ENGLISH HINDI Thursday, April 22, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मोटर मार्केट के पूर्व चेयरमैन खालिद खान ने कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लीफैनकोड आईपीएल की सभी 8 टीमों की ऑफिशियल मर्चेंडाइज की पेशकश करने वाला एकमात्र प्लेटफार्म बनाहरियाणा में लॉकडाउन लगाने का कोई निर्णय नहीं: मलिकविजीलैंस ब्यूरो ने मार्च महीने दौरान रिश्वख़ोरी के मामलों में शामिल 11 मुलाजिमों को किया काबूअध्यापकों की तबादला नीति को वैधानिक रूप देने के लिए कानून बनाने की सैद्धांतिक मंजूरी31वां स्थापना दिवसः ट्राइडेंट देशभर में खोलेगा 6 नए एक्सक्लुसिव शोरूमईएमआरएस परीक्षा स्थगित, एकलव्य माॅडल आवासीय विद्यालय भी रहेंगे बंदग्राहक से कैरी बैग की कीमत वसूलने पर उपभोक्ता आयोग ने डी-मार्ट कंपनी को लगाया जुर्माना
व्यापार

युवा कश्मीरी उद्यमी जोड़े ने ब्रांडेड केसर का उत्पादन करने के लिए शुरू किया स्टार्टअप

November 05, 2020 08:11 PM

जम्मू एवं कश्मीर में केसर की खेती के लिए भारत सरकार के आर्थिक पैकेज से उत्साहित युवा कश्मीरी जोड़े ने लॉन्च किया ब्रांडेड केसर, उद्यमी जोड़े ने चंडीगढ़ स्थित कंपनी के साथ किया टाई-अप

चंडीगढ़, अनुराधा कपूर

दो युवा कश्मीरी उद्यमियों ने ब्रांडेड केसर (केसर) संबंधी एक स्टार्टअप शुरू किया है। श्रीनगर के हिलाल अहमद मलिक और जुनैद गुलजार बाफंदा ने न्यू जैनरेशन एग्रो की स्थापना की है, जिसके बैनर तले वे दुनिया के सबसे महंगे स्पाइस - केसर का उत्पादन करेंगे। स्टार्टअप ने जम्मू एवं कश्मीर के पम्पोर में 30 एकड़ भूमि की व्यवस्था की है।

न्यू जैनरेशन एग्रो के सह-संस्थापक हिलाल अहमद मलिक ने कहा, 'पम्पोर का केसर दुनिया में सबसे अच्छी गुणवत्ता वाला माना जाता है। हमने आज अपने सैफ्रन ब्रांड अबू केसर का अनावरण किया है, जिसकी खासियत है इसकी उम्दा क्वालिटी। यह केसर का सबसे शुद्ध रूप है, जिसे ऑर्गेनिक रूप से पैदा किया जाता है।

केसर की शुद्धता और प्रमाणिकता का अंदाजा उसके गहरे प्राकृतिक लाल रंग और सुगंध से सिद्ध होती है। समुद्र तल से 1600 मीटर से 1800 मीटर की ऊंचाई पर इसकी खेती की जाती है और इसे हाथ से चुना जाता है। हमारा लक्ष्य हर साल 50 किलोग्राम केसर का उत्पादन करने का है।

हिलाल और जुनैद ने चंडीगढ़ स्थित कंपनी वीग्रो मैगामार्ट के साथ करार किया है, जो चंडीगढ़, पंजाब, उत्तर भारतीय राज्यों और भारत के अन्य क्षेत्रों में तथा दूसरे चरण में पूरे भारत में केसर की मार्केटिंग व वितरण करेगी।

वीग्रो मैगामार्ट के सह-संस्थापक निखिल बंसल ने कहा, 'संगठित रूप से कश्मीर के केसर के मार्केटिंग मॉडल से निश्चित रूप से जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा और घाटी के छोटे व सीमांत किसानों को लाभ कमाने में मदद मिलेगी। दूसरी ओर, उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर शुद्ध कश्मीरी केसर मिल सकेगा। फिलहाल केसर का एक बड़ा असंगठित बाजार है और बाजार में बहुत तरह का नकली केसर बेचा जा रहा है। हमारे उद्यम से इस प्रवृत्ति पर रोक लग सकती है। '

