ENGLISH HINDI Thursday, January 21, 2021
Follow us on
 
पंजाब

खट्टर के साथ तब तक बात नहीं करूँगा, जब तक किसानों पर ज़ुल्म ढाने के लिए माफी नहीं माँगते: कैप्टन

November 29, 2020 08:53 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के किसानों पर ज़ुल्म ढाने के लिए हरियाणा में अपने समकक्ष को आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने एम.एल. खट्टर को स्पष्ट तौर पर माफी मांगने के लिए कहा।
मीडिया के साथ क्रमश: मुलाकातों के दौरान कैप्टन ने कहा, ‘‘खट्टर यह झूठ बोल रहा है कि उसने कई बार मेरे साथ बात करने की कोशिश की, परन्तु मैंने जवाब नहीं दिया। परन्तु अब उसने किसानों के साथ जो कुछ किया है, मैंने उसके साथ बिल्कुल भी बात नहीं करनी, चाहे 10 बार कोशिश करके देख ले। जब तक खट्टर माफी नहीं माँगता और यह नहीं मान लेता कि मैंने पंजाब के किसानों के साथ गलत किया, मैं उसे माफ नहीं करूँगा।’’
कैप्टन सिंह ने कहा कि हरियाणा द्वारा पंजाब के किसानों पर आँसू गैस छोडऩे और लाठीचार्ज करने और पानी की बौछारें मारने के बाद बहुत से किसान ज़ख्मी हुए जिस कारण उनकी तरफ से खट्टर के साथ बात करने का कोई मतलब नहीं बनता, चाहे वह पड़ोसी है या नहीं। उन्होंने कहा कि यदि वह किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री और केंद्रीय गृह मंत्री के साथ कई बार बात कर सकते हैं तो वह अपने पड़ोसी मुख्यमंत्री के साथ बात करने से पीछे क्यों हटते, यदि खट्टर ने सचमुच ही संपर्क साधा होता।
कैप्टन ने किसानों को राष्ट्रीय राजधानी में शांतमई ढंग से जाने देने की इजाज़त न देने के फ़ैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब केंद्र सरकार किसानों के साथ बातचीत के लिए तैयार है और यहाँ तक कि दिल्ली सरकार को उनके आने पर कोई ऐतराज़ नहीं है तो इनके बीच टाँग अड़ाने वाला खट्टर कौन होता है? समूचे मसले में दखलअन्दाज़ी करने से खट्टर का क्या लेना-देना है।
गुस्से से भरे कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बेहूदा दोष लगाने पर खट्टर को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह यह कह रहा है कि पंजाब का मुख्यमंत्री किसानों को उकसा कर आंदोलन के लिए भडक़ा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं तन-मन से राष्ट्रवादी हूँ, मैं सरहदी राज्य चलाता हूँ और ऐसा कुछ कभी भी नहीं किया कि जिससे कानून व्यवस्था के लिए मुश्किल पैदा होती हो।’’ उन्होंने कहा कि पंजाब में किसानों ने पिछले 60 दिनों से बिना किसी समस्या के राज्य के रेल ट्रैक रोके, जिससे राज्य को 43,000 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान सहना पड़ा।
अमरिन्दर सिंह ने कहा, ‘‘मैं खट्टर की बेतुकी बातों का कोई जवाब नहीं दूँगा। क्या मेरे पास किसानों को भडक़ाने के अलावा कोई अन्य अच्छा काम करने के लिए नहीं है?’’ कई बार वह कहते हैं कि यह खालिस्तानी हैं जो रोष प्रदर्शन करा रहे हैं और कई बार प्रदर्शनों के लिए मुझ पर दोष लगाते हैं। उनको अपना फ़ैसला कर लेने दो। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि किसानों का रोष स्वाभाविक प्रतीकर्म है जो अपने भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं।
किसानों पर कानून समस्या पैदा करने के दोष लगाने के लिए खट्टर पर बरसते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाबी कानून का पालन करने वाले नागरिक हैं और दूसरी तरफ़ हरियाणा है जिसने सार्वजनिक जायदाद को नुकसान पहुँचाया और किसानों को जबरन रोकने के लिए राष्ट्रीय मार्ग पर अड़चने पैदा कीं।
