ENGLISH HINDI Thursday, January 21, 2021
Follow us on
 
राष्ट्रीय

राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों से स्वतंत्र राज्य आयुक्तों की नियुक्ति और राज्य सलाहकार मंडलों का शीघ्र गठन करने का आग्रह

November 27, 2020 10:11 AM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ. थावरचंद गहलोत की अध्यक्षता में 26 नवम्बर को वीडियो कॉफ्रेन्स के माध्यम से निशक्तता पर केन्द्रीय सलाहकार मंडल की चौथी बैठक आयोजित की गई।
केन्द्रीय सलाहकार मंडल ने निशक्तता से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण विषयों जैसे कि निशक्त जन अधिकार अधिनियम, 2016 के क्रियान्वयन, सुगम्य भारत अभियान, अनोखा निशक्तता पहचान पत्र, निशक्त बच्चों का शीघ्र उपचार और पुनर्वास, कोविड-19 के दौरान राज्यों/केन्द्र शासित क्षेत्रों द्वारा निशक्त जनों के संरक्षण और कल्याण के लिए किए गए उपायों, कोविड-19 के दौरान दिव्यांगजनों को एडीआईपी योजना के अन्तर्गत उपकरणों और सहायक यंत्रों का वितरण सुनिश्चित करना तथा निर्धारित मानदंड वाले निशक्तजनों के लिए आरक्षण के प्रावधान का क्रियान्वयन सुनिश्चित करना।
मंडल की बैठक में केन्द्र सरकार द्वारा दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए उठाए गए कदमों का भी उल्लेख किया गया, जैसे कि मध्य प्रदेश में मनो-सामाजिक निशक्तता से ग्रस्त व्यक्तियों के पुनर्वास तथा दिव्यांगजनों में खेलकूद गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य पुनर्वास संस्थान एवं सेन्टर फार डिसेबिलिटी स्पोर्टस की स्थापना।
केन्द्रीय सलाहकार मंडल ने राज्यों/केन्द्र शासित क्षे़त्रों से, यदि उन्होंने स्वतंत्र राज्य आयुक्तों की नियुक्ति और राज्य सलाहकार मंडल का गठन नहीं किया हो, तो शीघ्रता से इस दिशा में कदम उठाने का आग्रह किया। राज्यों/केन्द्र शासित क्षे़त्रों को कोविड-19 के दौरान दिव्यांगजनों के कल्याण की दिशा में की गयी सकारात्मक कार्रवाई पर विस्तृत रिपोर्ट भेजने का भी सुझाव दिया गया। मंडल ने सभी केंन्द्रीय मंत्रालयों/ विभागों को सुगम्य भारत अभियान के सेवा भाव के साथ क्रियान्वयन के लिए प्रभावी कदम उठाने की सलाह दी। उनसे अपने क्षेत्र/क्षेत्रों से संबंधित सुगम्य मानकों को मुख्य आयुक्त, निशक्तजन के साथ परामर्श कर छह महीने में अंतिम रूप देने तथा निशक्तजन अधिकारिता विभाग को अधिसूचना के लिए भेजने का अनुरोध किया है। बोर्ड द्वारा राज्यों/केन्द्र शासित क्षे़त्रों को निर्धारित निशक्तता वाले दिव्यांगजनों के लिए आरक्षित पदों की जानकारी के पारदर्शिता के साथ अनुरक्षण के लिए ऑनलाइन प्रणाली बनाने का सुझाव भी दिया गया। साथ ही यदि पहले से लम्बित रिक्त पद हों, तो विशेष भर्ती अभियान चलाने का भी आग्रह किया गया।
लगभग 34 राज्यों/केन्द्र शासित क्षे़त्रों से निशक्त जन अधिकारिता से संबंधित मंत्री या उनके प्रतिनिधि, संबंधित केन्द्रीय मंत्रालय/ विभागों, राष्ट्रीय संस्थान और अन्य केन्द्रीय संगठनों के प्रतिनिधि तथा मंडल के गैर-शासकीय सदस्यों ने भी बैठक में भाग लिया।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
यात्री और माल वाहनों की आवाजाही पर पड़ोसी देशों के साथ समझौता जेईई (मुख्य) परीक्षा ‘कक्षा 12 में 75 प्रतिशत अंक’ की पात्रता शर्त से दी गई छूट 23 जनवरी को हर साल “पराक्रम दिवस” के रूप में मनाने की घोषणा शेल इंडिया के तरलीकृत प्राकृतिक गैस एलएनजी की ट्रक लदान यूनिट का उद्घाटन भारत- फ्रांस वायुसैनिक अभ्यास डेजर्ट नाइट-21 दुर्घटनाओं में घायलों को मदद पहुॅचाने वालों को सम्मानित करने की अभिनव पहल शुरू रेलवे के माध्‍यम से उन इलाकों को जोड़ रहे हैं जो पीछे छूट गए: प्रधानमंत्री 'आत्मवत् सर्वभूतेषु' के दिव्य सूत्र के साथ कुम्भ में सहभागः स्वामी चिदानन्द सरस्वती लोकपरंपरा व संस्कृति के रंगों से सराबोर हुई कुंभनगरी ब्रिटेन प्रधानमंत्री व संयुक्त राष्ट्र संघ ने किया किसान आंदोलन का समर्थन, सरकार को भी किसानों की मान लेनी चाहिए: शुक्ला