ENGLISH HINDI Thursday, March 04, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
भारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व : सुमिता कोहलीन्यू मलौया कॉलोनी वासियों ने भाजपा सांसद के खिलाफ किया प्रदर्शन इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्गजन्मदोष का शीघ्र पता लगाने के लिए प्रसव पूर्व परीक्षण का महत्व अहम: डॉ.गुरजीत कौरवीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनेट्राइडेंट ग्रुप ने सिविल अस्पताल, रेडक्रॉस सोसायटी व जिला जेल को भेंट की साढ़े तीन लाख राशिगुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां सात दिवसीय सालाना समागम समारोह शुरू नगर निगम ने कोरोना वारियर सुमिता कोहली को किया सम्मानित
हिमाचल प्रदेश

कोहरे से बचाव हेतु पौधों पर पानी का करें छिड़काव

January 05, 2021 08:42 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) उप निदेशक, बागवानी आर.एस.नेगी ने ज़िला के बागवानों को जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि कोहरे के कारण होने वाले नुक्सान से बचने के लिए पौधों पर पानी का छिड़काव किया जाए। उन्होंने बताया कि सर्दी के मौसम में मैदानी क्षेत्रों में कोहरा पड़ना आम बात है लेकिन कोहरे की बजह से पौधों पर पड़ने वाले प्रभाव को रोकना आवश्यक होता है। कोहरे का प्रभाव बेहतर प्रबन्धन से कम किया जा सकता है जिसमें पौधों को पहुंचने वाले नुक्सान को कम किया जा सके। ज़िला कांगड़ा में आम, पपीता, नीम्बू प्रजाति के फलों इत्यादि पर कोहरे के कारण प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। सर्दी के मौसम में कोहरे के चलते हवा में विद्यमान नमी बर्फ के कण बन जाते हैं और कम तापमान की बजह से पौधों की कोशिकाएं फट जाती हैं। कोहरे के प्रभाव से फल खराब हो जाता है व फूल झड़ने लगते हैं। कई बार आने वाले वर्षों में भी फलदार पौधे कम पैदावार देते हैं। पपीता, आम आदि में पौधों पर कोहरे का प्रभाव अधिक पाया जाता है। सब्जियों पर भी इसका असर पड़ता है, जिससे कभी-कभी शत-प्रतिशत सब्जी की फसल नष्ट हो जाती है।
उन्होंने बताया कि पहाड़ी क्षेत्रों में जैसे-जैसे रात के समय भूमि की सतह ठण्डी होती जाती है, वैसे-वैसे ठण्डी हवा निम्न क्षेत्र या घाटी की तरफ चलती जाती है और गर्म हवा ऊपर उठती जाती है। इस प्रकार के कोहरे से मैदानी क्षेत्र ठण्डे कोहरे की चादर से ढक जाते हैं। उन्होंने बताया कि फल पौधों मुख्यतः आम, पपीता व नीम्बू कोहरे से ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में न लगाएं। कोहरे वाले क्षेत्रों में अनार, अमरूद, पीकान इत्यादि के पौधे लगाने चाहिएं। उन्होंने बताया कि छोटे पौधों को घास या सरकण्डें से ढक देना चाहिए तथा दक्षिण-पश्चिम दिशा में धूप के लिए खुला रखना चाहिए। पौधों में पोटाश खाद देने से उसकी कोहरा सहने की क्षमता बढ़ती है तथा सर्दियों से पहले या सर्दियों के दिनों में पौधों में नाइट्रोजन खाद न डालें तथा फल पौधों की नर्सरियों को कोहरे से बचाने के लिए घास या छायादार जाली से ढक देना चाहिए।
उन्होंने बताया कि नए बागीचों की स्थापना के लिए अपने नजदीकी विषय विवाद विशेषज्ञ, उद्यान विकास अधिकारी अथवा उद्यान विस्तार अधिकारी से सलाह लें। इसके साथ ही सरकार द्वारा चलाई जा रही पुनः गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अन्तर्गत अपने फल-पौधों का बीमा करवाएं ताकि बागवानों का उपज में होने वाली सम्भावित क्षति से होने वाले आर्थिक नुक्सान की भरपाई की जा सके।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्ग वीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बने पर्यटन विकास निगम ने अपनी फ्लीट में दो नई यूरो-6 एसी वाॅल्वो कोच शामिल की हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल के निर्णय चट्टान खिसकने से 4 लोगों की मौत , जय राम ने की चार-चार लाख देने की घोषणा ऐसी निकम्मी लीडरशिप भाजपा को मुबारक: कांग्रेस पेट्रोल सौ के पार-बधाई हो भाजपा सरकार: शर्मा लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल 22 फरवरी को होगा अखिल भारतीय डाक बैडमिंटन प्रतियोगिता का शुभारंभ स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता 103 वर्षीय श्याम सरण नेगी प्रधानमंत्री के ‘फैन’ , राज्यपाल ने की मुलाकात