ENGLISH HINDI Saturday, November 27, 2021
Follow us on
 
चंडीगढ़

अल्केमिस्ट अस्पताल पंचकूला की ओर से किए गए 100 सफल किडनी ट्रांस्प्लांट

October 20, 2021 06:58 PM

भारत में हर वर्ष एक लाख 80 हजार मरीजों को किडनी ट्रांस्पलांट की जरूरत, पर 6000 ही ट्रांस्पलांट संभव: डा. एस.के.शर्मा, भारत में हर वर्ष किडनी के 2 लाख नए मरीज सामने आते हैं: डा. राजीव गोयल, लाइव किडनी डोनरों से किडनी ट्रांस्प्लांट में भारत दूसरे नंबर पर: डा. नीरज गोयल, अब अलग-अलग बल्ड ग्रुपों में किडनी ट्रांस्पलांट संभव : डा. चरणजीत लाल

चंडीगढ़ (आर.के. शर्मा)

किडनी की गंभीर बीमारियों तथा किडनी ट्रांस्प्लांट के बारे जागरूकता पैदा करने के लिए अल्केमिस्ट अस्पताल पंचकूला के डाक्टरों की टीम ने पत्रकारों को संबोधन किया। इस टीम में अस्पताल के किडनी विज्ञान विभाग के प्रमुख डा. एस.के.शर्मा, यूरोलॉजी तथा किडनी ट्रांसप्लांट विभाग के सीनियर कंस्लटेंट डा. नीरज गोयल, डा. राजीव गोयल, नेफ्रोलॉजी के सीनियर कंस्लटेंट डा. रमेश कुमार व चरणजीत लाल शर्मा शामिल थे।

इस अवसर पर डा. एस.के. शर्मा ने कहा कि भारत में हर वर्ष एक लाख 80 हजार किडनी ट्रांस्प्लांट की जरूरत है, पर 6000 से अधिक किडनी ट्रांस्पलांट नहीं होते। उन्होंने कहा कि अल्केमिस्ट अस्पताल ने अब तक किडनी ट्रांस्पलांट के 100 केस कामयाबी से किए हैं। सिर्फ चंडीगढ़, मोहाली तथा पंचकूला से ही नहीं बल्कि दूर-दराज के इलाकों जैसे जम्मू, श्रीनगर, बिहार, बठिंडा, सहारनपुर, जींद तथा देहरादून से मरीजों की किडनी ट्रांस्प्लांट की गई है।

डा. राजीव गोयल ने कहा कि अब नई तकनीकों तथा आधुनिक दवाईयों से अन्य बल्ड ग्रुपों के किडनी डोनर्स से भी किडनी ट्रांस्पलांट की जा सकती है। डा. चरनजीत लाल ने बताया कि शुगर, उच्च रक्तचाप (हाईपरटेंशन), संक्रमण, पेशाब नली में रूकावट तथा पत्थरी आदि किडनी के गंभीर रोगों का कारण बनते हैं, जिस कारण इसका इलाज नामुमकिन हो जाता है। ऐसी बीमारियों के लगातार बने रहने के कारण किडनी फेल हो जाती है, जिसका इलाज किडनी ट्रांस्प्लांट या लगातार डायलसिस करवाना ही है। उन्होंने कहा कि ऐसे हालात में किडनी ट्रांस्पलांट ही सबसे उत्तम विकल्प है।

डा. नीरज गोयल ने अपने विचार सांझे करते हुए कहा कि जिंदा किडनी डोनर्स से किडनी ट्रांस्पलांट करने में भारत का विश्व में दूसरा स्थान है, जहां 95 प्रतिशत किडनी ट्रांस्पलांट जिंदा किडनी डोनर्स से की जाती है। उन्होंने बताया कि मनुष्य अंगों की मांग तथा सप्लाई में बहुत बड़ा अंतर है, जो दुर्घटनाओं या हादसों में होती मौतों (करीब 4 लाख सालाना) का शिकार हुए लोगों से दान द्वारा पूर्ति की जा सकती है।

