ENGLISH HINDI Thursday, January 21, 2021
Follow us on
 
पंजाब

किसानों द्वारा सोमवार से रेल रोको मुकम्मल तौर पर हटाने का ऐलान

November 21, 2020 07:52 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
किसान यूनियनों ने मुख्यमंत्री की विनती पर सोमवार (23 नवंबर) से सभी रेल रोकें ख़त्म करने का ऐलान किया। इसके साथ दो महीनों बाद राज्य में यात्री और मालगाड़ीयाँ दोनों फिर से चलाने के लिए रास्ता साफ हो गया।
ऐलान के तुरंत बाद मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार को राज्य में सभी रेल सेवाएं बहाल करने और कृषि कानूनों संबंधी पैदा हुए संकट को हल करने के लिए किसान नुमायंदों के साथ आगे बातचीत करने की अपील की।
रेल रोकें हटाने के फ़ैसला का ऐलान भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल) के प्रधान बलबीर सिंह राजेवाल द्वारा किसान यूनियनों के नुमायंदों की मुख्यमंत्री के साथ मीटिंग के उपरांत किया। यह मीटिंग मुख्यमंत्री द्वारा केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा किए जा रहे प्रदर्शनों के अंतर्गत लगाई गईं रेल रोकों के कारण पैदा हुई जटिल स्थिति को हल करने के लिए की गई थी। हालाँकि श्री राजेवाल ने चेतावनी दी कि अगर केंद्र सरकार अगले 15 दिनों में किसान नुमायंदों के साथ बातचीत करने में असफल रही तो रेल रोकें फिर लगा दी जाएंगी। किसान नेताओं ने पंजाब की सभी राजसी पार्टियों को केंद्रीय कृषि कानूनों के मुद्दे पर राजनीति करने की बजाय इन कानूनों के खि़लाफ़ एकजुट होकर किसानों के संघर्ष की हिमायत करने की अपील की। यह मुद्दा पंजाब के लिए गंभीर चिंता का विषय है।
मुख्यमंत्री ने किसान नेताओं को विश्वास दिलाया कि वह उनकी माँगों के लिए दबाव डालने के लिए प्रधानमंत्री और केंद्रीय गृह मंत्री से जल्द ही मिलेंगे।
कैप्टन ने किसान नुमायंदों से वायदा किया कि वह उनकी अन्य माँगें भी देखेंगे जिनमें गन्ने की कीमत में वृद्धि, बकाए की अदायगी और अवशेष जलाने के मामले में दर्ज एफ.आई.आरज़ रद्द करनी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि वह इन मुद्दों पर अगले एक हफ्ते में बातचीत करेंगे और इस मामले पर विचार-विमर्श के लिए अधिकारियों की एक कमेटी बनाएंगे।
उन्होंने कहा कि यदि रेल सेवाएं बहाल न हुई तो राज्य को बहुत सी मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा और पंजाब के हित में यही होगा कि रेल सेवा जल्द से जल्द शुरू की जाए। रेल रोकों से अब तक राज्य को 40,000 करोड़ रुपए का घाटा पड़ा है।
ज़रूरी वस्तुओं समेत कोयला, खाद, युरिया की कमी का जि़क्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कच्चे माल की कमी के कारण लुधियाना और जालंधर में बड़ी संख्या में यूनिट बंद हो चुके हैं, जिससे 6 लाख प्रवासी कामगार अपने-अपने पैतृक राज्यों को वापस जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान द्वारा ड्रोनों के द्वारा हथियार, नशे, नकली करंसी भेजी जा रही है और पंजाब के सरहद पर बड़ी संख्या में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि तत्काल ज़रूरत पडऩे पर किसान मदद के लिए कॉर्पोरेटों के पास नहीं जा सकते और उन्होंने दशकों पुराने कृषि मंडीकरण प्रणाली को बरकरार रखने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया, जो किसानों और आढ़तियों के दरमियान नज़दीकी रिश्ते की बुनियाद है। उन्होंने आगे कहा कि यदि मंडी बोर्ड की फीस आनी रुक गई, जैसा केंद्र द्वारा इरादा किया गया है, तो राज्य अपने ग्रामीण बुनियादी ढांचे को किस तरह चलाएगा।
किसानों के हितों की रक्षा हर कीमत पर करने का प्रण लेते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा लाए गए बिलों का मनोरथ केंद्रीय कानूनों के बुरे प्रभाव को संवैधानिक तौर पर बेअसर करना है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
गणतंत्रता दिवस पर सुरक्षा को लेकर महिला पुलिस फ्रंटलाईन पर ‘आप’ ने 26 जनवरी के ‘किसान ट्रैक्टर परेड’ के समर्थन का किया ऐलान आप प्रतिनिधिमंडल निकाय चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयुक्त से मिला 200 जरूरतमंद परिवारों को बांटे जूते और दवाईया तीन अलग-अलग गिरोहों के पांच सदस्य हथियार,जाली भारतीय करंसी और चोरी के वाहनों सहित काबू आंदोलनकारी किसानों को धमकाना मोदी सरकार का बेहद शर्मनाक कार्य: मान पंजाब के विश्वविद्यालय और महाविद्यालय 21 जनवरी से पूर्ण रूप में खोले जाएंगे एडीजीपी राय ने मुनीष जिन्दल द्वारा सामयिक घटनाओं बारे लिखी किताब ‘द पंजाब रिव्यू’ की रीलीज़ क्या ये किसान अलगाववादी व आतंकवादी लगते हैं? कैप्टन का केंद्र सरकार से सवाल भारत रत्न गुलजारी लाल नन्दा फ़ाउंडेशन की पंजाब इकाई के प्रबंध संयोजक होंगे बरनाला के एडवोकेट कपिल