ENGLISH HINDI Saturday, January 16, 2021
Follow us on
 
चंडीगढ़

आयुर्वेदिक डॉक्टरों की तर्ज पर होम्योपैथिक डॉक्टरों को भी सर्जरी करने की अनुमति मिले: डॉ. अनु कांत गोयल

January 13, 2021 10:13 AM

  चंडीगढ़, फेस2न्यूज:

शहर के जाने-माने होम्योपैथिक डॉक्टर अनुकांत गोयल ने आयुर्वेदिक डॉक्टरों को बधाई देते हुए सरकार के समक्ष यह मांग उठाई की होम्योपैथिक डॉक्टरों को भी आयुर्वेदिक डॉक्टरों की तर्ज पर सर्जरी करने की आज्ञा मिलनी चाहिए। डाक्टर अनुकांत ने कहा कि होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक और एलोपैथिक डॉक्टरों को 2 साल तक सर्जरी की पढ़ाई एक सरीखी ही करनी होती है, यदि आयुर्वेदिक डॉक्टर सर्जरी ऑपरेट कर सकता है, तो होम्योपैथिक डॉक्टर भी कर सकता है। इसीलिए मेरी सरकार से गुजारिश है, कि इस बाबत संज्ञान लेते हुए हम होम्योपैथ डॉक्टरों की भी आयुर्वेदिक डॉक्टरों की तरह समानता के सिद्धांत पर कार्य करते हुए, शल्यक्रिया की आज्ञा प्रदान करनी चाहिए।

वही होम्योपैथिक कॉलेज चंडीगढ़ के प्रिंसिपल डॉ संदीप पुरी ने अपना समर्थन देते हुए कहा कि शुरुआती 2 सालों में होम्योपैथिक के बच्चे भी लगभग 9 महीने क्लीनिकल सर्जरी की पढ़ाई में गुजारते हैं। वह भी लगभग आयुर्वेदिक डॉक्टरों के समकक्ष ही सर्जरी मे शिक्षित होते हैं तो उन्हें सर्जरी की परमिशन ना दिए जाने का क्या औचित्य है?

कोरोना काल में होम्योपैथिक डॉक्टरों ने अपना संपूर्ण योगदान दिया। हम होम्योपैथिक डॉक्टर सिर्फ इतना चाहते हैं कि हमें भी चिकित्सा क्षेत्र की मुख्य धारा के साथ जोड़ा जाए ताकि हम भी अपनी योग्यता और क्षमता का सही इस्तेमाल करते हुए समाज को सार्थक योगदान दे सकें। डॉ अनुकांत गोयल ने बताया कि उनकी कई होम्योपैथिक डॉक्टरो से बात हुई है और कमोबेश लगभग हर एक डॉक्टर ने अपनी स्वीकृति प्रदान करते हुए कहा कि उन्हें भी सर्जरी की परमिशन मिलनी चाहिए।

डॉक्टर पुरी ने कहा कि होम्योपैथिक बच्चों को भी सर्जरी की परमिशन मिलनी चाहिए, ताकि एलोपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टरों को समान वह भी लोगों की सेवा कर सके। दूसरी ओर रिटायर्ड डायरेक्टर होम्योपैथिक डिपार्टमेंट डॉक्टर मूलाराम ने भी होम्योपैथिक बच्चों को सर्जरी की परमिशन दिए जाने की वकालत करते हुए, अपना पक्ष रखा और कहा कि सरकार को फौरन से पेशेवर होम्योपैथिक डॉक्टरों को इसकी आज्ञा प्रदान करनी चाहिए। ताकि वह भी अपनी शिक्षा और प्रतिभा का संपूर्ण उपयोग कर सकें। डॉ अनुकांत ने कहा कि होम्योपैथिक डॉक्टर भी इतने प्रतिभाशाली हैं जितने अन्य डॉक्टर और हमारा मकसद किसी के साथ झगड़ा नहीं।

वैसे भी कोरोना काल में होम्योपैथिक डॉक्टरों ने अपना संपूर्ण योगदान दिया। हम होम्योपैथिक डॉक्टर सिर्फ इतना चाहते हैं कि हमें भी चिकित्सा क्षेत्र की मुख्य धारा के साथ जोड़ा जाए ताकि हम भी अपनी योग्यता और क्षमता का सही इस्तेमाल करते हुए समाज को सार्थक योगदान दे सकें। डॉ अनुकांत गोयल ने बताया कि उनकी कई होम्योपैथिक डॉक्टरो से बात हुई है और कमोबेश लगभग हर एक डॉक्टर ने अपनी स्वीकृति प्रदान करते हुए कहा कि उन्हें भी सर्जरी की परमिशन मिलनी चाहिए।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
डब्ल्यू आई सी सी आई की चंडीगढ़ इकाई का हुआ गठन , दीपिका बाहरी चंडीगढ़ अध्यक्ष नियुक्त सर्वहितकारी शिक्षा समिति के स्वर्ण जयंती वर्ष को समर्पित संस्कृति कार्यशाला का आयोजन विभिन्न सगठनो ने कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर मनाई काली लोहड़ी "तेरा ही तेरा मिशन अस्पताल" होम्योपैथिक कॉलेज एंड हॉस्पिटल में शुरू कांग्रेस के पूर्वांचल सेल ने स्वामी विवेकानंद का मनाया जन्म दिवस समाजसेवी संस्थाओं ने गरीब परिवारों की बेटियों संग मनाई लोहड़ी ‘कोविड ने खिलाड़ियों की शारीरिक फिटनेस को प्रभावित किया है’, एक्सपर्ट्स ने कहा स्वास्थ्य रोगों को रोकने के लिए ट्रांस फैट को सीमित करने के लिए विनियम होना एक महत्वपूर्ण कदम:कंज्यूमर वॉयस एलांते मॉल ने 100 से अधिक ब्रांडों पर 50 प्रतिशत की छूट प्रस्तुत की गुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन