ENGLISH HINDI Friday, October 23, 2020
Follow us on
 
पंजाब

लुधियाना जिला क्रिकेट एसो. चुनाव 17 वर्ष बाद 11 अक्तूबर को

September 21, 2020 12:52 PM

लुधियाना, फेस2न्यूज:
जहाँ क्रिकेट में आईपीएल और इसके जैसे कई अन्य मुकाबले खिलाडियों को हमारे देश में एक ऐसा दर्जा देते है जहाँ लोग उनकी पूजा करना भी शुरू कर देते है वहीं राज्य और जिला के स्तर पर खिलाड़ी आज भी क्रिकेट एस्सोसिएशनस में बुनियादी प्रतिनिधित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं और उन्हें इन संस्थाओं में उन्हें मूल अधिकार प्राप्त करने के लिए भी अदालतों में लड़ाई लड़नी पड़ती है।   

पूर्व चीफ जस्टिस विजेन्द्र जैन हुए अब्र्जवर नियुक्त


पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के एक ताजा फैसले के अनुसार लुधियाना जिला क्रिकेट एसों (एलसीडीए) के चुनाव 11 अक्तूबर को होगे। यह चुनाव 17 वर्ष बाद पंजाब के पूर्व चीफ जस्टिस की निगरानी में होगे और चुनाव बिना किसी रूकावट व निष्पक्ष ढंग से करवाने हेतु जस्टिस विजेन्द्र जैन को निगरान नियुक्त किया गया है।
पंजाब के पूर्व रणजी कप्तान इंद्रजीत सिंह मल्ली समेत अन्य राज्यों व राष्ट्रीय क्रिकेटरो ने एलडीसीए के चुनाव करवाने हेतु वर्ष 2018 में मान्नीय पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायिर की थी। खिलाड़ी यह चाहते थे कि एलडीसीए के चुनाव मान्नीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंजूर की गई जस्टिस लोढा कमेटी की सिफारशों अनुसार रखी गई शर्ता अनुसार करवाई जाए। जिस पर उनको पंजाब क्रिकेट एसों (पीसीए) के सख्त एतराजो का सामना करना पड़ा था।
पीसीए ने अपनी दरखास्त में बतौर चुनाव के पर्यवेक्षक डिप्टी कमिश्नर लुधियाना कि तुलना में पंजाब / हरियाणा किसी सेवानिवृत्त चुनाव आयुक्त को अब्र्जवर लगाये जाने के लिए कहा । जबकि यह ध्यान देने योग्य और दिलचस्प तथ्य है कि डिप्टी कमिश्नर लुधियाना एलडीसीए के पुर्र्व कार्यकारी चेयरमैन है और मतदान ना करने वाले सदस्य है और बतौर डिप्टी कमिश्नर लुधियाना के अब्र्जवर नियुक्त होने पर एलडीसीए को कोई भुगतान नहीं करना पड़ता । लेकिन पीसीए ने अब्र्जवर को भुगतान करने को पहल दी और डिप्टी कमिश्नर लुधियाना के अब्र्जवर होने पर अपना एतराज़ जताया।
दोनों पार्टीयों के वकीलो की दलीले व अपीले सुनने के बाद मान्नीय हाईकोर्ट ने पुर्व चीफ जस्टिस को अब्र्जवर नियुक्त किया और यह भी आदेश दिया कि चुनाव के दौरान किसी भी गुट द्वारा एतराज उठाए गए तों उसका निपटारा करने के सारे अधिकार भी अब्र्जवर के पास ही रहेगे। यहां पर यह बता दें कि जांलधर व अमृतसर समेत अन्य 20 जिला क्रिकेट एसों के चुनाव भी कई वर्षो से नहीं हुए। पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के महत्वपूर्ण फैसलो के बाद अन्य जिलों के क्रिकेटर भी कोर्ट तक पहुंच करने की पलैनिंग बना रहे है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
अमन-शांति बहाली और साम्प्रदायिक सामांज्य स्थापित करने के लिए पुलिस भूमिका को याद किया विशेष सत्र के दौरान पंजाब विधानसभा द्वारा सात बिल पास पंजाब में धान से मक्का की खेती के लिए स्विच को प्रोत्साहित करने की योजना गिरफ्तार आरोपी की निशानदेही पर 2.01 करोड़ रूपए की नशीली दवाईयां पकड़ी चीन की सरहद पर लापता हुए सैनिक सतविन्दर सिंह कुतबा को पंजाब सरकार द्वारा शहीद करार निवेश और रोजग़ार बढ़ाने के लिए फैक्ट्री ऑर्डीनैंस को बिल में तबदील करने की मंज़ूरी पंजाब: केंद्र सरकार खिलाफ 30 किसान संगठनों का विरोध प्रदर्शन/ पीएम के पुतलों का दहन राहुल गांधी और कैप्टन द्वारा खेती कानूनों को रद्द करवाने के लिए केंद्र पर दबाव बनाने का संकल्प सरकारी हिदायतों का उल्लंघन करने पर शिक्षा मंत्री द्वारा 9 स्कूलों के एन.ओ.सीज़. रद्द पंजाब विधान सभा का सत्र 19 अक्टूबर को