ENGLISH HINDI Tuesday, November 30, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कार निर्माताओं को बायो-एथेनॉल से चलने वाले इंजन बनाने के होंगे निर्देशतकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के 25 अधिकारियों को मिली तरक्कीज़ायका प्रोजेक्ट में भ्रष्टाचार पर भाजपा सरकार चुप क्यों: कांग्रेसडिजिटल इंडिया की दिशा में तत्परता से कार्य कर रही बिहार सरकारआजादी अमृत महोत्सव मनाने हेतु युवाओं का, युवाओं द्वारा और युवाओं के लिए शो का आयोजनपंजाब सरकार के मुख्य सचिव द्वारा नाबार्ड वित्तीय सहायता प्राप्त परियोजनाओं की समीक्षादिव्यांगजनों के कौशल प्रशिक्षण हेतु एचपीकेवीएन की पहलकर संबंधी मामलों पर जिला स्तरीय प्रशनोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित
राष्ट्रीय

दिल्ली विकास प्राधिकरण के निदेशक एवं उपनिदेशक के खिलाफ वारंट, सरकारी वाहन समेत सरकारी दफ्तर का फर्नीचर एवं अन्य उपकरण कुर्क करने के आदेश

October 15, 2021 04:11 PM

उपभोक्ता आयोग चंडीगढ़ के आदेशों को नहीं मानने का मामला

चंडीगढ़/दिल्ली : संजय कुमार मिश्रा

उपभोक्ता आयोग चंडीगढ़ के आदेश को न मानने के कारण दिल्ली विकास प्राधिकरण के निदेशक एवं उपनिदेशक दोनो के खिलाफ पचास पचास हजार रुपए के जमानती वारंट जारी किए गए हैं और साथ ही दोनों अधिकारियों के सरकारी वाहन समेत उनके सरकारी दफ्तर के सभी सामग्री फर्नीचर एवं अन्य उपकरणों को कुर्क करने के आदेश जारी किए गए हैं; यही नहीं दोनो अधिकारियों के अधिवक्ता को एक सप्ताह के भीतर उनके बैंक विवरण देने को कहा गया है ताकि उसे भी कुर्की जब्ती आदेश में अटैच किया जा सके।

आयोग ने दिल्ली के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को आदेश जारी करते हुए कहा है कि दिल्ली विकास प्राधिकरण के उपरोक्त दोनों अधिकारियों के दफ्तर एवं सरकारी गाड़ियों को सीज कर एक रिसीवर नियुक्त किया जाए ताकि 1,08,47,305 रुपए के रिकवरी आदेश की तामील हो सके।

विवाद की शुरुआत शिकायत संख्या 386 ऑफ 2018 में छुपी हुई है जिसका निपटारा आयोग ने 20 मई 2021 को किया था। विवाद के मुताबिक भूपिंदर नागपाल को दिल्ली विकास प्राधिकरण ने 6094941 रुपए वापस लौटाने थे एवं इसके अलावा 150000 रुपया मानसिक तनाव के लिए एवं 33000 हजार रूपए मुकदमा खर्च के देने थे, लेकिन अधिकारियों ने चंडीगढ़ उपभोक्ता आयोग के उपरोक्त आदेश दिनांक 20 मई 2021 की तामील नहीं की।

आयोग ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को आदेश देते हुए साफ किया है की उपरोक्त दोनों अधिकारियों के गिरफ्तारी वारंट की तामील की जाए ताकि अगली सुनवाई में उपरोक्त दोनों अधिकारियों की हाजिरी सुनिश्चित हो सके।

चण्डीगढ़ राज्य उपभोक्ता आयोग ने निष्पादन आवेदन संख्या 77 आफ 2021 पर सुनवाई करते हुए उपरोक्त आदेश जारी किए। अब मामले की अगली सुनवाई 12 नवंबर 2021 को होगी।

इस विवाद की शुरुआत शिकायत संख्या 386 ऑफ 2018 में छुपी हुई है जिसका निपटारा आयोग ने 20 मई 2021 को किया था। विवाद के मुताबिक भूपिंदर नागपाल को दिल्ली विकास प्राधिकरण ने 6094941 रुपए वापस लौटाने थे एवं इसके अलावा 150000 रुपया मानसिक तनाव के लिए एवं 33000 हजार रूपए मुकदमा खर्च के देने थे, लेकिन अधिकारियों ने चंडीगढ़ उपभोक्ता आयोग के उपरोक्त आदेश दिनांक 20 मई 2021 की तामील नहीं की।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
कार निर्माताओं को बायो-एथेनॉल से चलने वाले इंजन बनाने के होंगे निर्देश डिजिटल इंडिया की दिशा में तत्परता से कार्य कर रही बिहार सरकार आजादी अमृत महोत्सव मनाने हेतु युवाओं का, युवाओं द्वारा और युवाओं के लिए शो का आयोजन पंजाब सरकार के मुख्य सचिव द्वारा नाबार्ड वित्तीय सहायता प्राप्त परियोजनाओं की समीक्षा सीबीआई ने 20,000 रु. की रिश्वत लेने पर जम्मू पुलिस कर्मी को किया गिरफ़्तार बैंक धोखाधड़ी आरोप में निजी कंपनी, इसके निदेशकों/साझीदारों सहित अन्यों के विरूद्ध मामला दर्ज केजरीवाल ने दिल्ली के एक लाख जीरो बिल दिखाते हुए चन्नी को सिर्फ 1 हजार जीरो बिल पेश करने की दी चुनौती समिति ने सोशल मीडिया पर कथित घृणित पोस्ट को लेकर अभिनेत्री कंगना रनौत को किया तलब पनडुब्बी 'आईएनएस वेला' नौसेना डॉकयार्ड, मुंबई में नौसेना में शामिल निजी व्यक्तियों एवं बैंक कर्मियों सहित चार आरोपियों को एक से छः वर्ष की कठोर कारावास के साथ कुल 10.24 करोड़ रु. का जुर्माना