ENGLISH HINDI Sunday, September 20, 2020
Follow us on
 
धर्म

बंदिशों के बीच मनेगी जन्माष्टी

August 11, 2020 12:09 PM

चंडीगढ़, अनुराधा कपूर

कोरोना काल में जब लाकडाउन के कारण सब तरफ बंदिशें हैं। धार्मिक स्थलों पर भी सीमित लोगों के एकत्रित होने का नियम लागू हैं। केवल दस भक्तों को ही प्रवेश की अनुमति है इस समय एक तरफ जहां, भगवान "श्री कृष्ण जी" के जन्मोत्सव की धूम मची है। वर्षों से भक्त इस दिन उपवास करके मंदिर जा कर प्रभु को झूला झुलाते थे। मंदिरों मे भारी भीड़ उमड़ती थी। हर तरफ एक आध्यात्मिक आनंद अपने चरम पर होता था। जीवन में आध्यात्मिक रस का पान कैसे किया जाता है, इसका जीवंत प्रमाण "नंदोत्सव" है, लेकिन ?.

इस बार कोरोना के कारण मंदिर सूने होंगे, हर वर्ष लगने वाले मेले का आनंद बच्चे- बड़े नहीं उठा सकेंगे। झांकियां नहीं होंगी। कृष्ण-कीर्तन का मधुर पान से वंचित रहना होगा।

श्रीकृष्ण भक्तों की इस व्यथा का बखान, रूंधे गले, उदास आंखों व द्रवित हृदय से बयान किया, सैक्टर-28 स्थित श्री शिव खेड़ा मंदिर मे पुजारी पंडित सुभाष चंद शर्मा ने, जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर मंदिर मे प्रभु को नए वस्त्रों से सुशोभित करते हुए कहा कि उनके पास लगातार लोगों के संदेश आ रहे हैं कि इस बार वे किस प्रकार मंदिर में झूला झुलाने की पुरानी पंरपरा का पालन कर पाएंगे।इस पर पंडित जी ने कहा कि राष्ट्रीय- धर्म का इस समय पालन करना आवश्यक है, जो यही कहता है कि शारीरक और सामाजिक दूरी बनाए रखें;

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
देवस्थानम बोर्ड द्वारा 15 सितंबर तक 426 ई -पास जारी, दो माह बाद कुल 45686 ई-पास जारी हुए गणेश चतुर्थि पर गणपति जी का किया स्वागत स्वतंत्रता दिवस के साथ—साथ मुक्तिपर्व-आत्मिक स्वतंत्रता का पर्व नागपंचमी पर श्री शिव खेड़ा मंदिर में कोरोना महामारी के प्रकोप से मुक्ति के लिए विशेष पूजन स्वयं को सशक्त कर बाह्य परिस्थितयों पर कर सकते है विजय प्राप्त कोरोना से बचाव का फार्मूला: जलाभिषेक करना है तो लोटा घर से लाना होगा चंडीगढ़ के मंदिर दिखे सुनसान ..... संत निरंकारी मिशन ने संभाली जरूरतमंदों को घर बैठे राशन सामग्री पहुंचाने की कमान विशाल साईं भजन संध्या का आयोजन कैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन