ENGLISH HINDI Saturday, March 06, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
वूमेन एंड चाइल्ड वेलफेयर सोसाइटी ने विधवा महिलाओं को हर महीने राशन देने का उठाया बीड़ाभारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व : सुमिता कोहलीन्यू मलौया कॉलोनी वासियों ने भाजपा सांसद के खिलाफ किया प्रदर्शन इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्गजन्मदोष का शीघ्र पता लगाने के लिए प्रसव पूर्व परीक्षण का महत्व अहम: डॉ.गुरजीत कौरवीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनेट्राइडेंट ग्रुप ने सिविल अस्पताल, रेडक्रॉस सोसायटी व जिला जेल को भेंट की साढ़े तीन लाख राशिगुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां सात दिवसीय सालाना समागम समारोह शुरू
हिमाचल प्रदेश

‘बर्ड फलू’ से बचाने के लिए लोगों से प्रांरभिक रोकथाम व नियंत्रण के उपाय करने की अपील

January 07, 2021 06:22 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) पशु चिकित्सा अधिकारी रानीताल डॉ.सर्वेश गुप्ता ने मुर्गियों को ‘‘बर्ड फलू’’ से बचाने के लिए लोगों से प्रांरभिक रोकथाम व नियंत्रण के उपाय करने की अपील की है।
डॉ.गुप्ता ने बताया कि लोग फार्म व बाड़े में जाने के लिए अलग जूते या चप्पलों का इस्तेमाल करें। फार्म या बाड़े के बाहर फृटपाथ बनाएं जिन्हें फिनाईल, फॉरमलिन या कीटाणु नाशक घोल का प्रयोेग करें या फुटपाथ में चूने का प्रयोग भी किया जा सकता है। फार्म या बाड़े में जाने से पहले अपने हाथ साबुन से धोकर जाएं। फार्म या बाड़े के चारों तरफ नियमित रूप से चूने का छिड़काव करें। फार्म या बाडे़ में पड़े छिद्रों को बन्द करें जिससे चूहे व नेवले अंदर न प्रवेश कर सकें। फार्म या बाडे़ के चारों तरफ उगी ऊंचीं झाड़ियों व ऊंचे पेड़ों की टहनियों को काटे जिससे कौवे, चील व गिद्ध जैसे मांसाहारी पक्षी उस पर न बैठ सकें।
उन्होंने बताया कि मुर्गी पालकों को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि मांसाहारी व प्रवासी पक्षियों का मल किसी भी तरीके से फार्म में रखी मुर्गियों के संपर्क में न आए। घरेलू मुर्गी पालन या देसी मुर्गी पालने वाले किसानों की मुर्गियां भोजन की तलाश में अक्सर नाली या घर के पिछवाड़े में घूमती हैं। इसीलिए इन किसानों को विशेष ध्यान देना चाहिए और एहितयात के तौर पर उनके दाने-पानी की व्यवस्था बाड़े में उपलब्ध करनी चाहिए जिससे उनकी मुर्गियों को भोजन के लिए खुले में विचरण न करना पड़े। ऐसा करने से उनका संपर्क मांसाहारी व प्रवासी पक्षियों के मल से नहीं होगा। जिन मुर्गी पालकों ने घर में कुत्ते पाल रखे हैं, वे उन्हें बांध कर रखें और उनके भोजन की व्यवस्था उनकी जगह पर ही करें।
उन्होंने बताया कि फार्म में आवारा कुत्ते न आएं इसीलिए किसानों को फार्म के चारों तरफ बाड-बन्दी करनी चाहिए। मुर्गी फार्म से निकलने वाले कूड़े में अक्सर अनाज के दाने रहते हैं, इसीलिए किसानों को कूड़े का उचित प्रबन्ध करना चाहिए, जिससे पक्षी व चूहे उस तरफ आकर्षित न हों। मुर्गी फार्म में मृत पक्षियों के लिए अलग से गड्ढे की व्यवस्था करनी चाहिए जिससे नेवले, आवारा कुत्ते व जंगली जानवर उस तरफ न आ सकें।
उन्होंने बताया कि यह सभी जैव सुरक्षा उपाय ‘‘बर्ड फलू’’ को मुर्गियों में फैलने के संभावित खतरे को रोकने में मील का पत्थर साबित हो सकते हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्ग वीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बने पर्यटन विकास निगम ने अपनी फ्लीट में दो नई यूरो-6 एसी वाॅल्वो कोच शामिल की हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल के निर्णय चट्टान खिसकने से 4 लोगों की मौत , जय राम ने की चार-चार लाख देने की घोषणा ऐसी निकम्मी लीडरशिप भाजपा को मुबारक: कांग्रेस पेट्रोल सौ के पार-बधाई हो भाजपा सरकार: शर्मा लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल 22 फरवरी को होगा अखिल भारतीय डाक बैडमिंटन प्रतियोगिता का शुभारंभ स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता 103 वर्षीय श्याम सरण नेगी प्रधानमंत्री के ‘फैन’ , राज्यपाल ने की मुलाकात