वीग्रो मेगामार्ट के सह-संस्थापक विशाल बंसल, ने कहा, 'चंडीगढ़ में अबू केसर के लॉन्च के साथ, हम पंजाब में सालाना लगभग 3-4 करोड़ रुपये के कारोबार की उम्मीद कर रहे हैं। चूंकि चंडीगढ़ की लोकेशन ऐसी है कि यह पंजाब, हरियाणा व हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों के लिए एक प्रवेश द्वार की तरह है, इसलिए हम यहां अपना गोदाम स्थापित करेंगे और फिर पारंपरिक रूप से सी एंड एफ और पंजाब व पड़ोसी राज्यों जैसे हिमाचल, हरियाणा, उत्तर प्रदेश व दिल्ली आदि में वितरकों के माध्यम से अपने उत्पाद का विस्तार करेंगे। हमारे वितरण का एक अन्य पहलू यह होगा कि हम ई-कॉमर्स के जरिये 25 से 30 प्रतिशत केसर की बिक्री सीधे किसान से ग्राहक तक पहुंचाएंगे।

उल्लेखनीय है कि दोनों कंपनियों के बीच गठजोड़ जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था को गति देगा और कश्मीरी युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खोलेगा। यह सहयोग एक उदाहरण के रूप में भी काम करेगा, और इसकी तर्ज पर जेएंडके के अन्य उद्यमी भी देश भर में अपने व्यवसायों को फैला सकेंगे, जिससे राज्य की अर्थव्यवस्था को अधिक मजबूती मिलेगी और जेएंडके के रास्ते में आ रही तमाम समस्याओं का समाधान निकल सकेगा।

यहां यह बताना उचित होगा कि भारत सरकार ने इस वर्ष केसर उत्पादकों को केसर के अधिकाधिक उत्पादन और संरक्षण हेतु रु 411 करोड़ की आर्थिक सहायता दी है। सिर्फ वर्तमान सरकार ही नहीं, 2010 में भी भारत सरकार ने रु 372 करोड़ की आर्थिक सहायता प्रदान की थी, ताकि केसर का उत्पादन प्रति हेक्टेयर 3 किलोग्राम से बढ़ाकर 5 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर किया जा सके।

न्यू जैनरेशन एग्रो के दूसरे सह-संस्थापक जुनैद गुलजार बाफंदा ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर में केसर के उत्पादन की बहुत अधिक गुंजाइश है। दुनिया में केसर का कुल उत्पादन 325 टन है, जिसमें 90 प्रतिशत उत्पादन ईरान में होता है। भारत एक साल में 3 टन से अधिक सकल उत्पादन के साथ केसर की खेती में चौथे स्थान पर है। इस क्षेत्र में भारत सरकार के आर्थिक सहयोग से उत्पादन में कई गुना वृद्धि हो सकती है। '

वीग्रो मैगामार्ट के सह-संस्थापक निखिल बंसल ने कहा, 'संगठित रूप से कश्मीर के केसर के मार्केटिंग मॉडल से निश्चित रूप से जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा और घाटी के छोटे व सीमांत किसानों को लाभ कमाने में मदद मिलेगी। दूसरी ओर, उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर शुद्ध कश्मीरी केसर मिल सकेगा। फिलहाल केसर का एक बड़ा असंगठित बाजार है और बाजार में बहुत तरह का नकली केसर बेचा जा रहा है। हमारे उद्यम से इस प्रवृत्ति पर रोक लग सकती है। '

ब्रांडेड केसर दिखाते हुए, प्रेस मीट के दौरान कश्मीरी उद्यमियों ने असली और नकली केसर के बीच अंतर बताने के लिए एक डिमोंस्ट्र्रेशन करके दिखाया। दोनों ने केसर के स्वास्थ्य लाभों के बारे में भी जानकारी दी और बताया कि यह कोविड महामारी के बीच शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद कर सकता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और व्यापार ख़बरें
ट्राइडेंट ग्रुप को मिला ग्लोबल बेस्ट एम्प्लॉयर ब्रांड अवार्ड ब्लू स्टार अपने कॉमर्शियल रेफ्रिजरेशन व्यवसाय का करेगा विस्तार एलांते मॉल ने क्रिसमस वीकएंड पर फ्लैट 50 फीसदी की छूट की घोषणा की बनारस सिल्क साडि़यों का केन्द्र— साडि़यों की विशेषताएं स्टार्टअप इंडिया कंपनी ने पेश किया "लियोज ऑक्सी वाटर" कोविड बीमारी से लडऩे व इम्युनटी बढ़ाने हेतु मिल्कफैड द्वारा वेरका हल्दी दूध लांच एम.ई.टी.एल क्षेत्र में जापानी कंपनी टीसुजुकी का बड़ा निवेश विप्रो ने लान्च किया सेफवाश एंटी-जर्म लिक्विड डिटरजैंट कोविड 19 के कहर के बीच लॉंच किया होम्योपैथिक सेनेटाइजर "बलिस 99" द टॉप थाई ब्रांड्स 2020 का चंडीगढ़ के हिमाचल भवन में हुआ उद्घाटन