ENGLISH HINDI Sunday, October 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
बरौदा उपचुनाव के दौरान हरियाणा में प्रशासनिक फेरबदल दस साल तीन खरीदारों को प्लाट नहीं देने पर प्रीत लैंड डेवलपर एंड प्रोमोटर मोहाली को भुगतना होगा खामियाजाइलेक्ट्रॉनिक्स गोदाम में चोरी की नाकाम कोशिश दुकानदारों में दहशत का माहौल लीलाधर शर्मा ने किया भारत पाक सीमा पर सर्वधर्म स्थल निर्माण का भूमि पूजनबस क्यू शेल्टर बनाना भूला प्रशासन व नगर निगम: कांग्रेसभाजपा: झूठ, फरेब और खोखले दावों का लॉलीपॉप, कांग्रेसी नेता परमजीत सिंह ने जनता को चेताया, जाग जाओ कृषि कानूनों के मुद्दे पर बार-बार यू-टर्न लेने से सुखबीर का नैतिकता रहित चेहरा बेनकाबकाव्य संग्रह "खुशबू रिश्तों की का हुआ विमोचन"
पंजाब

प्री-प्राईमरी अध्यापकों के 8393 पद भरने की मंज़ूरी, वॉलंटियरों को मिलेगी छूट

September 23, 2020 08:11 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब मंत्रीमंडल द्वारा 8393 प्री-प्राईमारी अध्यापकों के पद भरने को मंज़ूरी दे दी गई है जिस बारे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि इससे प्री-प्राईमारी सरकारी स्कूलों में दाखि़लों की संख्या बढ़ेगी और वह निजी संस्थाओं के साथ और ज्यादा असरदार ढंग से मुकाबला कर सकेंगे।
कैबिनेट द्वारा यह भी फ़ैसला किया गया कि प्री-प्राईमारी अध्यापकों की भर्ती के समय शिक्षा विभाग में काम करते मौजूदा तजुर्बेकार वॉलंटियरों को विशेष प्राथमिकता और उम्र में छूट दी जाये। कैबिनेट की तरफ से प्री-प्राईमारी स्कूल अध्यापकों के लिए विभागीय सेवा नियमों को भी मंजूरी दे दी गई।
मुख्यमंत्री ने वर्चुअल कैबिनेट मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए बताया कि हालाँकि इस समय कुल 12000 प्री-प्राईमारी अध्यापकों की ज़रूरत है परन्तु राज्य की वित्तीय स्थिति देखते हुए वित्त विभाग इन सभी पदों के लिए भर्ती नहीं कर सकता। सरकारी स्कूलों में प्री-प्राईमारी अध्यापन प्रणाली को मज़बूत करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए उन्होंने कहा कि बाकी रहती भर्ती जल्द ही पूरी करने के लिए समूचे यत्न किये जाएंगे।
मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्री-प्राईमारी स्कूल अध्यापकों के इन 8393 पदों के लिए मौजूदा समय में 30 विद्यार्थियों के पीछे एक अध्यापक की नियुक्ति का अनुमान लगाया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से इन अध्यापकों के पदों के लिए इश्तिहार देने से पहले पूर्ण रूप में रैशनेलाईज़ेशन यकीनी बनाई जायेगी।
कैबिनेट की तरफ से स्कूल शिक्षा विभाग के उस प्रस्ताव को भी मंज़ूरी दे दी गई जिसके अंतर्गत वॉलंटियरों जैसे कि शिक्षा प्रोवाईडरों /एजुकेशन प्रोवाईडरों /एजुकेशन वॉलंटियरों, ई.जी.एस. वॉलंटियरों, ए.आई.ई. वॉलंटियरों और स्पेशल ट्रेनिंग रिसोर्स (एस.टी.आर.) वॉलंटियरों आदि को अधिकतम आयु सीमा में छूट दी जायेगी जोकि अलग-अलग शिक्षा स्कीमों /प्रोग्रामों के अंतर्गत निश्चित मेहनताने पर काम कर रहे हैं और विभाग की तरफ से प्री-प्राईमरी अध्यापकों या ई.टी.टी. अध्यापकों की रेगुलर भर्ती हेतु इश्तिहार देने के समय तक काफ़ी ज़्यादा तजुर्बा हासिल कर चुके हैं। इसके अलावा ऐसे वॉलंटियरों को अधिक से अधिक 10 अंकों की सीमा तक 1 अंक प्रति वर्ष के हिसाब से विशेष प्राथमिकता दी जा सकती है।
