ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
चंडीगढ़

हरियाणा पीडब्ल्यूडी कर्मचारी संघ की बैठक में सरकार को दी चेतावनी

February 27, 2021 06:42 PM

सोमवार तक मिलने का समय नहीं दिया तो कर देंगेे काम बंद कर मंगलवार 2 मार्च को रोष प्रदर्शन करते हुए सेक्टर 33 निर्माण सदन चंडीगढ़ का घेराव करेंगें

  चंडीगढ़: हरियाणा पीडब्ल्यूडी कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों की एक अहम् बैठक आज एमएलए सेक्टर 3 में आयोजित हुई, जिसमें आलाधिकारियों द्वारा उनके साथ भेदभाव और सरकार को अँधेरे में रखे जाने पर रोष प्रकट किया गया। हरियाणा पीडब्ल्यूडी कर्मचारी संघ के प्रधान अशोक कुमार की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में महासचिव चन्दन सिंह, उपाध्यक्ष खेम बहादुर, कैशियर सतीश और महिला विंग प्रधान पुष्पा सहित चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी यूनियन के प्रेजिडेंट तारादत्त और अन्य भी उपस्थित थे।

बैठक के बाद हरियाणा पीडब्ल्यूडी कर्मचारी संघ के प्रधान अशोक कुमार ने बताया कि लगभग 350 कर्मचारी पिछले 10-20 वर्षों से हरियाणा पीडब्ल्यूडी (बीएंडआर) में कार्यरत है। उन सभी की सैलरी प्रति माह उनके बैंक अकाउंट में आती है। हरियाणा सरकार द्वारा जब भी विभाग से कच्चे कर्मचारियों की सूची मांगी जाती है, तो हर बार विभाग के अधिकारीयों की तरफ से रिपोर्ट शून्य कर्मचारी दिखाई जाती है।

सरकार का नारा था कि "सबका साथ सबका विकास", लेकिन कुछ अधिकारी इसके उल्ट ही चल रहे है उनकी सोच है कि "उनका खुद का विकास और बाकी सभी का विनाश"। उन्होंने विभाग के कार्यकारी अभियंता से पत्र लिख कर मांग ही है कि इस मामले कि गहनता से जांच की जाए और न केवल विभाग गिरती साख को बचाया जाये बल्कि उन्हें भी इन्साफ दिलवाया जाए।

इस बाबत जब जब हरियाणा पीडब्ल्यूडी (बीएंडआर) को सूचित किया कि उनकी सही सही रिपोर्ट सरकार को भेजी जाये। लेकिन इसके बावजूद भी अधिकारी सरकार को सही विवरण नहीं भेजते और सरकार से मिलने वाली सुविधाओं से उन्हें वंचित किये हुए हैं।

अशोक कुमार ने बताया कि सरकार का नारा था कि "सबका साथ सबका विकास", लेकिन कुछ अधिकारी इसके उल्ट ही चल रहे है उनकी सोच है कि "उनका खुद का विकास और बाकी सभी का विनाश"। उन्होंने विभाग के कार्यकारी अभियंता से पत्र लिख कर मांग ही है कि इस मामले कि गहनता से जांच की जाए और न केवल विभाग गिरती साख को बचाया जाये बल्कि उन्हें भी इन्साफ दिलवाया जाए। इस संबंध में आलाधिकारियों से सोमवार तक उनसे मिलने का समय माँगा गया है, अगर अधिकारियों ने उन्हें मीटिंग का समय नहीं दिया तो सभी कर्मचारी जो कि मुख्यमंत्री आवास, एमएलए व गवर्नर हाउस तथा आईएएस अधिकारीयों के निवास पर काम बंद कर मंगलवार 2 मार्च को रोष प्रदर्शन करते हुए सेक्टर 33 निर्माण सदन चंडीगढ़ का घेराव करेंगें तथा तत्काल सेक्टर 33 में रोष प्रदर्शन किया जाएगा जिसकी जिम्मेदारी पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के अधिकारी की होगी।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
हरमनदीप सिंह ने जीती चंडीगढ़ स्टेट ओपन नौकायन चैंपियनशिप 2020-21 चंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन शारदा सर्वहितकारी मॉडल सीनियर सैकंडरी स्कूल में कार्यशाला का आयोजन अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए टीका लगवाए: सिटीजन्स बॉडी चीफ सुरेंद्र वर्मा नॉमिनी आपकी संपत्ति का मालिक नहीं, सिर्फ केयर टेकर गुड फ्राइडे और ईस्टर के शुभ अवसर पर क्राइस्ट द किंग चर्च मे प्रार्थना सभा आयोजित "इशरे" ने हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयर कंडीशनिंग की नई प्रौद्योगिकियों पर की चर्चा विकास कार्यों में धांधली को लेकर कांग्रेस ने किया रामदरबार में सडक़ जाम प्रदर्शन संयुक्त कर्मचारी मोर्चा,यू.टी एवं एम.सी ने संयुक्त मांगों को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन को दिया मांग पत्र लिपि परिदा ने अमृत डिजिटल मैमोग्राफी मोबाइल बस को किया लांच