ENGLISH HINDI Monday, March 08, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
गुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां गुरमति समागम पूरे धार्मिक भावना से संपन्नसावधान! महिलाएं बैग झपटने के लिए सक्रिय, दो अज्ञात झपटमार महिलाओं पर मामला काजू और किशमिश के शौकीन चोर, ताले तोड़ कर हजारों के चुरा ले गए मेवेहोटल में लड़ाई झगड़े की सूचना पर गई पुलिस टीम पर हमला, 4 आरोपियों के खिलाफ एफआईआरसंघर्ष कर रहे किसानों की अच्छी सेहत के लिए की अरदासब्रह्मकुमारीज की शाखा ने हर्षोल्लास और श्रद्धाभाव से मनाया महाशिवरात्रि पर्वदलित परिवार लडक़ी को हवस का शिकार बनाने वाले आरोपितों को फांसी की सजा दिलाने दलित संगठन ने राष्ट्रपति से लगाई गुहारमन को शक्तिशाली बनाते हैं सकारात्मक संकल्प
राष्ट्रीय

'आत्मवत् सर्वभूतेषु' के दिव्य सूत्र के साथ कुम्भ में सहभागः स्वामी चिदानन्द सरस्वती

January 18, 2021 11:03 AM

ऋषिकेश (उत्तराखंड), रातुड़ी:
परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि कुम्भ जैसे दिव्य आयोजन, आध्यात्मिकता, पवित्रता, दिव्यता और सर्वे भवन्तु सुखिनः के उद्देश से किये जाते हैं चूंकि इस समय चारो ओर कोरोना वायरस का प्रकोप है ऐसे में हेल्थ प्रोटोकॉल और कोविड मानकों का पालन करना जरूरी है। कुंभ मेला-2021 को दिव्य, पवित्र, ग्रीन, ईको-फ्रेंडली, यादगार और अनूठा बनाने के लिए सभी का समेकित प्रयास नितांत आवश्यक है।
स्वामी ने कहा कि उत्तराखंड हमेशा से ही ग्रीन हैरिटेज और ईको-फ्रेंडली आयोजनो को प्राथमिकता देता आया है ऐसे में सभी को गंगा जी की शुद्धता और उत्तराखंड की पवित्रता को ध्यान में रखते हुये कुम्भ मेले में सहभाग करना होगा। उन्होंने कहा कि कुम्भ, भारत की आध्यात्मिक और सनातन परम्परा है। कुम्भ विश्व का सबसे बड़ा आध्यात्मिक मेला है, जो सदियों से चला आ रहा है। कुम्भ ने पूरे विश्व को विश्व बन्धुत्व का संदेश दिया; हमें अपनी जड़ों से जुड़ने का; भारतीय संस्कृति को जानने और जीने का तथा अपनी गौरवशाली आध्यात्मिक परम्परा एवं गौरवमयी संस्कृति को आत्मसात करने का अवसर प्रदान किया है। यह केवल अमृत कुम्भ ही नहीं बल्कि हमें ’’अमृतस्य पु़त्राः’’ कि हम अमृत के पुत्र हैं इस भाव को जानने और जीने का भी संदेश दिया है। वास्तव में कुम्भ का तात्पर्य कलश से है तथा कलश परिपूर्णता का प्रतीक है अर्थात जीवन की परिपूर्णता ही कुम्भ की दिव्यता है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि कुम्भ में पूज्य संतों का समागम होता है। संतों के संग से सत्संग का मार्ग अग्रसर होता है जिससे योग और ध्यान के पथ पर बढ़ा जा सकता है। कुम्भ हमें सिखाता है कि हम आस्था में जियें’’, केवल व्यस्तता में नहीं बल्कि व्यवस्था में जियें, जीवन में एक मर्यादा हो, एक दिशा हो ’’हमारे चिंतन में सकारात्मकता हो, हमारे कर्म में सृजनशीलता हो, वाणी में माधुर्य हो, हृदय में करूणा हो और हमारा जीवन प्रभु के चरणों में समर्पित हो यही तो कुम्भ है। कुम्भ पर भीतरी कुम्भ का दर्शन हो सके, यही तो कुम्भ का वास्तविक दर्शन है। कुम्भ मेले में सहभाग करने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिये एक संदेश है कि वे ’’आत्मवत् सर्वभूतेषु’’ सभी में अपना दर्शन करें तो निश्चित हम सब मिलकर कुम्भ को यादगार बना सकते हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
मन को शक्तिशाली बनाते हैं सकारात्मक संकल्प औषधियों के लिए उत्‍पादन आधारित प्रोत्‍साहन योजना को मंजूरी हिमाचल में साहसिक खेलों के लिए नए स्थान अधिसूचित दिशा रवि पर झूठा देशद्रोह का मुकदमा थोपने वाले दिल्ली पुलिस पर कार्रवाई कब? बिका हुआ माल वापस नहीं होगा, बिल में इसका मुद्रण उपभोक्ता कानून के खिलाफ बहुत हुई जनता पर पेट्रोल-डीज़ल की मार, अबकी बार मोदी सरकार' सूचना अधिकार कानून के तहत सूचना नहीं देने पर बाड़मेर उपभोक्ता आयोग ने ठोका जुर्माना नौंवी कक्षा मे छात्रा के फेल होने पर आकाश कोचिंग सेंटर को उपभोक्ता आयोग ने लगाया जुर्माना नगर निगम, नगर कौंसिल और पंचायतीं चुनाव प्रचार 12 फरवरी शाम 5 बजे होगा बन्द, 14 फरवरी को पड़ेंगी वोटें उपभोक्ता आयोग शिकायत के जवाब के लिए 45 दिन की समय सीमा को आगे नहीं बढ़ा सकता : सुप्रीम कोर्ट