ENGLISH HINDI Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
श्री आनंदपुर साहिब की पावन धरती पर रिलीज हुई सामाजिक बुराईयों को नग्न करती पंजाबी फिल्म‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण, हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनाये जा रहे हैं थीम बेस्ड सिटी पार्ककोविड प्रोटोकॉल की सख़्ती से पालना और सार्वजनिक जागरूकता व मज़बूत करने के आदेश10 हज़ार रुपए की रिश्वत लेने वाला राजस्व पटवारी रंगे हाथों काबूबासमती के लिए मंडी और ग्रामीण विकास फीस घटाने का ऐलानशिक्षा विभाग द्वारा पारदर्शिता और काम में तेज़ी के लिए फंड्स की ऑनलाईन निगरानी का फ़ैसलाआपदा स्थिति में त्वरित राहत एवं बचाव कार्यों से किया जा सकता है जानमाल की क्षति को कमग्रामीण विकास कार्यों की रफतार बढ़ाने पर दें जोर: एडीसी
हिमाचल प्रदेश

हिमाचल ने ई-संजीवनी पोर्टल पर परामर्श पंजीकृत करने में तीसरा स्थान प्राप्त किया

August 11, 2020 07:49 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने आज बताया कि हिमाचल प्रदेश ने पूरे देश में ई-संजीवनी पोर्टल पर सबसे अधिक परामर्श पंजीकृत करने में तीसरा स्थान हासिल किया है।
प्रवक्ता ने बताया कि हिमाचल प्रदेश ने ई-संजीवनी और ई-संजीवनी ओपीडी के माध्यम से 24,527 परामर्श पंजीकृत किए हैं। 32,035 परामर्श के साथ तमिलनाडू और 28,960 परामर्श के साथ आंध्र प्रदेश के बाद सबसे अधिक परामर्श पंजीकरण करने वाला हिमाचल प्रदेश तीसरा राज्य है।
हिमाचल प्रदेश सरकार ने लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए मार्च, 2020 से टेलीमेडिसन सेवा शुरू की है। प्रदेश में 31 मार्च, 2020 को ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया था। इस पोर्टल का उद्देश्य अधिकतर स्वास्थ्य संस्थानों जैसे स्वास्थ्य उपकेन्द्र और प्राथमिक उपकेन्द्रों को विशेषज्ञ और उत्तम विशेषज्ञ सुविधाओं के साथ प्रदेश के स्वास्थ्य महाविद्यालयों के साथ जोड़ना है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने लोगों को प्राथमिक उपचार सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से 504 स्वास्थ्य उपकेन्द्रों, 518 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को स्वास्थ्य एवं आरोग्य केन्द्रों के रूप में स्तरोन्नत करने का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि टेली-परामर्श सेवाएं प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य एवं आरोग्य केन्द्रों को 867 डैस्कटाॅप और वैबकाॅम के साथ जोड़ा गया है ताकि लोगों को कम्पयूटर के माध्यम से परामर्श प्रदान किया जा सके। इसके अतिरिक्त, 199 और डैस्कटाॅप की आपूर्ति की जा रही है। अभी तक 303 सक्रिय स्वास्थ्य उप-केन्द्रों को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नेरचैक जिला मण्डी के साथ जोड़ा जा चुका है, जिन्हें परामर्श की सुविधा प्रदान की जा रही है।
राज्य में आईजीएमसी शिमला, डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय आयुर्विज्ञान महाविद्यालय टांडा और श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय आयुर्विज्ञान महाविद्यालय नेरचैक में विशेषज्ञ केन्द्र स्थापित किए गए हैं। मेडिसिन, कार्डियोलाॅजी, आॅर्थोपेडिक्स, आॅब्सटेट्रिक्स, गायनेकोलाॅजी, डर्मेटोलाॅजी, न्यूरोलाॅजी, पेडियाट्रिक्स, गैस्ट्रोएंटरोलाॅजी और साइक्यिाट्री के क्षेत्र में विशेषज्ञ इन केन्द्रों में तैनात किया गया है। अब तक इन तीन केन्द्रों में विभिन्न विभागों के 112 चिकित्सकों को तैनात किया गया है।
विशेषज्ञों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सभी कार्य दिवस पर प्रातः 9ः30 बजे से सांय 4ः00 बजे तक टैली-परामर्श सेवाएं प्रदान कर रहे हैं।
इसके अतिरिक्त राज्य में ई-संजीवनी ओपीडी पोर्टल भी आरम्भ की गई है, जो विशेषकर टैली-परामर्श सेवा उपलब्ध करवा रही है। इस पोर्टल के माध्यम से राज्य का कोई भी व्यक्ति घर बैठे तीन विशेष केन्द्रों के चिकित्सकों से परामर्श ले सकता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
आपदा स्थिति में त्वरित राहत एवं बचाव कार्यों से किया जा सकता है जानमाल की क्षति को कम ग्रामीण विकास कार्यों की रफतार बढ़ाने पर दें जोर: एडीसी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आई, हो रही है अब फसली नुकसान की भरपाई खांसी, बुखार, जुकाम जैसे लक्षण वाले व्यक्ति हेल्पलाईन नम्बर 104 या 1077 पर करें सम्पर्क 12 रूटों पर रात्रि बस सेवा आरम्भ की जाएंगी ट्रूनाट और रैपिड एंटीजेन टेस्ट तकनीक कोविड-19 की लड़ाई में बनी गेम चेंजर: सीएमओ कोविड-19 मरीजों का ईलाज कर रहे चिकित्सकों व पैरा-मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा भी सुनिश्चित होः मुख्यमंत्री आवश्यक वस्तुओं के परचून विक्रय मूल्य किए निर्धारित देहरा में 'प्रकृति वंदन' कार्यक्रम नगर निकायों के आरक्षण की अधिसूचना जारी