ENGLISH HINDI Saturday, May 28, 2022
Follow us on
 
चंडीगढ़

स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड ने जीता नेशनल एनर्जी एफीशेंसी इनोवेशन अवॉर्ड-2021

December 21, 2021 07:55 PM

चंडीगढ़ (आर.के.शर्मा )

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफीशेंसी), विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार ने विवेक वर्मा, प्रबंध निदेशक, स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी), मोहाली, पंजाब को उद्योग श्रेणी में नेशनल एनर्जी एफीशेंसी इनोवेशन अवॉर्ड-2021 के प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया है।

स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड को यह अवॉर्ड “लो टैम्परेचर एवेपोरेशन टेक्नोलॉजी (एलटीई) “ नामक इनोवेशन को मान्यता प्रदान करते हुए प्रदान किया गया है। नेशनल एनर्जी एफीशेंसी इनोवेशन अवॉर्ड-2021 का आयोजन आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में किया गया।

पुरस्कार समारोह “राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस“ के अवसर पर विज्ञान भवन, नई दिल्ली में राष्ट्र की लो कार्बन फुटप्रिंट स्ट्रेटजी में महत्वपूर्ण कार्य कर रहे संगठनों और शोधकर्ताओं को सम्मानित करने के लिए आयोजित किया गया था, जिसमें मुख्य अतिथि श्री आर. के. सिंह, माननीय केंद्रीय मंत्री (विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा) भारत सरकार के साथ श्री आर. के. सिंह माननीय विद्युत व भारी उद्योग राज्य मंत्री, भारत सरकार ने पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया।

इस कार्यक्रम में अन्य उच्च स्तरीय गणमान्य व्यक्तियों ने भी उपस्थिति दर्ज करवाई।

स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी), मोहाली, पंजाब एक मल्टी-डिस्पलनरी इंजीनियरिंग कंपनी है जिसका मिशन “सस्टेनेबल एन्वॉयरमेंटल विकास के लिए खाद्य और ऊर्जा संसाधनों को अनलॉक करने के लिए समर्पित“ है। इसे पूरा करने के लिए, कंपनी स्वच्छ और ग्रीन सॉल्यूशंस प्रदान करने के लिए नई थर्मल ऊर्जा रीसाइक्लिंग तकनीक को अपनाकर बदलाव को आगे बढ़ा रही है।

विवेक वर्मा, प्रबंध निदेशक, स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी) का कहना है कि एसईडी पर्यावरण को टिकाऊ बनाने में दृढ़ता से विश्वास करता है और इसलिए इसकी तकनीक कम तापमान वाष्पीकरण प्रौद्योगिकी वैक्यूम के तहत मैकेनिकल वेपोयर कम्प्रेशन सिस्टम पर आधारित है, जो किसी भी प्रकार के बेकार जल / औद्योगिक कचरे / लीचेट आदि से उच्च गुणवत्ता वाले स्वच्छ पानी की 99 प्रतिशत तक की रिकवरी कर सकता है।

इसके प्रमुख इनोवेशंस में से एक पेटेंटेंड लो टेम्परेचर इवेपोरेटर (एलटीई) है, जिसने बॉयो फ्यूल, वाटर रीसाइक्लिंग, कृषि-प्रसंस्करण क्षेत्रों में एक बदलाव कर दिखाया है। कम्पनी का लक्ष्य कृषि के नॉन-फूड बायोमास को ग्रीन कैमिकल्स और पॉलिमर के रिन्यूएबल सोर्सेज के रूप में उपयोग करके अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करना है।

“लो टैम्परेचर एवेपोरेशन टेक्नोलॉजी“ प्रमुख तौर पर इंडस्ट्रियल वेस्ट, वेस्ट वाटर, सीवरेज आदि से उच्च गुणवत्ता वाले स्वच्छ पानी (सबसे कम टीडीएस, सीओडी और बीओडी) के 99 प्रतिशत तक की रिकवरी के लिए वैक्यूम के तहत मैकेनिकल वेपोअर कम्प्रेशन प्रणाली पर आधारित है।

उपरोक्त तकनीक में बिना किसी बाहरी हीट सोर्स का उपयोग जैसे बॉयलर, टर्बाइन या हीट रिजेक्शन सोर्स जैसे कंडेनसर, कूलिंग टॉवर आदि का उपयोग नहीं किया जाता है, जैसा कि पारंपरिक प्रणालियों में उपयोग किया जाता है। इस नई तकनीक पर आधारित लगभग 100 परियोजनाएं विश्व स्तर पर चल रही हैं, और इस तकनीक के औद्योगिक, वाणिज्यिक और घरेलू क्षेत्र में व्यापक उपयोग किए जा रहे हैं। इस प्रकार न केवल जीरो लिक्विड डिस्चार्ज (जेडएलडी) प्राप्त कर रहा है बल्कि विभिन्न प्रक्रियाओं के दौरान इसे जीरो लिक्विड इनटेक (जेडएलआई) भी बना रहा है।

