ENGLISH HINDI Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
रोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंहपुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयारअज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादें
राष्ट्रीय

गुरूनानक देव जी की 550 वीं जयंती को ग्रीन पर्व के रूप में मनाने हेतु आयोजन

October 23, 2019 07:57 PM

ऋषिकेश, ओम रातुड़ी: 

परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जईी को गुरूनानक देव जी की 550वीं जन्म जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में सहभाग करने हेतु आमंत्रित करने के लिये परमार्थ निकेतन में सिख धर्म गुरू पधारे। उन्होने करतारपुर कोरिडोर, सुलतानपुर लोधी,डेरा बाबा नानक, गोल्डन टेम्पल अमृतसर, श्री हरमन्दर साहेब आदि अन्य पवित्र स्थानों पर गुरूनानक देव जी की 550वीं जन्म जयंती के आयोजन हेतु स्वामी चिदानन्द सरस्वती को आमंत्रित किया।

-करतारपुर कोरिडोर, सुलतानपुर लोधी, डेरा बाबा नानक, अमृतसर गोल्डन टेम्पल, श्री हरमन्दर साहब आदि अन्य पवित्र स्थानों पर गुरूनानक देव जी की 550 वीं जन्म जयंती के आयोजन हेतु स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी को किया आमंत्रित

गुरूनानक देव जी की 550 वीं जयंती को ग्रीन पर्व के रूप में मनाने, साझा संस्कृति, विश्व शान्ति, परस्पर संवाद, और सब का सम्मान जैसे अनेक विषयों पर चर्चा हुई।
स्वामी ने गुरूनानक देव जी की 550 वीं जन्म जयंती पर आयोजित ग्रीन पर्व में सहभाग करने हेतु सभी के आमंत्रण को स्वीकार किया। इन दिव्य कार्यक्रमों में परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमार और आचार्य भी सहभाग करेंगे। स्वामी जी ने कहा कि अब समय आ गया है कि हम अपने पर्व, त्योहार, जन्मदिवस, विवाह दिवस और अन्य सभी उत्सवों को ग्रीन पर्व के रूप में मनायें।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि ’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ यही तो उनके संदेश थे। किसी एक के लिये नहीं बल्कि सभी के लिये थे। यह संदेश पूरी मानवता तक पहुंचने चाहिये, इसलिये ऐसे दिव्य आयोजन में वे निश्चित रूप से सहभाग करेंगे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने कहा कि पृथ्वी पर कोई भी धर्म ऐसा नही है जिसमें जल, वायु, धरती, आकाश और वृक्षों की महिमा न बतायी गयी हो। गुरूनानक देव जी ने लगभग 500 वर्ष पूर्व वायु को गुरू का दर्जा देकर इसकी उपयोगिता को समझाया है। अथर्ववेद में मानव और प्रकृति के सम्बंधों का उल्लेख मिलता है तथा उसमें भौगोलिक शान्ति की कामना की गयी है। हम अपने अतीत को पलट कर देखे तो सभी धर्मो ने पृथ्वी के संरक्षण का संदेश देते हुये कहा कि धरती के गर्भ में जो खजाने है उसका उपयोग तब किया जाये जब हमारे पास दूसरा कोई विकल्प न हो।
स्वामी ने कहा कि आज हम वायु प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिग, क्लाइमेट चेंज, कम वर्षा और अनेक तरह के प्रदूषण की समस्याओं से जुझ रहे है, यह समस्यायें हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिये खतरा उत्पन्न कर रहे है। हमने विकास की अंधी दौड़ में अपना जल, पर्वत, नदियां, वायु, धरती और पूरा वातावरण सब कुछ प्रदूषित कर दिया है साथ ही इन सब का अंधाधुध दोहन भी किया जिसका परिणाम वर्तमान में हम सभी के सामने है इसलिये आईये इन पर्वो के माध्यम से अपने को प्रेरित करे। हमारे पर्व प्रेरणापर्व बने; अपने कृत्यों के द्वारा धरती की पीढ़ा को हरे और गुरूनानक देव जी महाराज का संदेश ’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें क्योकि यह संदेश सार्वभौमिक है; सब के लिये है और पूरी मानव जाति के लिये है। गुरू नानक देव जी का प्रकाश सब के लिये था, वे सब के थे इसलिये प्रकाश पर्व पर प्रदूषण के अंधेरे को मिटाकर स्वच्छ पर्यावरण के प्रकाश से सभी को प्रकाशित करे।
स्वामी चिदानन्द ने कहा कि आज हमारे सामने एकल उपयोग प्लास्टिक एक विकराल समस्या है जिसका समाधान हम सभी को मिलकर करना होगा और सतत समावेशी विकास को अपनाना होगा। उन्होने कहा कि हमारा परम लक्ष्य केवल विकास करना नहीं होना चाहिये बल्कि सतत और सुरक्षित विकास को लक्ष्य बनाना होगा तभी हम और हमारी धरा दोनों सुरिक्षत रह सकते है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती के साथ सिख धर्मगुरूओं ने विश्व स्तर पर शुद्ध जल की आपूर्ति हेतु विश्व ग्लोब का जलाभिषेक किया। स्वामी ने कहा कि हमारे आयोजन के माध्यम से वैश्विक स्तर पर एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग न करने, जल का संरक्षण करने तथा वृक्षारोपण का संदेश जाना चाहिये। हमारे धार्मिक आयोजन पर्यावरण के प्रति जागरूकता का संदेशवाहक बने।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सड़क दुर्घटना में पौड़ी गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत समेत तीन घायल सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ साधु संतों ने की बैठक अमेज़न फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए 10 नवम्बर को दिल्ली में व्यापारियों की राष्ट्रीय बैठक आरसीईपी को अपनाने के केंद्र के निर्णय का सीआईआई ने किया समर्थन इस्‍पात मंत्री ने निवेशकों को भारत के विकास क्रम में भागीदार बनने का न्‍यौता दिया नराकास पंचकूला द्वारा स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आयोजित ईपीएफओ पेंशन न्यूनतम 7500 रूपये करने की मांग तेज झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के कार्यक्रम की घोषणा वॉट्सऐप में जल्द शुरू होगा पेमेंट की खास सर्विस: सीईओ ज़करबर्ग राष्ट्रपति करेंगे 2 से 4 नवम्बर तक सिक्किम और मेघालय का दौरा