खट्टर के दावा है कि हरियाणा के किसान दिल्ली चलो आंदोलन का हिस्सा नहीं थे, को हास्यप्रद करार देते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब की ख़ुफिय़ा जानकारी से पता चला है कि पड़ोसी राज्य के तकरीबन 40000-50000 किसान राष्ट्रीय राजधानी की तरफ मार्च में शामल हुए, जिस संबंधी केंद्र की ख़ुफिय़ा रिपोर्टों में भी सामने आया है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने चुटकी लेते हुए कहा ‘‘वह (खट्टर) नहीं जानते कि उनके अपने राज्य में क्या हो रहा है और वह मुझे बता रहे हैं कि मुझे अपने राज्य में क्या करना है !’’
मुख्यमंत्री ने कहा किसानों को रोष करने और अपनी बात रखने के साथ-साथ अपना गुस्सा और भावनाएं ज़ाहिर करने के लिए अपनी ख़ुद की राष्ट्रीय राजधानी में जाने का पूरा हक है। उन्होंने आगे कहा कि वह जानते हैं कि किसान क्या महसूस कर रहे हैं, इसीलिए उन्होंने किसानों को राज्य में से बाहर मार्च करने और रेलवे ट्रैकों पर बैठने से नहीं रोका। यह बताते हुए कि किसानों ने कई दिन पहले यहाँ तक कि रेल नाकाबंदी हटाने से पहले ही दिल्ली जाने का अपना फ़ैसला सुना दिया था।
मुख्यमंत्री ने टिप्पणी की ‘‘आंदोलनकारी किसान, जिसमें बड़ी संख्या में नौजवान शामिल हैं, अपने दिल से बोल रहे हैं, वह अपने दिल की आवाज़ सुन रहे हैं। यह उनके भविष्य, उनके जीवन का सवाल है, वह कृषि बिलों पर नाराज़ हैं, जो मंडियों और आढ़तियों की 100 साल पुरानी प्रणाली को ख़त्म करने की बात करते हैं।’’ उन्होंने आगे कहा कि वह किसान संघर्ष के पीछे होने सम्बन्धी बेबुनियाद दोषों को स्वीकार नहीं करेंगे। कैप्टन अमरिन्दर ने कहा कि किसान सिर्फ अपनी आवाज़ बुलंद करना चाहते हैं, वह अपनी बात रखना चाहते हैं, इस लिए कोई कैसे उनको रोक सकता है।
यह ऐलान करते हुए कि कोई भी कॉर्पोरेट घरानों को कृषि मंडीकरण प्रणाली में आने से नहीं रोक रहा, मुख्यमंत्री ने कहा कि वह अब भी पंजाब में खरीद कर रहे हैं और अपना कारोबार चला रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि वह मौजूदा प्रणाली को जारी रखते हुए ऐसा कर सकते हैं।
कैप्टन अमरिन्दर ने अफ़सोस ज़ाहिर करते हुए कहा कि राज्यपाल राज्य द्वारा पास किए संशोधित बिलों को आगे राष्ट्रपति के पास भेजने की बजाय बिलों को लेकर बैठे हुए हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
गणतंत्रता दिवस पर सुरक्षा को लेकर महिला पुलिस फ्रंटलाईन पर ‘आप’ ने 26 जनवरी के ‘किसान ट्रैक्टर परेड’ के समर्थन का किया ऐलान आप प्रतिनिधिमंडल निकाय चुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयुक्त से मिला 200 जरूरतमंद परिवारों को बांटे जूते और दवाईया तीन अलग-अलग गिरोहों के पांच सदस्य हथियार,जाली भारतीय करंसी और चोरी के वाहनों सहित काबू आंदोलनकारी किसानों को धमकाना मोदी सरकार का बेहद शर्मनाक कार्य: मान पंजाब के विश्वविद्यालय और महाविद्यालय 21 जनवरी से पूर्ण रूप में खोले जाएंगे एडीजीपी राय ने मुनीष जिन्दल द्वारा सामयिक घटनाओं बारे लिखी किताब ‘द पंजाब रिव्यू’ की रीलीज़ क्या ये किसान अलगाववादी व आतंकवादी लगते हैं? कैप्टन का केंद्र सरकार से सवाल भारत रत्न गुलजारी लाल नन्दा फ़ाउंडेशन की पंजाब इकाई के प्रबंध संयोजक होंगे बरनाला के एडवोकेट कपिल