इन 8393 अध्यापकों के परखकाल के समय तक अर्थात पहले तीन वर्षों तक सालाना 103.73 करोड़ रुपए का ख़र्च आएगा जबकि इनकी तरफ से परखकाल का समय पूरा करने के बाद सालाना 374.20 करोड़ रुपए का वित्तीय खर्चा होगा।
ध्यान देने योग्य है कि बच्चों के मुफ़्त और अनिवार्य शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009 (आर.टी.ई.) के अंतर्गत 6-14 वर्षों के उम्र वर्ग में आते हर बच्चे को मुफ़्त और अनिवार्य शिक्षा का उसके पड़ोस के स्कूल में एलिमेंट्री स्तर तक हासिल करने का अधिकार है। हालाँकि, 3-6 वर्षों के उम्र वर्ग के अंतर्गत आते प्री-प्राइमरी स्कूली बच्चों की शिक्षा आर.टी.ई. ऐक्ट के अंतर्गत अनिवार्य नहीं है परन्तु इसको संविधान के आर्टीकल 45 (निर्देशक सिद्धांत) में शामिल किया गया है जिसके अंतर्गत 6 वर्षों की उम्र पूरी होने तक हर बच्चे को संभाल और शिक्षा की ज़रूरत है।
सरकारी स्कूलों में बच्चों का दाखिला 2019-20 और 2020-21 को छोडक़र साल दर साल कम हो रहा है। सरकारी स्कूलों में बच्चों के घटते दाखि़लों के पीछे कई कारणों में से एक यह है कि माता-पिता द्वारा छोटी उम्र अर्थात 6 वर्ष से कम में ही अपने बच्चों को स्कूल भेज दिया जाता है जबकि आर.टी.ई. एक्ट के अनुसार और पहले सामने लाई जा चुकी सरकारी नीति के अनुसार 6 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को सरकारी स्कूलों में दाखि़ल नहीं किया जा सकता।
यह महसूस करते हुए कि समूचे रूप में बच्चों के बचपन के दौरान प्राथमिक संभाल और शिक्षा की ज़रूरत है, कैबिनेट की तरफ से मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की अध्यक्षता में हुई 20 सितम्बर, 2017 की मीटिंग में सभी सरकारी प्राइमरी स्कूलों में 3-6 साल वर्ग के बच्चों को शिक्षा देने के लिए प्री-प्राईमरी क्लासें शुरू करने को मंज़ूरी दे दी गई थी जिसकी शुरुआत नवंबर 14, 2017 को राज्य के सभी प्राईमरी स्कूलों में हो गई थी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दस साल तीन खरीदारों को प्लाट नहीं देने पर प्रीत लैंड डेवलपर एंड प्रोमोटर मोहाली को भुगतना होगा खामियाजा इलेक्ट्रॉनिक्स गोदाम में चोरी की नाकाम कोशिश दुकानदारों में दहशत का माहौल कृषि कानूनों के मुद्दे पर बार-बार यू-टर्न लेने से सुखबीर का नैतिकता रहित चेहरा बेनकाब मिलावटी खाद्य पदार्थों की जांच के लिए विशेष मुहिम का आगाज़ पंजाब शहरी आवास योजना के लिए वैब पोर्टल की शुरूआत प्राचार्यों, मुख्य अध्यापकों और ब्लॉक प्राथमिक शिक्षा अधिकारियों के 585 पद भरने की प्रक्रिया शुरू खाद्य सुरक्षा से परे सोचना चाहिए और किसानों को आय सुरक्षा देनी चाहिए: बदनौर पंजाब: ‘‘ट्रांस-फैट फ्री दीवाली’’ मुहिम की शुरूआत पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग द्वारा गाँव जलालपुर मामले में एस.एस.पी. होशियारपुर से रिपोर्ट तलब अमन-शांति बहाली और साम्प्रदायिक सामांज्य स्थापित करने के लिए पुलिस भूमिका को याद किया