ENGLISH HINDI Thursday, January 21, 2021
Follow us on
 
राष्ट्रीय

अंडमान सागर में त्रिपक्षीय शांतिकालीन युद्धाभ्‍यास सिटमैक्‍स-20

November 23, 2020 01:37 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
भारतीय नौसेना के स्‍वदेश निर्मित एएसडब्‍ल्‍यू कोर्वेट ‘कामोरता’ और मिसाइल कोर्वेट ‘करमुख’ पोत भारत सिंगापुर और थाईलैंड के त्रिपक्षीय शांतिकालीन युद्धाभ्‍यास सिटमैक्‍स-20 के दूसरे संस्‍करण में भाग लिया। यह अभ्‍यास अंडमान सागर में 21-22 नवम्‍बर को हुआ।
भारतीय नौसेना द्वारा आयोजित सिटमैक्‍स का पहला संस्‍करण सितम्‍बर, 2019 को पोर्ट ब्‍लेयर से कुछ दूर सागर में किया गया था। सिटमैक्‍स श्रृंखला के यह अभ्‍यास भारतीय नौसेना, रिपब्लिक ऑफ सिंगापुर नेवी (आरएसएन) और रॉयल थाई नेवी (आरटीएन) के बीच परस्‍पर श्रेष्‍ठ सहयोग और अंतर संचालन क्षमता के विकास के लिए आयोजित किए जाते हैं। 2020 के संस्‍करण के अभ्‍यास का आयोजन आरएसएन ने किया है।
अभ्‍यास में आरएसएन की ओर से उसके ‘दुर्जेय’ श्रेणी के फ्रिगेट ‘इंटरपिड’ और ‘एन्‍ड्योरेन्‍स’ श्रेणी के टैंक लैंडिंग शिप ‘एन्‍डेवर’ तथा आरटीएन की ओर से चाओ फ्राया श्रेणी का फ्रिगेट ‘काराबुरी’ भाग लिया।
यह अभ्‍यास कोविड-19 महामारी के मद्देनजर बिना किसी संपर्क के, सिर्फ सागर में (नॉन कॉन्‍टैक्‍ट, एट सी ऑनली) आयोजित किया जा रहा है। इसका लक्ष्‍य तीनों मित्र देशों और शांतिकालीन पड़ोसियों के बीच शांतिकाल में समन्‍वय, सहयोग और साझेदारी का विकास करना है। दो दिन के इस शांतिकालीन अभ्‍यास में तीनों नौसेनाएं सतह पर युद्ध अभ्‍यास, हथियारों से फायरिंग और नौसैनिक करतब जैसे विभिन्‍न अभ्‍यास करती रही हैं।
इन मित्र नौसेनाओं के बीच अंतर संचालनीयता में सुधार लाने के अलावा सिटमैक्‍स श्रृंखला के अभ्‍यासों का उद्देश्‍य न सिर्फ परस्‍पर विश्‍वास को सुदृढ करना है बल्कि क्षेत्र में शांतिकाल में सुरक्षा को बढ़ाने के लिए आपसी समझदारी और प्रक्रियाओं के विकास को भी सुदृढ़ करना है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
यात्री और माल वाहनों की आवाजाही पर पड़ोसी देशों के साथ समझौता जेईई (मुख्य) परीक्षा ‘कक्षा 12 में 75 प्रतिशत अंक’ की पात्रता शर्त से दी गई छूट 23 जनवरी को हर साल “पराक्रम दिवस” के रूप में मनाने की घोषणा शेल इंडिया के तरलीकृत प्राकृतिक गैस एलएनजी की ट्रक लदान यूनिट का उद्घाटन भारत- फ्रांस वायुसैनिक अभ्यास डेजर्ट नाइट-21 दुर्घटनाओं में घायलों को मदद पहुॅचाने वालों को सम्मानित करने की अभिनव पहल शुरू रेलवे के माध्‍यम से उन इलाकों को जोड़ रहे हैं जो पीछे छूट गए: प्रधानमंत्री 'आत्मवत् सर्वभूतेषु' के दिव्य सूत्र के साथ कुम्भ में सहभागः स्वामी चिदानन्द सरस्वती लोकपरंपरा व संस्कृति के रंगों से सराबोर हुई कुंभनगरी ब्रिटेन प्रधानमंत्री व संयुक्त राष्ट्र संघ ने किया किसान आंदोलन का समर्थन, सरकार को भी किसानों की मान लेनी चाहिए: शुक्ला