ENGLISH HINDI Saturday, October 31, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
उच्च गुणवत्ता वाला मलमल का मास्क लांचफसलों के अवशेष किसानों के लिए एक प्रकार से सोना, जलाने की बजाय उचित प्रबंधन चाहिएनिजी सुरक्षा एजेंसी लाइसेंसिंग प्रक्रिया 1 नवंबर से होगी ऑनलाइनबिजनेस रिफॉर्म एक्शन प्लान 31 दिसंबर तक शत-प्रतिशत कार्यान्वयन के निर्देश1 नवंबर को हरियाणा दिवस के अवसर पर करनाल में होगा राज्य स्तरीय समारोहशराब तस्करी पर शिकंजा, 1080 अंग्रेजी शराब की बोतलें से लदे ट्रक सहित एक गिरफ्तारहवाई अड्डों के विस्तार से हिमाचल में पर्यटन क्षेत्र को मिलेगा नया आयामः मुख्यमंत्री जेईई मेन्स पेपर में फर्जीवाड़े का पर्दाफाश: टॉपर, उसके पिता और तीन अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया
पंजाब

बासमती के लिए मंडी और ग्रामीण विकास फीस घटाने का ऐलान

September 22, 2020 08:17 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
नए कृषि बिलों की व्यवस्थाओं के मद्देनजऱ पंजाब और बाहर के बासमती व्यापारियों और मिल्लरों को समान अवसर प्रदान करने के लिए रास्ता साफ करते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज मंडी विकास फीस (एम.डी.एफ.) और ग्रामीण विकास फीस (आर.डी.एफ.) की दरें 2 प्रतिशत से घटाकर 1 प्रतिशत करने का ऐलान किया है।
एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि यह कदम जहाँ अंतरराष्ट्रीय मार्केट में पंजाब की बासमती को मुकाबले में रखने के लिए सहायक होगा, वहीं बासमती व्यापारियों/मिल्लरों को 100 करोड़ की राहत भी मुहैया करवाएगा। हालाँकि, यह बदलाव इस शर्त पर है कि राज्य से बासमती धान की फ़सल/चावल अन्य मुल्कों में निर्यात करने के लिए किसी भी धान /चावल डीलर /मिल मालिक /व्यापारी को किसी फीस की वापसी की इजाज़त नहीं दी जायेगी।
मुख्यमंत्री ने यह ऐलान पंजाब मंडी बोर्ड के प्रस्ताव पर गौर करते हुए किया। मंडी बोर्ड ने यह प्रस्ताव पंजाब राईस मिलर्स एंड ऐक्सपोर्टर्स एसोसिएशन और पंजाब बासमती राईस मिलर्स एंड ऐक्सपोर्टर्स एसोसिएशन से प्राप्त हुए आवेदनों की विस्तार में जाँच पड़ताल करने के बाद तैयार किया।
पंजाब राईस मिलर्स एंड ऐक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ने अपने पत्र में कहा कि कृषि ऑर्डीनैंस लागू हो रहे हैं और बासमती का उत्पादन करने वाले राज्यों के दरमियान फीस और अन्य दरों में लगभग 4 प्रतिशत का अंतर पैदा हो जायेगा। पंजाब में चावल उद्योग के लिए आर्थिक तौर पर यह व्यावहारिक नहीं है क्योंकि वह हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में चावल निर्यातकों के साथ मुकाबला नहीं कर सकेंगे जिनको कृषि उत्पाद पर मंडी फीस से पूरी तरह मुक्त किया हुआ है।
एसोसिएशन ने यह भी अपील की कि पंजाब से सम्बन्धित निर्यातक टैक्सों की अतिरिक्त लागत को पूरा नहीं कर सकेंगे जो 4 प्रतिशत से अधिक है जिस कारण यह उनको कारोबार में बने रहना बहुत मुश्किल बनाता है। यह रुझान उनको हरियाणा, यू.पी. और दिल्ली में दूसरे व्यापारियों के साथ मुकाबले में बने रहने के लिए दूसरे राज्यों से धान की फ़सल खरीदने के लिए मजबूर करेगा।
पंजाब मंडी बोर्ड के बेहतरीन मंडी बुनियादी ढांचे का जि़क्र करते हुए एसोसिएशन ने राज्य सरकार से अपील की कि पंजाब के चावल उद्योग का दूसरे राज्यों के साथ मुकाबला बनाए रखने के लिए पहली खरीद पर बाकी सभी दरें जो इस समय वसूली जा रही हैं, की बजाय 0.35 प्रतिशत से एक प्रतिशत उपयोग लागत/मंडी फीस को लागू किया जाये।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें