ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
हरियाणा

खट्टर सरकार की विफलता ही है कांग्रेस का बड़ा मुद्दा: कुमारी सैलजा

October 05, 2019 08:11 AM

नई दिल्ली: प्रदेश भर के सभी 90 सीटों पर नामांकन के समय कांग्रेस उम्मीद्वारों के हक में जिस तरह से जनसैलाब उमड़ा है, लोग ढोल नगाडे के साथ बाहर निकल आए, उसे देखकर कांग्रेस पार्टी पूरे उत्साह से भर गई है। प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि विभिन्न हलको से आई खबर के आधार पर साफ दिख रहा है कि कांग्रेस पार्टी 24 अक्टूबर को प्रदेश की जनता को नई सरकार देने जा रही है।

उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल सरकार पर सीधे हमला करते हुए कहा कि पांच साल के काम के नाम पर मुख्यमंत्री के पास दिखाने को कम और छिपाने को ज्यादा है। भाजपा ने झूठ की राजनीति करके प्रदेश में सत्ता हासिल की थी लेकिन अब उसे परेशान जनता को जवाब देने का समय आ गया है।

कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने की प्रेसवार्ता

कांग्रेस प्रत्याशियों के नामांकन में उमड़ा जनसैलाव

ढोल नगाड़ों की शोर में खुल रही है खट्टर सरकार की पोल

कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि भारी जन उत्साह के बीच प्रदेश के सभी सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल कर दिया। कांग्रेस पार्टी ने पूर्व घोषित प्रत्याशियों में एक विधानसभा सीट पुनहाना पर बदलाव किया गया है। पूर्व घोषित प्रत्याशी के जगह मोहम्मद इलियास को मैदान में उतारा गया औऱ उन्होंने नामांकन कर लिया है।

 उन्होंने कहा कि चुनाव के ऐलान के साथ ही अब लोग मुख्यमंत्री से पिछले पांच साल का हिसाब मांग रहे हैं। भाजपा सरकार के खोखले वादों की पोल खुल रही है और वोटर कह रहे हैं कि पहले पिछला हिसाब दो फिर वोट मांगो। ऐसे में तय लग रहा है कि हरियाणा की जनता दीवाली कांग्रेस सरकार के साथ मनाने जा रही है।

उन्होने कहा कि कांग्रेस पार्टी को लेकर प्रदेश की जनता में भारी उत्साह है। नामांकन के समय कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में जिस तरह से बड़ी संख्या में लोग उतर आए उसे देखकर साफ लग रहा है कि भाजपा सरकार के पांच साल में हाहाकार मचा रही जनता को चुनाव का ही इंतजार था।उम्मीद से भरे कांग्रेस के कार्यकर्ताबेहद उत्साहित हैं। प्रदेश अध्यक्ष के नाते अब यकीन हो चुका है कि तमाम गिले शिकवे और भेदभाव मिटाकर कांग्रेस के लोग घर घर जाकर लोगों का दरवाजा खटखटाएंगे। कांग्रेस केलोग समझते हैं कि अब झूठ की राजनीति करने वाली भाजपा को जवाब देने का समय आ गया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा ने हरियाणा में झूठ की राजनीति करके सत्ता हासिल की थी, उन्होंने लोगों के साथ छल किया है। इसलिए लोगों को लगता है कि अब जवाब देने के वक्त आ गया है। उन्होंने कहा कि लोग अब भाजपा से पिछले पांच साल का हिसाब मांग रहे हैं। लोगों का कहना है कि पहले पिछले पांच साल का हिसाब दो फिर वोट मांगो।

इस समय प्रदेश में बहुत सारे मुद्दे हैं। हर वर्ग के कर्मचारी धरने पर बैठे हैं। उनकी कहीं सुनवाई नहीं हो रही बल्कि उन पर लाठियां चलाई जा रही हैं।

अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि भाजपा संवाद में नहीं एकतरफा फैसले लेने में विश्वास रखती है। बेरोजगारी के मामले में हरियाणा पहले नंबर पर है। मुख्यमंत्री चाहे कुछ भी कहें लेकिन ये आंकड़े सबके सामने हैं तो वे छिपाने की कोशिश न करें। उन्होंने कहा कि नौकरियां किसी को मिलती नहीं और निजी क्षेत्र भी समाप्त होता जा रहा है। वहां भी नौकरियां खत्म होती जा रही हैं। पूरे राज्य मेंफैक्ट्रियां बंद होती जा रही हैं तो रोजगार मिले कहां से।

कुमारी सैलजा ने कहा कि आज हरियाणा क्राइम कैपिटल बन चुका है। पूरे देश में क्राइम का ग्राफ यहां सबसे ज्यादा है। दलितों पर अत्याचार बढ़ता जा रहा है। सरकार ने इस संबंध में 2016 के बाद आंकड़े जारी नहीं किए हैं  क्योंकि इनके पास दिखाने को कम और छिपाने को ज्यादा है।

उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार में महिलाएं बिलकुल भी सुरक्षित महसूस नहीं करतीं।प्रदेश में हमारी बहनें सुरक्षित नहीं हैं। रोजाना बलात्कार की घटनाएं सामने आ रही हैं। कोई महिला घर से निकलती है तो डर लगा रहता है कि कहीं कुछ अनहोनी न हो जाए। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने पर इन सब समस्याओं का जड़ से निदान किया जाएगा।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार ने पांच साल में हरियाणा में एक भी नई परियोजना शुरू नहीं की है यहां तक कि जो कार्य हमने शुरू किए थे उन्हें भी आगे नहीं ले जाया गया। इसी तरह ड्रग माफिया लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन सरकार कुछ नहीं कर रही है। अगर पंजाब में सख्ती बरती जा सकती है तो हमारी सरकार क्यों नहीं सख्ती बरत सकती।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री इस बात का जवाब दें कि उन्होंने गरीबों और किसानों के लिए क्या किया? क्या किसी को कोई प्लॉट या जमीन दी है। जबकि कांग्रेस के शासनकाल में 32 लाख से ज्यादा जरुरतमंदों को सौ गज के प्लॉट दिए गए थे। आम लोगों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए कदम उठाए गए थे।

पार्टी के टिकटों के वितरण को लेकर कुछ लोगों में छाई निराशा प उन्होंने कहा कि 1200 लोगों ने आवेदन किया था लेकिन टिकट तो 90 को ही मिलनी थी। इससे 1110 लोगों में रोष हो सकता है लेकिन वे पार्टी से अलग नहीं हैं। मुझे यकीन है कि चुनाव प्रचार के दौरान वे लोग भी पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में प्रचार करते नजर आएंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें