ENGLISH HINDI Sunday, March 07, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
ब्रह्मकुमारीज की शाखा ने हर्षोल्लास और श्रद्धाभाव से मनाया महाशिवरात्रि पर्वदलित परिवार लडक़ी को हवस का शिकार बनाने वाले आरोपितों को फांसी की सजा दिलाने दलित संगठन ने राष्ट्रपति से लगाई गुहारमन को शक्तिशाली बनाते हैं सकारात्मक संकल्पवूमेन एंड चाइल्ड वेलफेयर सोसाइटी ने विधवा महिलाओं को हर महीने राशन देने का उठाया बीड़ाभारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व : सुमिता कोहलीन्यू मलौया कॉलोनी वासियों ने भाजपा सांसद के खिलाफ किया प्रदर्शन इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्गजन्मदोष का शीघ्र पता लगाने के लिए प्रसव पूर्व परीक्षण का महत्व अहम: डॉ.गुरजीत कौर
शहर में क्या, कब, कहाँ?

अटल टनल का 3 अक्टूबर उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

October 02, 2020 12:08 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी 3 अक्टूबर 2020 को प्रात:10 बजे रोहतांग में अटल टनल का उद्घाटन करेंगे। अटल टनल दुनिया की सबसे लंबी राजमार्ग टनल है। यह टनल 9.02 किलोमीटर लंबी है। यह पूरे साल मनाली कोलाहौल-स्पीति घाटी से जोड़कर रखती है। इससे पहले यह घाटी भारी बर्फबारी के कारण लगभग 6 महीने तक अलग-थलग रहती थी।
यह टनल हिमालय की पीर पंजाल श्रृंखला में औसत समुद्र तल (एमएसएल) से 3000 मीटर (10,000 फीट) की ऊंचाई पर अति-आधुनिक विनिर्देशों के साथ बनाई गई है।
यह टनल मनाली और लेह के बीच सड़क की दूरी 46 किलोमीटर कम करती है और दोनों स्‍थानों के बीच लगने वाले समय में भी लगभग 4 से 5 घंटे की बचत करती है।
अटल टनल का दक्षिण पोर्टल (एसपी) मनाली से 25 किलोमीटर दूर 3060 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, जबकि इसका उत्तर पोर्टल (एनपी) लाहौल घाटी में तेलिंगसिस्सुगांव के पास 3071 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।
यह घोड़े की नाल के आकार में 8 मीटर सड़क मार्ग के साथ सिंगल ट्यूब और डबल लेन वाली टनल है। इसकी ओवरहेड निकासी 5.525 मीटर है।
यह 10.5 मीटर चौड़ी है और इसमें 3.6x 2.25 मीटर फायर प्रूफ आपातकालीन निकास टनल भी है, जिसे मुख्य टनल में ही बनाया गया है।
अटल टनल को अधिकतम 80 किलोमीटर प्रति घंटे की गति के साथ प्रतिदिन 3000 कारों और 1500 ट्रकों के यातायात घनत्‍व के लिए डिजाइन किया गया है।
यह टनल सेमी ट्रांसवर्स वेंटिलेशन सिस्टम,एससीएडीएनियंत्रित अग्निशमन, रोशनी और निगरानी प्रणाली सहित अति-आधुनिक इलेक्‍ट्रो-मैकेनिकल प्रणाली से युक्‍त है।
इस टनल में पर्याप्त सुरक्षा सुविधाएं उपलब्‍ध हैं। इसकी कुछ प्रमुख विशेषताओं में—
(ए) दोनों पोर्टल पर टनल प्रवेश बैरियर।
(बी) आपातकालीन संचार के लिए प्रत्येक 150 मीटर दूरी पर टेलीफोन कनेक्शन।
(सी) प्रत्येक 60 मीटर दूरी पर फायर हाइड्रेंट तंत्र।
(डी) प्रत्येक 250 मीटर दूरी पर सीसीटीवी कैमरों से युक्‍त स्‍वत: किसी घटना का पता लगाने वाली प्रणाली लगी है।
(ई) प्रत्येककिलोमीटर दूरी पर वायु गुणवत्ता निगरानी।
(एफ) प्रत्येक 25 मीटर परनिकासी प्रकाश/निकासी संकेत।
(जी) पूरीटनल में प्रसारण प्रणाली।
(एच) प्रत्‍येक 50 मीटर दूरी पर फायर रेटिड डैम्पर्स।
(आई) प्रत्येक 60 मीटर दूरी पर कैमरे लगे हैं।
जब स्‍वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे तब 03 जून, 2000 को रोहतांग दर्रे के नीचे एक रणनीतिक टनल का निर्माण करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया था। टनल के दक्षिण पोर्टल की पहुंच रोड़ की आधारशिला 26 मई, 2002 रखी गई थी।
सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने प्रमुख भूवैज्ञानिक, भूभाग और मौसम की चुनौतियों पर काबू पाने के लिए अथक परिश्रम किया।इन चुनौतियों मे सबसे कठिन प्रखंड 587 मीटर लंबा सेरी नाला फॉल्ट जोन शामिल है, दोनों छोर परसफलता 15 अक्टूबर, 2017 को प्राप्‍त हुई थी।
प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक 24 दिसम्‍बर 2019 को आयोजित हुई थी, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा दिए गए योगदान को सम्‍मान प्रदान करने के लिए रोहतांग टनल का नाम अटल टनल रखने का निर्णय लिया गया था।
प्रधानमंत्री श्री मोदी मनाली में अटल टनल केदक्षिण पोर्टल केउद्घाटन समारोह में शामिल होने के बाद लाहौल स्‍पीति के सिस्‍सु गांव तथा सोलंग घाटी में आयोजित होने वाले सार्वजनिक समारोहों में भी शामिल होंगे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और शहर में क्या, कब, कहाँ? ख़बरें
मोहाली फेस 1 में दशम गुरू श्री गोबिंद सिंह के प्रकाशोत्व के उपलक्ष्य में श्री सुखमणि साहिब का पाठ 3 जनवरी को स्व. रमेश भुसरी का रस्म चौथा व उठाला 7 को कांग्रेस नेता परमजीत सिंह की माता किरपाल कौर अवेजा की अंतिम अरदास और भोग 26 नवंबर को गरुड़ पुराण पाठ व रस्म पगड़ी 26 नवंबर को राम भवन में 2 नवंबर को लगेगा माता मनसा देवी मार्केट में 11वां रक्तदान शिविर हरियाणा मंत्रिमण्डल की बैठक 16 अक्तूबर को सुमति मल्होत्रा की रस्म क्रिया आज गुरुद्वारा नानकसर में ज्याति जोत दिवस का भोग व समापन समारोह 14 सिंतबर को पंजाब विधानसभा का सत्र 28 अगस्त को जीरकपुर में फिर बिजली संकट, 13 अगस्त को सुबह 8 से शाम 6 बजे तक बिजली बंद रहेगी