डा. राजीव गोयल ने कहा कि अब नई तकनीकों तथा आधुनिक दवाईयों से अन्य बल्ड ग्रुपों के किडनी डोनर्स से भी किडनी ट्रांस्पलांट की जा सकती है।

डा. चरनजीत लाल ने बताया कि शुगर, उच्च रक्तचाप (हाईपरटेंशन), संक्रमण, पेशाब नली में रूकावट तथा पत्थरी आदि किडनी के गंभीर रोगों का कारण बनते हैं, जिस कारण इसका इलाज नामुमकिन हो जाता है।

उन्होंने कहा कि ऐसी बीमारियों के लगातार बने रहने के कारण किडनी फेल हो जाती है, जिसका इलाज किडनी ट्रांस्प्लांट या लगातार डायलसिस करवाना ही है। उन्होंने कहा कि ऐसे हालात में किडनी ट्रांस्पलांट ही सबसे उत्तम विकल्प है।

डा. रमेश कुमार ने गुर्दा ट्रांस्पलांट के फायदों के बारे बताते हुए कहा कि चाहे यह महंगा इलाज लगता है, पर लंबे समय के लिए यह डायलसिस या सीएपीडी से सस्ता पड़ता है तथा इससे मरीज की स्वास्थ्य एवं जीवन शैली में सुधार हो जाता है। उन्होंने बताया कि डायबिटिज तथा हाईपरटेंशन के मरीजों में तेजी से इजाफा होने के कारण देश में हर वर्ष किडनी फेल के 2 लाख नए केस सामने आ रहे हैं। देश भर में लोगों में जागरूकता की कमी तथा किडनी डोनर्स की कमी के कारण, एक वर्ष में मुश्किल से 6000 किडनी ट्रांस्प्लांट ही संभव हो पाते हैं।

डा. नीरज गोयल ने अंग दान करने के बारे बताते हुए कहा कि आम तौर पर हम अपने स्वास्थ्य के बारे ज्यादा संदिगध हो जाते हैं, जब किसी को एक किडनी डोनेट करने के लिए कहा जाता है। हमको फिर समझने की जरूरत है कि एक किडनी डोनेट करने से हमारी शारीरिक समर्था पर कोई असर नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि अब किडनी डोनर्स का आप्रेशन दूरबीन द्वारा किया जाता है, जो सुरक्षित व सरल है। 

डा. राजीव गोयल ने बताया कि किडनी ट्रांस्पलांट के समय बहुत सारी कानूनी प्रक्रिया में से गुजरना पड़ता है। हमारे देश के कानून के अनुसार नजदीक का रिश्तेदार (भाई-बहन, मां-बाप, पति-पत्नी या पौत्रे) ही किडनी डोनेट कर सकता है। किसी दूसरे डोनर्स से किडनी लेने के समय राज्य सरकार, यदि विदेशी नागरिक हो तो दूतावास व एंबेसी की मंजूरी लाजमी है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
नॉर्थ जोन एआईयू मीट में भाग लेंगे 150 से अधिक वाइस चांसलर सेक्रेटरी चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड राकेश पोपली ने गुरुद्वारा साहिब में टेका माथा: बाबा जी का आशीर्वाद किया प्राप्त पंजाब विधानसभा चुनाव 2022: मजदूर किसानों के हितों और अधिकारों के लिए "क्रांतिकारी मजदूर किसान पार्टी पंजाब" की घोषणा मोज एप ने लॉन्च किया “मोज नेक्स्ट पंजाबी स्टार” टैलेंट हंट 552 किलो का केक काट कर मनाया श्री गुरु नानक देव जी का प्रकटोत्सव चाय पे चर्चा: विकास के कार्यों को एजेंडा बना कर चुनाव लड़ा जाएगा: अरुण सूद स्वावलम्बी बनाने हेतु 25 लाभार्थियों को सिलाई मशीनें व ब्यूटी किट्स वितरित कीं दिल व कैंसर के बाद दुनिया में श्वास रोग मौतों का सबसे बड़ा कारण: डा. विरदी क्या पेड पार्किंग में भी यू-टर्न लेगी बीजेपी: युवा दल कृत्रिम हाथ शिविर 'एक हाथ आशा का' संपन्न