृद्ध पानी की निकासी दिखाते हैं। भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, के तहत एक स्वायत्त संस्थान, वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी की ओर से इसका पता लगाया गया था। इस इंस्‍टीट्यूट को इन सोतों से उत्‍सर्जित होने वाली गैस की जांच करने की विशेषज्ञता है। अनुमानित कार्बन डाइऑक्साइड का उत्‍सर्जन (तरल पदार्थ, विशेष रूप से पानी या जलीय घोल से गैसों के अलग होने का) का प्रवाह वायुमंडल में लगभग 7.2 × 106 एमओएल/ वर्ष है।
वैज्ञानिक पत्रिका “एनवायरनमेंटल साइंस एंड पॉल्यूशन रिसर्च” में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि इन गर्म पानी के सोतों में कार्बन डाइऑक्‍साइट मैग्‍मा और ग्रेफाइट के ऑक्सीकरण के साथ-साथ हिमालय क्षेत्र के कोर में मौजूद कार्बोनेट चट्टानों के मेटामोर्फिक डेकार्बोनाइजेशन से प्राप्त होता है। इन सोतों के अधिकांश भूतापीय जल में बड़े पैमाने पर वाष्पिकरण होता है, जिसके बाद सिलिकेट चट्टानों का अपक्षय होता है। आइसोटोपिक विश्लेषण से इस सोतों के अन्‍य स्रोतों का पता चलता है।
वैज्ञानिकों की टीम ने गढ़वाल में हिमालय के प्रमुख फॉल्‍ट क्षेत्रों से 20 गर्मपानी के इन सोतों से एकत्र किए गए पानी के नमूनों का विस्तृत रासायनिक और आइसोटोप विश्लेषण किया। आइसोटोपिक माप (कार्बनिक और अकार्बनिक यौगिकों के भीतर कुछ स्थिर आइसोटोप और रासायनिक तत्वों की प्रचुरता की पहचान) जैसे कि विघटित अकार्बनिक कार्बन (सीडी13सीडीआईसी), और ऑक्सीजन (O18O) के साथ-साथ सभी नमूनों का विश्लेषण किया गया।
उन्होंने पाया कि भूतापीय वसंत जल में उच्च विघटित अकार्बनिक कार्बन का 13सीडीआईसीअनुपात (-8.5 ‰ से + 4.0 + VPDB) होता है, और प्रमुख आयनों के बीच, बाइकार्बोनेट (HCO3−) 1697 से 21,553 μEq / L के बीच होता है; क्लोराइड और सोडियम 90 से 19,171 μEq/L और 436 से 23181 μEq / L के बीच होता है। सोतों के जल में Cl और Na + की उच्च सांद्रता ने इनके गहरे स्रोतों का संकेत देती है।
टीम द्वारा किए गए सिमुलेशन अध्ययनों से पता चलता है कि इन सोतों में प्रति वर्ष जल से वायुमंडल में ~ 7.2 × 106molकार्बन डाइआक्‍साइड के उत्‍सर्जन की क्षमता है। इस अध्ययन से हिमालय क्षेत्र के गर्म पानी के सोतों से प्रति वर्ष वायुमंडल में उत्‍सर्जित होने वाली कार्बन डाइऑक्‍साइड गैस की मात्रा का अनुमान लगाना आसान हो जाता है।
पृथ्वी के वायुमंडल में वैश्विक स्‍तर पर कार्बन डाइऑक्‍साइड के प्रवाह का आकलन करने के लिए इस तरह के प्रक्रिया को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण, हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनाये जा रहे हैं थीम बेस्ड सिटी पार्क कोरोना पॉजिटिव आने से विधानसभा अध्यक्ष नहीं हो पाएंगे सदन में उपस्थित भारतीय रेलवे मना रही है 'स्वच्छता पखवाड़ा' 5 राज्यों का कुल सक्रिय मामले 60 फीसदी, नए मामले 52 फीसदी और रिकवरी दर 60 फीसदी जम्मू कश्मीर को फिर से धरती का स्वर्ग और भारत माता के मुकुट की मणि बनाएँ: राष्ट्रपति कोविन्द कृषि विधेयक परित होने पर प्रधानमंत्री ने कहा, 'बधाई हो' सुशासन और जीरो टाॅलरेंस आन करप्शन सरकार की प्राथमिकता मुख्यमंत्री रावत वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव कोविड 19 से औद्योगिक गतिविधियां प्रभावित, नई संभावनाएं भी विकसित हुईः मुख्यमंत्री