ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
पंजाब

हरियाणा में आंतरिक आपातकाल की स्थिति, जेल नियमों की धज्जियां उड़ाई, नौदीप कौर से मिलने से रोका गया: चीमा

February 23, 2021 08:25 PM

चंडीगढ़/करनाल, फेस2न्यूज:

हरियाणा पुलिस द्वारा गैरकानूनी ढ़ंग से गिरफ्तार की गई सामाजिक कार्यकर्ता नौदीप कौर से आप नेताओं को जेल में नहीं मिलने देने पर आम आदमी पार्टी ने नाराजगी जताई है।

मंगलवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता और पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा, विपक्ष के उप नेता सर्वजीत कौर माणुके और पार्टी के युवा विंग के सह-अध्यक्ष अनमोल गगन मान करनाल जेल में नौदीप कौर से मिलने पहूंचे, लेकिन जेल प्रशासन ने उन्हें मिलने नहीं दिया।

आप नेताओं ने हरियाणा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें घटिया तर्क देकर नौदीप कौर से मिलने से रोका गया। उन्होंने कहा कि हमने सामाजिक कार्यकर्ता के संघर्ष में साथ देने के लिए नौदीप कौर से मिलने का फैसला किया था। हम मिलकर उन्हें यह बताना चाहते थे कि राज्य के लोग उनके साथ हैं।

आप नेताओं ने कहा कि हरियाणा में भाजपा की खट्टर सरकार राज्य में आंतरिक आपातकाल का माहौल बना दिया है। हमें नौदीप कौर से न मिलने देने के लिए जेल के नियमों की धज्जियां उड़ाई गई और मिलने से रोकने के लिए बेहद घटिया तर्क दिए गए। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा एक आवेदन प्रस्तुत किए जाने के बावजूद हरियाणा पुलिस यह कह रही थी कि कोविड के कारण मिलने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है।

आप नेताओं ने सवाल पूछते हुए कहा, हम हरियाणा पुलिस से पूछना चाहते है कि कोविड उस समय कहां होता है जब सामान्य कैदियों से उनके रिश्तेदार मिलते हैं? कोरोना की समस्या सिर्फ नौदीप कौर से मिलने के समय ही क्यों उत्पन्न हुई? भाजपा सरकार क्या छिपाने की कोशिश कर रही है?

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए आप नेताओं ने कहा कि पंजाब की बेटी को पिछले 30 दिनों से करनाल जेल में रखा गया है। नौदीप कौर को हिरासत में लिए जाने की खबरों ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया का भी ध्यान आकर्षित किया है, लेकिन उनके अपने गृह राज्य के सीएम को उनकी कोई परवाह नहीं है।

हम कैप्टन अमरिंदर सिंह से अपील कर रहे हैं कि वे हरियाणा में अपने समकक्ष से बात करें और नौदीप कौर को तुरंत रिहा करने की मांग करें। आप नेताओं ने कहा कि उन्होंने पहले भी कैप्टन से नौदीप कौर को रिहा कराने की अपील की थी लेकिन उन्होंने न तो इस संबंध में कोई पहल की और न ही उनकी स्थिति के बारे में जानने के लिए कोई प्रयास किया।

आप नेताओं ने कहा कि कैप्टन हर मोर्चे पर विफल रहे हैं। वे अपने नागरिकों की रक्षा करने में नाकाम साबित हुए हैं। आज पंजाब के लोग अपने अधिकारों और अस्तित्व के लिए सडक़ों पर उतरे हुए हैं, लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है, लेकिन अमरिंदर सिंह इसके लिए कुछ नहीं कर रहे हैं। आप नेताओं ने कहा कि पंजाब की मुख्य विपक्षी पार्टी होने के नाते आम आदमी पार्टी नौदीप कौर और उनके परिवार को हर संभव मदद प्रदान करेगी।

आप नेताओं ने भाजपा सरकार पर बलप्रयोग कर विरोधी लोगों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की आवाज को दबाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब किसानों ने दिल्ली के लिए मार्च शुरू किया तो हरियाणा सरकार ने उन्हें दिल्ली में प्रवेश से रोकने के लिए कई अवरोध खड़े किए। भीषण ठंड में किसानों पर पानी के फव्वारें का इस्तेमाल किया, उन पर लाठीचार्ज किया और कुछ किसानों को स्टेडियम में कैद कर दिया।

उन्होंने सडक़ों को भी खोद डाला ताकि किसान प्रवेश न कर सकें और विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए जो भी संभव हो सका, कोशिश की। लेकिन जब भाजपा सरकार की चालें सफल नहीं हुई, तो उन्होंने किसान आंदोलन को दबाने के लिए किसानों को बदनाम करने की कोशिश की। उन्हें खालिस्तानी, पाकिस्तानी, आतंकवादी, आंदोलनजीवी और न जाने क्या-क्या कहकर बदनाम करने की साजिश रची गई।

किसान आंदोलन को दबाने की नीयत से ही भाजपा सरकार ने सामाजिक कार्यकर्ता नौदीप कौर को गैरकानूनी ढ़ंग से गिरफ्तार किया। उसका कसूर मात्र इतना था कि वह कारखानों के मजदूरों के अधिकारों के लिए आवाज उठा रही थी। मोदी सरकार में विरोध के लिए कोई जगह नहीं है। लोगों की आवाज नहीं सुनी जाती है। सभी आवाजों को सिर्फ दबा दी जाती हैं। लेकिन इससे भी ज्यादा शर्मनाक बात यह है कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर भी पीएम मोदी की तरह ही काम कर रहे हैं। वह बीजेपी के सीएम की तरह काम कर रहे हैं और संघर्ष का कोई संज्ञान नहीं ले रहे हैं।

कैप्टन अमरिंदर अपने शाही फार्म हाउस में बैठकर अपना समय पास कर रहे हैं। आप नेताओं ने कहा कि आम आदमी पार्टी हमेशा किसानों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के अधिकारों के लिए लड़ती रहेगी। आप एक ऐसी पार्टी हैं जो आंदोलन से निकली है और संघर्ष करने वाले लोगों के साथ सहानुभूति रखती है। हम अंत तक उनके साथ खड़े रहेंगे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
जश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाब बठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टे अन्य राज्यों से गेहूँ लाकर बेचने की कोशिश कर रही तीन फर्मों के विरुद्ध पर्चे दर्ज पंजाब सरकार द्वारा कोविड-19 के चलते गेहूं की सुरक्षित खरीद और मंडीकरण संबंधी एडवाइज़री जारी ध्वनी प्रदूषण: साइलेंसरों पर कहीं चलाए बुलडोजर, कहीं चलाए जा रहे कटर नवनीत कौर दीक्षित सर्वधर्म समभाव राष्ट्रीय मंच (महिला मोर्चा) की पंजाब इकाई की अध्यक्ष नियुक्त 23 किलो हेरोइन और हथियार बरामद जिला पुलिस के टैक्नीकल विंग ने ढूंढे 400 मोबाइल फोन बरनाला क्रिकेट ऐसोसिएशन को दो बॉलिंग मशीनें और प्रशिक्षण के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रशिक्षक की नियुक्ति शिक्षा विभाग में लाइब्रेरियन के 750 पदों की भर्ती सम्बन्धी विज्ञापन जारी