ENGLISH HINDI Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
 
चंडीगढ़

वैलेंटाइन डे नही, शहादत दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए: रविंदर सिंह बिल्ला

February 14, 2020 04:39 PM

शहीदों को नमन कर दी भावभीनी श्रद्धांजलि

चंडीगढ़, अनुराधा कपूर

 
देश भर में वैलेंटाइन दिवस को युवाओं की ओर से बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाने लगा है, जो न तो हमारी सभ्यता है और न ही संस्कृति। ठीक एक वर्ष पहले 14 फरवरी 2019 को पुलवामा अटैक में 44 फौजियों के शहीद होने की आज पहली वर्षगांठ है, इसलिए सभी देशवासियों खासकर युवाओं को इसे शहादत दिवस के रूप में मनाना चाहिए। ये कहना है चंडीगढ़ व्यापार मंडल के लेबर कमेटी सेल के प्रेसिडेंट रविंदर सिंह उर्फ बिल्ला का।

रविंदर सिंह बिल्ला ने कहा कि युवा इसे प्यार का त्योहार कहते है, युवा वर्ग को चाहिए कि अगर प्यार करना ही है तो अपने देश से करें,अपने धर्म से और अपनी संस्कृति से करें।

चंडीगढ़ व्यापार मंडल के लेबर कमेटी सेल और मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर 24 के परस्पर सहयोग से आज वैलेंटाइन दिवस को न मना कर देश के सच्चे सपूतों और देश की आन बान और शान की खातिर अपनी जान न्योछावर करने वाले शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इन संस्थाओं के सदस्यों द्वारा शहीदों को नमन कर कैंडल जला कर उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दी गई।

रविंदर सिंह बिल्ला ने कहा कि युवा इसे प्यार का त्योहार कहते है, युवा वर्ग को चाहिए कि अगर प्यार करना ही है तो अपने देश से करें,अपने धर्म से और अपनी संस्कृति से करें।

इस अवसर पर चंडीगढ़ व्यापार मंडल के पूर्व चेयरमैन और नगर निगम के मनोनीत पार्षद चिरंजीव सिंह, अनिल वोहरा, अवनीश बंसल सहित अन्य पदाधिकारी और सदस्य भी मौजूद थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
वाल्मीकि आश्रम में की शिव परिवार की स्थापना सान्या शर्मा बनना चाहती है डॉक्टर, हासिल किए 92 फीसदी अंक गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल राम दरबार स्कूल में फलदार पौधे लगाए, प्रदीप छाबड़ा भी पहुंचे कोरोना महामारी से बचने के लिए मास्क सैनिटाइजर और 2 गज की दूरी जरूरी पौधारोपण....ताकि धरती हरी भरी रहे सावन में प्रवासी चिड़िया करतीं चीं..चीं कोरोना योद्धाओं को पुरस्कार देकर अपने जन्मदिन पर किया सम्मानित परीक्षाएं लेने के फैसले विरुद्ध ‘आप’ विद्यार्थी विंग ने किया रोष प्रदर्शन बिजली विभाग का कारनामा: भुगतान तिथि वाले दिन भेजे जा रहे हैं बिल पेड़ों के बिना जीवन नहीं, पेड़ ही जीवन है, पेड़ लगाओ जीवन बचाओ