ENGLISH HINDI Saturday, July 02, 2022
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इश्क में अंधी महिला ने प्रेमी संग मिल पति को मार डालाहिमाचल में अगली सरकार कांग्रेस की बनेगी, पार्टी एकजुट है: सुखविंदर सिंह सुक्खूइनर व्हील क्लब ने क्रेच के बच्चों के लिए दन्त चिकित्सा शिविर लगाया 'गो मैन-गो फेस्टिवल' फ्राम आर्गेनिक फार्मिंंग शुरू, 24 जुलाई तक चलेगापांच शूटरों सहित गिरफ्तार किये व्यक्तियों से 9 हथियार और 5 वाहन बरामदठेका आधारित कर्मियों की सेवाएं रेगुलर करने के लिए तीन सदस्यीय कैबिनेट कमेटी का गठनबारिश से शमशान घाट में रुके संस्कार, युवा कांग्रेस ने की एसडीओ को सस्पेंड करने की मांगशाह जी बाबा नौ गजा पीर जी का 27वां वार्षिक उर्स मुबारक मेला आयोजित
चंडीगढ़

हम तो सिर्फ शरीर हैं, ओशो ही आत्मा हैं : मां आनंद शीला

May 01, 2022 09:02 PM
ट्राईसिटी में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के वृद्धाश्रम खोलने के लिए चण्डीगढ़ के डॉ. हरचरण सिंह रनौता से मिलाया हाथ

 चण्डीगढ़ (आर के शर्मा)

इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाइटेड नेशंस एसोसिएनशंस (IFUNA/इफुना) ने ओशो रजनीश मूवमेंट की पूर्व प्रवक्ता  मां आनंद शीला को सम्मानित करने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया। इसमें इफुना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. हरचरण सिंह रनौता ने वरिष्ठ नागरिकों और डिजेनेरेटिव बीमारियों वाले लोगों की मदद करने के लिए उनके प्रयासों, सेवा और प्रतिबद्धता के लिए माँ आनंद शीला को सम्मानित किया क्योंकि वह उनके लिए स्विट्जरलैंड में पिछले 35 वर्षों से विशेष देखभाल गृह चला रही हैं।

आज इस मौके पर चण्डीगढ़ पधारीं मां आनंद शीला ने मीडिया से मुखातिब होते हुए ओशो को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि ओशो आज भी प्रासंगिक हैं व दुनिया भर में बड़ी संख्या में उनके भक्त व अनुयायी मोजूद हैं जो उनके प्रवचनों व उपदेशों एवं शिक्षाओं को ना केवल आत्मसात किए हुए हैं, बल्कि उन्हें आगे भी फैला रहें हैं। उन्होंने कहा कि हम तो केवल शरीर हैं, ओशो ही आत्मा हैं।

इस कार्यक्रम में  हरचरण सिंह रनौता ने  मां आनंद शीला के मार्गदर्शन में चण्डीगढ़ और पंजाब में इसी अंतर्राष्ट्रीय स्तर के विशेष देखभाल गृह स्थापित करने की संभावनाएं की बात की। डॉ. हरचरण सिंह रनौता ने प्रसिद्ध व्यापारियों, राजनीतिक हस्तियों, प्रशासनिक अधिकारियों, डॉक्टरों, वकीलों और जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों सहित दर्शकों के सामने मां आनंद शीला के साथ रूबरू  सत्र की मेजबानी की

आनंद शीला ने कहा कि वह पहली बार चण्डीगढ़ का दौरा कर रही है लेकिन वह दर्शकों, प्रशंसकों और इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाइटेड नेशंस का इस आयोजन को सफल बनाने के लिए किए गए प्रयासों से अभिभूत है। इसके अलावा उसने बताया कि वह जल्द से जल्द फिर से चण्डीगढ़ आने की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही है।

रूबरू के बाद एक प्रश्न उत्तर सत्र भी था जिसमें दर्शकों ने उसके अतीत के बारे में सवाल उठाए कि उसने अपने कठिन समय, अपनी वर्तमान परियोजनाओं और अपने भविष्य के प्रयासों को कैसे संभाला। माँ आनंद शीला ने उन सभी सवालों का जवाब दिया।

आनंद शीला ने कहा कि वह पहली बार चण्डीगढ़ का दौरा कर रही है लेकिन वह दर्शकों, प्रशंसकों और इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाइटेड नेशंस का इस आयोजन को सफल बनाने के लिए किए गए प्रयासों से अभिभूत है। इसके अलावा उसने बताया कि वह जल्द से जल्द फिर से चण्डीगढ़ आने की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही है।

सने यह कहते हुए निष्कर्ष निकाला कि IFUNA और वह समाज की बेहतरी के लिए विभिन्न परियोजनाओं में टीम के रूप में काम करेंगे। दर्शक और प्रशंसक मां आनंद शीला द्वारा लिखे गए पोस्टर, चित्र और किताबें भी लेकर आए, जिन पर मां आनंद शीला ने ऑटोग्राफ दिया था।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
इनर व्हील क्लब ने क्रेच के बच्चों के लिए दन्त चिकित्सा शिविर लगाया बारिश से शमशान घाट में रुके संस्कार, युवा कांग्रेस ने की एसडीओ को सस्पेंड करने की मांग शाह जी बाबा नौ गजा पीर जी का 27वां वार्षिक उर्स मुबारक मेला आयोजित अभिनंदन समारोह: साधु, संतों और महात्माओं का मुनि सभा द्वारा भव्य स्वागत किया गया ब्रह्मलीन श्री सतगुरु देव श्री श्री 108 श्री मुनि गौरवानंद गिरि जी महाराज की 35वीं पुण्य बरसी समारोह विश्व हिंदू परिषद ने भावनाओं को आहत करने वालों के खिलाफ दी शिकायत वर्ल्ड डी एडिक्शन डे के उपलक्ष्य में "नशे से मुक्ति" नुक्कड़ नाटक का आयोजन अग्निकांड से तबाह हुई फर्नीचर मार्केट के पुनर्वास की मांग सीआरपीएफ जवानों को योग को अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करने के लिए प्रेरित किया योग दिवस के अवसर पर छात्रों को बताया योग का महत्व