हाल ही में एसईडी को टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट डायरक्टोरेट-इंडस्ट्री इंटरफेस, काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर), विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा “लो टैम्परेचर एवेपोरेशन टेक्नोलॉजी“ नाम से किए गए इनोवेशन के लिए मान्यता प्रदान करते हुए डायमंड जुबली टेक्नोलॉजी अवार्ड-2020 और 10 लाख रुपये के नकद पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस पुरस्कार की घोषणा नई दिल्ली में 80वें सीएसआईआर स्थापना दिवस समारोह में की गई थी , जहां भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू विशिष्ट अतिथि थे।

विवेक वर्मा, प्रबंध निदेशक, स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी) का कहना है कि एसईडी पर्यावरण को टिकाऊ बनाने में दृढ़ता से विश्वास करता है और इसलिए इसकी तकनीक कम तापमान वाष्पीकरण प्रौद्योगिकी वैक्यूम के तहत मैकेनिकल वेपोयर कम्प्रेशन सिस्टम पर आधारित है, जो किसी भी प्रकार के बेकार जल / औद्योगिक कचरे / लीचेट आदि से उच्च गुणवत्ता वाले स्वच्छ पानी की 99 प्रतिशत तक की रिकवरी कर सकता है। .

तकनीकी इनोवेशन की असाधारण विशेषताओं में शामिल हैं:-

• कोई हीट जनरेटर और रेजेक्टर नहीं • कोई रिवर्स ऑस्मोसिस नहीं • 99 प्रतिषत तक पानी की रिकवरी • न्यूनतम जल रिकवरी लागत • न्यूनतम कार्बन फुटप्रिंट • सर्वाधिक प्रभावी जल प्रबंधन समाधान • न्यूनतम स्लज (कीचड़) प्रबंधन • एक ही चरण में बेकार जल से सीधे साफ पानी • प्रोसेस में कोई रासायनिक उपचार नहीं

क्लोस्ड लूप मजबूत और ऑटोमैटिक चंडीगढ़ 21 दिसंबर 2021:-

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी), विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार ने विवेक वर्मा, प्रबंध निदेशक, स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी), मोहाली, पंजाब को उद्योग श्रेणी में नैशनल एनर्जी एफिशिएंसी इनोवेशन अवॉर्ड-2021 के प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया है। स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड को यह अवार्ड “लो टेम्परेचर एवापोरेशन टेक्नोलॉजी (एलटीई) “ नामक इनोवेशन को मान्यता प्रदान करते हुए प्रदान किया गया है। नैशनल एनर्जी एफिशिएंसी इनोवेशन अवार्ड-2021 का आयोजन आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में किया गया।

पुरस्कार समारोह “राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस“ के अवसर पर विज्ञान भवन, नई दिल्ली में राष्ट्र की लो कार्बन फुटप्रिंट स्ट्रेटजी में महत्वपूर्ण कार्य कर रहे संगठनों और शोधकर्ताओं को सम्मानित करने के लिए आयोजित किया गया था, जिसमें मुख्य अतिथि श्री आर. के. सिंह, माननीय केंद्रीय मंत्री (विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा) भारत सरकार के साथ श्री आर. के. सिंह माननीय विद्युत व भारी उद्योग राज्य मंत्री, भारत सरकार ने पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया। इस कार्यक्रम में अन्य उच्च स्तरीय गणमान्य व्यक्तियों ने भी उपस्थिति दर्ज करवाई।

स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी), मोहाली, पंजाब एक मल्टी-डिस्पलनरी इंजीनियरिंग कंपनी है जिसका मिशन “सस्टेनेबल एन्वॉयरमेंटल विकास के लिए खाद्य और ऊर्जा संसाधनों को अनलॉक करने के लिए समर्पित“ है। इसे पूरा करने के लिए, कंपनी स्वच्छ और ग्रीन सॉल्यूशंस प्रदान करने के लिए नई थर्मल ऊर्जा रीसाइक्लिंग तकनीक को अपनाकर बदलाव को आगे बढ़ा रही है। इसके प्रमुख इनोवेशंस में से एक पेटेंटेंड लो टेम्परेचर इवेपोरेटर (एलटीई) है, जिसने बॉयो फ्यूल, वाटर रीसाइक्लिंग, कृषि-प्रसंस्करण क्षेत्रों में एक बदलाव कर दिखाया है।

कम्पनी का लक्ष्य कृषि के नॉन-फूड बायोमास को ग्रीन कैमिकल्स और पॉलिमर के रिन्यूएबल सोर्सेज के रूप में उपयोग करके अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करना है।

