ENGLISH HINDI Saturday, October 31, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
उच्च गुणवत्ता वाला मलमल का मास्क लांचफसलों के अवशेष किसानों के लिए एक प्रकार से सोना, जलाने की बजाय उचित प्रबंधन चाहिएनिजी सुरक्षा एजेंसी लाइसेंसिंग प्रक्रिया 1 नवंबर से होगी ऑनलाइनबिजनेस रिफॉर्म एक्शन प्लान 31 दिसंबर तक शत-प्रतिशत कार्यान्वयन के निर्देश1 नवंबर को हरियाणा दिवस के अवसर पर करनाल में होगा राज्य स्तरीय समारोहशराब तस्करी पर शिकंजा, 1080 अंग्रेजी शराब की बोतलें से लदे ट्रक सहित एक गिरफ्तारहवाई अड्डों के विस्तार से हिमाचल में पर्यटन क्षेत्र को मिलेगा नया आयामः मुख्यमंत्री जेईई मेन्स पेपर में फर्जीवाड़े का पर्दाफाश: टॉपर, उसके पिता और तीन अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया
राष्ट्रीय

एम्स हैलीपैड परकिसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव

September 15, 2020 07:13 PM

ऋषिकेश (उत्तराखंड) रातुड़ी: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में आपदा व बड़ी सड़क दुर्घटनाओं के समय घायलों को त्वरित उपचार के लिए एयर एंबुलेंस से पहुंचाने के उद्देश्य से बने हैलीपैड को देश में हवाई सेवाओं को मान्यता प्रदान करने वाली सर्वोच्च संस्था डीजीसीए से रेग्युलर हवाई ऑपरेशन के लिए अनुमति मिल चुकी है। अब एम्स हैलीपैड पर उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के किसी भी हिस्से से आने वाली हैलीसेवा की लैंडिंग संभव हो सकेगी। गौर रहे कि है कि एम्स, ऋषिकेश देश का पहला ऐसा चिकित्सा संस्थान है, जहां एयर एंबुलेंस की लैंडिंग के लिए निजी हैलीपैड की सुविधा उपलब्ध है।
डायरेक्टर जनरल सिविल एविएशन (डीजीसीए) की एनओसी के बाद बीते माह य़हां सफलतापूर्वक ट्रॉयल लैंडिंग के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने, उड्डयन सलाहकार कैप्टन दीप श्रीवास्तव की मौजूदगी में 11 अगस्त-2020 को हैलीपैड का विधिवत उद्घाटन किया था। निदेशक एम्स प्रो.रवि कांत ने बताया कि राज्य में होने वाली आपदाओं, सड़क दुर्घटना के घायलों व सुदूर पहाड़ी इलाकों से गंभीर बीमार मरीजों की चिकित्सा सेवा के लिए एम्स संस्थान राज्य सरकार का पूर्ण सहयोग करने को प्रतिबद्ध है। एम्स में इसके लिए बनाए गए हैलीपैड को नियमितरूप से हवाई संचालन के लिए डीजीसीए की अनुमति के बाद ऐसे मरीजों के तत्काल उपचार में सहूलियत मिलेगी। एम्स हैली सर्विसेस के प्रभारी डा. मधुर उनियाल ने बताया कि डीजीसीए से संवैधानिक मान्यता के बाद अब यहां हवाई सेवाओं के नियमित संचालन में कोई तकनीकी दिक्कत नहीं वहीं, मरीजों को आईडीपीएल हैलीपैड पर उतारने से होने वाले विलंब व पेशेंट ट्रांस्पोर्टेशन से गंभीर मरीजों को होने वाले खतरों से निजात मिलेगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
उच्च गुणवत्ता वाला मलमल का मास्क लांच जेईई मेन्स पेपर में फर्जीवाड़े का पर्दाफाश: टॉपर, उसके पिता और तीन अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया प्रशासन से बाजारों में स्थाई पार्किंग बनाने की मांग राज्य उपभोक्ता झगड़ा निवारण आयोग का बिल्डर के प्रति रवैया सख्त पहली बार रात्रि में आयोग ने जारी किया आदेश, इसकी वजह यहां जानिए 15-वें वित्त आयोग ने रिपोर्ट पर विचार-विमर्श पूरा गुजरात के केवडिया में आरोग्य वन, आरोग्य कुटीर, एकता मॉल और बाल पोषण पार्क का उद्घाटन किया प्रधानमंत्री मोदी ने आई.आई.टी. रोपड़ ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के साथ दो एमओयू साइन किए नहरों में 29 अक्तूबर से 5 नवंबर तक पानी छोडऩे का प्रोग्राम जारी वैज्ञानिक डॉ. सतीश मिश्रा, राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान अकादमी के "डॉ तुलसी दास चुघ अवार्ड" से सम्मानित