ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
चंडीगढ़

खालसा कॉलेज मोहाली की ओर से श्री गुरू तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित राष्ट्रीय वैबीनार का आयोजन

February 28, 2021 03:20 PM

मोहाली : खालसा कॉलेज चैरीटेबल सोसाइटी अमृतसर के सरप्रस्त सत्याजीत सिंह मजीठिया और सरप्रस्त राजिंदर मोहन सिंह छीना की अगुवाई में खालसा कॉलेज (अमृतसर) ऑफ टेक्नोलॉजी एंड बिजनेस स्टडीज, फेस 3 ए, मोहाली में श्री गुरू तेगबहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित श्रीगुरू तेग बहादुर जी की विचारधारा और बाणी की समकाली प्रसंगिता विषय पर राष्ट्रीय वैबीनार आयोजित करवाया गया। जिसमें कॉलेज प्रिंसीपल एवम प्रोग्राम अफसर डा. हरीश कुमारी से सहित विभिन्न लैक्चरार्स ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया।

  
  
उद्धघाटन भाषण के दौरान पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के गुरू नानक सिख अध्ययन विभाग के प्रोफेसर और अकादमिक इंचार्ज डा. जसपाल कौर कांग ने श्री गुरू तेग बहादुर जी के जीवन, बलिदान और बाणाी को समकाली संवेदनहीन तथा चुनौतीपूर्ण स्थिति के साथ जोड़ते बताया।

उन्होंने कहा कि नौवें गुरू साहिब की विचारधारा व जीवन मनुष्य की सुंदरता के हक में खड़ी है। कुंजीवत भाषण देते पंजाब यूनिवर्सिटी पटियाला के पंजाबी विभाग के पूर्व प्रमुख और एसोसिएट प्रो. डा. लखवीर सिंह ने श्री गुरू तेग बहादुर जी की बाणी के हवाले से वैराग व त्याग के महत्त्व को आधुनिक समय में नौजवान पीढ़ी को सीख लेने के लिए प्रेरित किया। वैबीनार के दौरान पोस्ट ग्रैजुऐट गर्वमैंट कॉलेज सैक्टर 11 के पंजाब विभाग के अस्सिटैंट प्रो. डा. जतिंदर सिंह ने श्री गुरू तेग बहादुर की शहादत के इतिहास और राजनीतिक महत्त्च को समकाली समस्याओं के साथ जोड़ा। गर्वनिंग कौंसल ऑफ खालसा कॉलेज के मैंबर गुरचरन सिंह बोपाराय और स्वर्ण सिंह के अलावा राष्ट्रीय तथा अंतराष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न युनिवर्सिटीस सहित कॉलेजों के अध्यापकों, खोजकर्ताओं और विद्यार्थियों ने इस वैबीनर में हिस्सा लिया।

कॉलेज प्रिंसीपल और प्रोग्राम अफसर डा. हरीश कुमारी ने शामिल हुए सभी वक्ताओं का वैबीनार के साथ जुडऩे के लिए आभार व्यक्त किया। प्रो. नवीन कुमार और डा. पुनीत की ओर से वैबीनार को तकनीकी रूप में सफल बनाने में सुचारू भूमिका निभाई गई। मंच का संचालन प्रो. किरपाल सिंह हीरा की ओर से बाखूबी ढंग से किया गया।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
हरमनदीप सिंह ने जीती चंडीगढ़ स्टेट ओपन नौकायन चैंपियनशिप 2020-21 चंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन शारदा सर्वहितकारी मॉडल सीनियर सैकंडरी स्कूल में कार्यशाला का आयोजन अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए टीका लगवाए: सिटीजन्स बॉडी चीफ सुरेंद्र वर्मा नॉमिनी आपकी संपत्ति का मालिक नहीं, सिर्फ केयर टेकर गुड फ्राइडे और ईस्टर के शुभ अवसर पर क्राइस्ट द किंग चर्च मे प्रार्थना सभा आयोजित "इशरे" ने हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयर कंडीशनिंग की नई प्रौद्योगिकियों पर की चर्चा विकास कार्यों में धांधली को लेकर कांग्रेस ने किया रामदरबार में सडक़ जाम प्रदर्शन संयुक्त कर्मचारी मोर्चा,यू.टी एवं एम.सी ने संयुक्त मांगों को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन को दिया मांग पत्र लिपि परिदा ने अमृत डिजिटल मैमोग्राफी मोबाइल बस को किया लांच