“लो टेम्परेचर एवेपोरेशन टेक्नोलॉजी“ प्रमुख तौर पर इंडस्ट्रियल वेस्ट, वेस्ट वाटर, सीवरेज आदि से उच्च गुणवत्ता वाले स्वच्छ पानी (सबसे कम टीडीएस, सीओडी और बीओडी) के 99 प्रतिशत तक की रिकवरी के लिए वैक्यूम के तहत मैकेनिकल वेपर कम्प्रेशन प्रणाली पर आधारित है। उपरोक्त तकनीक में बिना किसी बाहरी हीट सोर्स का उपयोग जैसे बॉयलर, टर्बाइन या हीट रिजेक्शन सोर्स जैसे कंडेनसर, कूलिंग टॉवर आदि का उपयोग नहीं किया जाता है, जैसा कि पारंपरिक प्रणालियों में उपयोग किया जाता है। इस नई तकनीक पर आधारित लगभग 100 परियोजनाएं विश्व स्तर पर चल रही हैं, और इस तकनीक के औद्योगिक, वाणिज्यिक और घरेलू क्षेत्र में व्यापक उपयोग किए जा रहे हैं।

इस प्रकार न केवल जीरो लिक्विड डिस्चार्ज (जेडएलडी) प्राप्त कर रहा है बल्कि विभिन्न प्रक्रियाओं के दौरान इसे जीरो लिक्विड इनटेक (जेडएफआई) भी बना रहा है।

हाल ही में एसईडी को टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट डायरेक्टोरेट-इंडस्ट्री इंटरफेस, काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर), विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा “लो टेम्परेचर एवापोरेशन टेक्नोलॉजी“ नाम से किए गए इनोवेशन के लिए मान्यता प्रदान करते हुए डायमंड जुबली टेक्नोलॉजी अवार्ड-2020 और 10 लाख रुपये के नकद पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस पुरस्कार की घोषणा नई दिल्ली में 80वें सीएसआईआर स्थापना दिवस समारोह में की गई थी , जहां भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू विशिष्ट अतिथि थे।

विवेक वर्मा, प्रबंध निदेशक, स्प्रे इंजीनियरिंग डिवाइसेज लिमिटेड (एसईडी) का कहना है कि एसईडी पर्यावरण को टिकाऊ बनाने में दृढ़ता से विश्वास करता है और इसलिए इसकी तकनीक कम तापमान वाष्पीकरण प्रौद्योगिकी वैक्यूम के तहत मैकेनिकल वेपोयर कम्प्रेशन सिस्टम पर आधारित है, जो किसी भी प्रकार के बेकार जल / औद्योगिक कचरे / लीचेट आदि से उच्च गुणवत्ता वाले स्वच्छ पानी की 99 प्रतिशत तक की रिकवरी कर सकता है।

तकनीकी इनोवेशन की असाधारण विशेषताओं में शामिल हैं:-

• कोई हीट जनरेटर और रेजेक्टर नहीं • कोई रिवर्स ऑस्मोसिस नहीं • 99 प्रतिशत तक पानी की रिकवरी • न्यूनतम जल रिकवरी लागत • न्यूनतम कार्बन फुटप्रिंट • सर्वाधिक प्रभावी जल प्रबंधन समाधान • न्यूनतम स्लज (कीचड़) प्रबंधन • एक ही चरण में बेकार जल से सीधे साफ पानी • प्रोसेस में कोई रासायनिक उपचार नहीं • क्लोज्ड लूप मजबूत और ऑटोमैटिक

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
चण्डीगढ़ की क्रेच में बाल सेविका देवेंद्र कौर सात दिन से न्यायिक हिरासत में, विभाग की नर्मी से उठ रहे सवाल सिटीजन अवेयरनेस ग्रुप ने इंवेस्टर्स अवेयरनेस प्रोग्राम किया आयोजित युगप्रवर्तक- टैगोर और नज़रूल नामक किताब का विमोचन वल्र्ड हाइपरटेंशन डे: दिल से संबंधित समस्याओं को रोकने के लिए नियमित अंतराल पर ब्लड पे्रशर की करें जांच: डॉ अंकुर आहूजा विश्वकर्मा समाज, चंडीगढ़ के शंकराचार्य, जगतगुरू की उपाधि से विभूषित कश्मीरी पंडित की हत्या पर ब्राह्मण सभा ने रोष जताया नरमे, मक्की व मिर्च की फसलों की सुंडी को खत्म करने पर हुआ मंथन मानसिक स्वास्थ्य पर जागरूकता बढ़ाने के लिए फोर्टिस मोहाली के नर्सिंग स्टाफ ने वॉकथॉन का आयोजन किया स्वामी लाल जी महाराज का 8 दिवसीय निःशुल्क योग एवं चिकित्सा शिविर शुरू, उमड़े भक्तजन सुरेंद्र बेदी शनि मंदिर कमेटी के प्रधान नियुक्त, सुभाष तमोली बने चेयरमैन