ENGLISH HINDI Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
श्री आनंदपुर साहिब की पावन धरती पर रिलीज हुई सामाजिक बुराईयों को नग्न करती पंजाबी फिल्म‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण, हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनाये जा रहे हैं थीम बेस्ड सिटी पार्ककोविड प्रोटोकॉल की सख़्ती से पालना और सार्वजनिक जागरूकता व मज़बूत करने के आदेश10 हज़ार रुपए की रिश्वत लेने वाला राजस्व पटवारी रंगे हाथों काबूबासमती के लिए मंडी और ग्रामीण विकास फीस घटाने का ऐलानशिक्षा विभाग द्वारा पारदर्शिता और काम में तेज़ी के लिए फंड्स की ऑनलाईन निगरानी का फ़ैसलाआपदा स्थिति में त्वरित राहत एवं बचाव कार्यों से किया जा सकता है जानमाल की क्षति को कमग्रामीण विकास कार्यों की रफतार बढ़ाने पर दें जोर: एडीसी
पंजाब

पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दी

August 14, 2020 09:20 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज राज्य में 9 कृषि-रसायनों की बिक्री और प्रयोग पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। कृषि विभाग के ध्यान में आया कि धान की गुणवत्ता के लिए नुकसानदेय होने के बावजूद किसानों द्वारा अभी भी इसका प्रयोग किया जा रहा है, जिसके बाद यह हुक्म जारी किए गए।
इस पाबंदी का उद्देश्य धान की गुणवत्ता को बचाना है, जो अंतरराष्ट्रीय मार्केट में धान के निर्यात और लाभप्रद कीमत के लिए बहुत अहमीयत रखता है।
मुख्यमंत्री, जिनके पास कृषि विभाग भी है, ने कीटनाशक एक्ट, 1968 की धारा 27 के अंतर्गत तुरंत प्रभाव से 9 कृषि-रसायनों पर पाबंदी लगाने की मंज़ूरी दे दी है, जिनमें ऐसीफेट, ट्राईएज़ोफोस, थायामीथौक्सैम, कारबेंडाजि़म, ट्राईसाईकलाज़ोल, बुपरोफेजऩ, कार्बोफ्यूरान, प्रौपाईकोनाज़ोल और थायोफिनेट मिथाईल शामिल हैं।
आदेशों अनुसार इन 9 कीटनाशकों की बिक्री, माल भंडारण करने, वितरण और धान की फ़सल पर इसके प्रयोग पर पाबंदी लग चुकी है। मुख्यमंत्री ने कृषि सचिव के.एस. पन्नू को इस सम्बन्ध में कृषि डायरैक्टर को विस्तृत हिदायतें जारी करने के लिए कहा, जिससे राज्य सरकार की लैबोरेट्रियों द्वारा सैंपल टेस्टिंग जारी करने के बाद लगाई गई पाबंदी के सख़्ती से अमल को यकीनी बनाया जा सके।
श्री पन्नू ने बताया कि यह कृषि-रसायन किसानों के हित में सही नहीं हैं, इसके नतीजे के तौर पर गुणवत्ता पर प्रभाव पड़ता है और चावलों में कीटनाशकों के अंश सरकार द्वारा तय किए गए अधिक से अधिक अंश के स्तर (एम.आर.एल.) से अधिक रहने का ख़तरा बना रहता है।
सचिव ने बताया कि कृषि विभाग ने ऐसे रसायनों के प्रयोग से मनुष्य स्वास्थ्य पर पडऩे वाले बुरे प्रभावों संबंधी किसानों और कीटनाशक डीलरों को अवगत करवाने के लिए पिछले दो सालों से ज़ोरदार मुहिम चलाई हुई है। यहाँ तक कि पंजाब राइस मिल्लरज़ और एक्सपोर्टरज़ एसोसिएशन ने भी यह मामला उठाया है कि अलग-अलग नमूनों में बासमती चावलों में इन कीटनाशकों के अंश निर्धारित एम.आर.एल. से कहीं अधिक पाए गए हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
श्री आनंदपुर साहिब की पावन धरती पर रिलीज हुई सामाजिक बुराईयों को नग्न करती पंजाबी फिल्म कोविड प्रोटोकॉल की सख़्ती से पालना और सार्वजनिक जागरूकता व मज़बूत करने के आदेश 10 हज़ार रुपए की रिश्वत लेने वाला राजस्व पटवारी रंगे हाथों काबू बासमती के लिए मंडी और ग्रामीण विकास फीस घटाने का ऐलान शिक्षा विभाग द्वारा पारदर्शिता और काम में तेज़ी के लिए फंड्स की ऑनलाईन निगरानी का फ़ैसला विद्यार्थियों को अपने माता-पिता की लिखित सहमति के बाद ही कंटेनमैंट जोन से बाहर स्कूल जाने की आज्ञा बैंक ग्राहकों को ठगने वाले साईबर घोटालेबाजों के दो गिरोहों का पर्दाफाश, 6 गिरफ्तार लुधियाना जिला क्रिकेट एसो. चुनाव 17 वर्ष बाद 11 अक्तूबर को कांग्रेस ने जीरकपुर में ट्रेक्टर रैली आयोजित कर कृषि विधेयकों पर विरोध जताया बठिंडा फार्मा पार्क मेडिसन सैक्टर में चीन का एकाधिकार तोड़ेगा: मनप्रीत बादल