ENGLISH HINDI Saturday, January 16, 2021
Follow us on
 
हिमाचल प्रदेश

पौंग डैम में एच5एन1 वायरस से हुई प्रवासी पक्षियों की मृत्यु

January 07, 2021 06:27 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) वन विभाग के एक प्रवक्ता ने आज बताया कि एनआईएचएएसडी भोपाल को भेजे गए नमूनों के परीक्षण परिणामों के आधार पर पौंग डैम वन्यप्राणी अभयारण्य में प्रवासी पक्षियों की मृत्यु का कारण एच5एन1 एवियन इन्फ्लुएंजा वायरस पाया गया है।
उन्होंने कहा कि एवियन इन्फ्लुएंजा/बर्ड फ्लू वायरस से होने वाली बीमारी है। यह पालतू मुर्गियों और जंगली पक्षियों को संक्रमित करती है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा जारी एवियन इन्फ्लुएंजा की तैयारी, नियंत्रण और रोकथाम के लिए पशुपालन की कार्य योजना के अनुसार, त्वरित प्रक्रिया टीमों का गठन कर प्रोटोकॉल के अनुसार मृत पक्षियों के संग्रह और सुरक्षित निपटान के लिए तैनात किया गया है। संक्रमित क्षेत्रों को कीटाणु रहित किया जा रहा है और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूरे ऑपरेशन की निगरानी डीएफओ वन्यप्राणी हमीरपुर द्वारा की जा रही है।
उन्होंने कहा कि 5 जनवरी, 2021 को पौंग बांध वन्यजीव अभयारण्य क्षेत्र में 336 प्रवासी पक्षियों की मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई थी। पोंग डैम वन्यजीव अभयारण्य क्षेत्र में 5 जनवरी, 2021 तक लगभग 2736 प्रवासी पक्षियों की मृत्यु दर्ज की गई है।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश वन विभाग का वन्यजीव शाखा द्वारा इस प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं और स्थिति पर नियंत्रण रखने और सख्त निगरानी बनाए रखने के लिए फील्ड स्टाफ को निर्देशित किया गया है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
पंचायतों के पहले चरण में होने वाले चुनाव के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय सियासत: कांगड़ा की राजनीति में ऊफान, संजय रतन ही कांग्रेस के रतन जुर्माने के रूप में 1300 वाहनों से वसूले 18 लाख रुपये कुफरी में भारत का पहला स्की पार्क विकसित करने के लिए समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित ‘बर्ड फलू’ से बचाने के लिए लोगों से प्रांरभिक रोकथाम व नियंत्रण के उपाय करने की अपील कोहरे से बचाव हेतु पौधों पर पानी का करें छिड़काव स्थानीय अवकाश की सूची घोषित बर्ड फ्लू की आशंका— मीट, मछली, पोल्ट्री उत्पाद बेचने पर रोक गौवंश रक्षा हेतु समाज के प्रत्येक वर्ग का सक्रिय रचनात्मक सहयोग जरूरी