ENGLISH HINDI Saturday, October 31, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
उच्च गुणवत्ता वाला मलमल का मास्क लांचफसलों के अवशेष किसानों के लिए एक प्रकार से सोना, जलाने की बजाय उचित प्रबंधन चाहिएनिजी सुरक्षा एजेंसी लाइसेंसिंग प्रक्रिया 1 नवंबर से होगी ऑनलाइनबिजनेस रिफॉर्म एक्शन प्लान 31 दिसंबर तक शत-प्रतिशत कार्यान्वयन के निर्देश1 नवंबर को हरियाणा दिवस के अवसर पर करनाल में होगा राज्य स्तरीय समारोहशराब तस्करी पर शिकंजा, 1080 अंग्रेजी शराब की बोतलें से लदे ट्रक सहित एक गिरफ्तारहवाई अड्डों के विस्तार से हिमाचल में पर्यटन क्षेत्र को मिलेगा नया आयामः मुख्यमंत्री जेईई मेन्स पेपर में फर्जीवाड़े का पर्दाफाश: टॉपर, उसके पिता और तीन अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया
पंजाब

यूनिवर्सिटिज के लिए क्षेत्र की शर्त में छूट का फैसला

September 18, 2020 10:03 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
राज्य में उच्च शिक्षा को और अधिक प्रचारित करने के उद्देश्य से पंजाब कैबिनेट ने बहु-कार्यक्षेत्र वाली यूनिवर्सिटियों के लिए बनाए गए क्षेत्र की शर्त 50000 वर्ग मीटर से घटाकर 30000 वर्ग मीटर और एक ही कार्य क्षेत्र वाली यूनिवर्सिटियों के लिए यह शर्त 20000 वर्ग मीटर से घटाकर 10000 वर्ग मीटर किये जाने का फैसला कर लिया है।
प्रवक्ता ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा हुई पंजाब मंत्रीमंडल की मीटिंग के बाद बताया कि इसी लिए ‘द पंजाब प्राईवेट यूनिवर्सिटी पॉलिसी-2010’ में संशोधन करने का फैसला भी किया गया है।    

पंजाब कोऑपरेटिव ऑडिट (ग्रुप-बी) सर्विस रूल्ज, 2016 में संशोधन को मंजूरी


यह फैसला मुख्यमंत्री की मंजूरी से उच्च शिक्षा विभाग द्वारा मुख्य सचिव के नेतृत्व में गठित की गई कमेटी की सिफारिशों के अनुसार ही लिया गया है जिससे राज्य में नयी निजी यूनिवर्सिटियों की स्थापना के लिए अलग-अलग स्पांसर पक्षों से 2010 की नीति के अलग-अलग प्रावधानों में छूट/संशोधन हेतु प्राप्त हुई अनुरोधों पर विचार किया जा सके।
प्रवक्ता ने आगे बताया कि उपरोक्त नीति के प्रावधान 4.5 (4) के अनुसार पंजाब में बहु-कार्यक्षेत्र वाली यूनिवर्सिटियों की स्थापना के लिए बनाए गए क्षेत्र सम्बन्धी शर्त 50000 वर्ग मीटर है जो कि भारत भर में सबसे ज्यादा है। इसीलिए राज्य सरकार ने फैसला किया है कि इस नीति के मौजूदा प्रावधान 4.5 (ए) (4) में संशोधन किया जाये जिससे निर्माण क्षेत्र की शर्त को घटाकर बहु-कार्यक्षेत्र वाली यूनिवर्सिटियों के पक्ष से 30000 वर्ग मीटर और एक ही कार्य क्षेत्र वाली यूनिवर्सिटियों के लिए 15000 वर्ग मीटर किया जा सके।
संशोधित नीति से उच्च शिक्षा के क्षेत्र में और ज्यादा पूँजी निवेश को बढ़ावा मिलेगा और यह उम्मीद की जा रही है कि दो और यूनिवर्सिटियाँ, जो कि वैश्विक स्तर की यूनिवर्सिटियों से जुड़ी होंगी, द्वारा पंजाब में अपने कैंपस स्थापित किये जाएंगे।
कैबिनेट द्वारा 2010 की नीति के मौजूदा प्रावधान 4.3 (जी) को भी संशोधित करने का फैसला किया गया जिससे प्रायोजित करने वाली संस्था पट्टे पर ली गई जमीन, किसी सरकारी अथॉरिटी या ग्राम पंचायत से ली गई हो, पर निजी यूनिवर्सिटी स्थापित करने की पात्र बन जायेगी। बशर्ते कि यह पट्टा या लीज कम-से-कम 33 वर्षों तक के लंबे समय के लिए हो।
यह भी ध्यान देने योग्य है कि पंजाब प्राईवेट यूनिवर्सिटी पॉलिसी-2010 में ऐसा कोई प्रावधान नहीं था जिसके अंतर्गत पट्टे पर जमीन लेकर यूनिवर्सिटी की स्थापना की जाये जबकि भारत के काफी राज्यों में जमीन की जरूरत सम्बन्धी ऐसा प्रावधान है।
पंजाब प्राईवेट यूनिवर्सिटी पॉलिसी-2010, जिसका मकसद राज्य में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता भरपूर निजी शिक्षा को उत्साहित करना है, के अंतर्गत राज्य सरकार ने अभी तक 14 यूनिवर्सिटियों को मंजूरी दी है। इनके अलावा चार और निजी यूनिवर्सिटियाँ स्थापित करने बाबत प्रस्ताव विचार अधीन हैं।
पंजाब कोऑपरेटिव ऑडिट (ग्रुप-बी) सर्विस रूल्ज में होगा संशोधन
कैबिनेट द्वारा ‘द पंजाब कोऑपरेटिव ऑडिट (ग्रुप-बी) सर्विस रूल्ज, 2016’ को संशोधित किए जाने की मंजूरी दे दी गई है और इसके अंतर्गत सीनियर सहायक (लेखा) के पद को सीनियर सहायकों में विलय किया जायेगा जिससे सहकारिता विभाग के ऑडिट विंग में काम करते सीनियर सहायक (लेखा) की तरक्कियों का रास्ता साफ हो सके। यह नियम पंजाब गजट में अधिसूचना की तारीख से प्रभावी होंगे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें