ENGLISH HINDI Tuesday, August 04, 2020
Follow us on
 
चंडीगढ़

पारस अस्पताल पंचकूला के डाक्टरों ने दिमाग की नस फटने के केस में मरीज की जान बचाई

July 15, 2020 04:42 PM

दिमाग की नस फूलने का सफल इलाज पारस अस्पताल में सुलभ: डा. विवेक गुप्ता, दिमाग का दौरा उम्र से पहले बनता है मौत कारण : डा. अनिल ढींगरा

पंचकूला(अनुराधा कपूर): सुपर स्पैशलिटी अस्पताल पंचकूला के दिमाग के रोगों संबंधी विभाग के डाक्टरों की टीम ने दिमाग की नस फटने तथा नस फूलने जैसे रोगों प्रति जागरूकता पैदा करने के मकसद से पत्रकारों के साथ बातचीत की। इस अवसर पर न्यूरो सर्जरी के एसोसिएट डायरेक्टर डा. अनिल ढींगरा तथा न्यूरोरेडियोलॉजी के सीनियर कंस्लटेंट तथा प्रोफैसर विवेक गुप्ता ने संबोधन किया।

  पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए डा. विवेक गुप्ता ने कहा कि दिमाग का दौरा (ब्रेन स्ट्रोक) तथा नस फूलने की समस्या अब भारत में आम बीमारी के तरह में उभर रही है तथा हर साल देश में डेढ़ से दो लाख लोग इस बीमारी से पीडि़त होते हैं। उन्होंने कहा कि यह बीमारी सबसे अधिक जानलेवा है। ऐसे मरीजों की गिनती इससे भी अधिक हो सकती है, क्योंकि ज्यादातर लोग इलाज के लिए अस्पतालों में नहीं पहुंचते। डा. गुप्ता ने कहा कि अब नई तकनीक से इसका इलाज संभव है। पारस अस्पताल में कोआइल एंड फलो डाइवर्टज नामक यह इलाज सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि देश में सिर्फ 50 अस्पतालों में में इस तकनीक से इलाज किया जाता है।

डा. विवेक गुप्ता ने बताया कि उनकी टीम ने इस तकनीक से एक 41 वर्षीय पुरूष मरीज का इलाज किया है, जिसको बेहोशी की हालत में अस्पताल लाया गया था। उसके दिमाग की नस फटने से दिमाग के अंदर बहुत सारा खून बह गया था। अस्पताल में उसका इलाज इस नई तकनीक से किया गया तथा वह 8 दिनों में ठीक हो गया तथा चलना-फिरना शुरू कर दिया। इलाज के बाद उसको अधरंग या लकवे वगैरह की कोई शिकायत नहीं थी। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में पारस अस्पताल एकमात्र ऐसा अस्पताल है जहां दिमागी दौरे के इलाज के लिए यह आधुनिक सुविधा उपलब्ध है।

डा. अनिल ढींगरा ने इस मौके संबोधन करते हुए कहा कि दिमागी दौरा तथा नस फूलने की समस्या आम तौर पर रक्तचाप (बल्ड प्रैशर) बढऩे से होती है, क्योंकि दिमाग के अंदर की नस रक्त के प्रेशर से कमजोर जगह से फूल जाती है तथा कई बार फट जाती है। इस कारण एक तिहाई मरीजों की मौत हो जाती है तथा अन्यों को अधरंग या लकवा हो जाता है, जिस कारण वह अपाहिज हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि यदि समय पर मरीज का इलाज शुरू न हो तो बहुत नुकसान हो जाता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
आनलाइन तीज सेलीब्रेशन मेें काम्या शर्मा ने जीता खिताब तथास्तु चैरिटेबल सोसायटी की बच्चों की चार दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न दड़वा में लागू हुआ प्रधानमन्त्री का "घर-घर जल" मिशन, धर्मेंद्र सिंह सैनी ने आभार जताया सावन के आखिरी सोमवार सेक्टर 46 सनातन धर्म मंदिर में उमड़ी भक्तों की भीड़ भाई बहन के प्यार का सर्वश्रेष्ठ बंधन रक्षा बंधन महिलाओं ने ओल्ड ऐज होम में बजुर्गों और पुलिस चौकी में पुलिस कर्मियों को बाँधी राखी राखी के मौके घर में रह कर बनाईं सुंदर राखियां सभी ने मनाई एक साथ ईद तो बन गई मिसाल युगदृष्टा लेखक थे प्रेमचंद, अपनी चेतनता एवं चिंतनशीलता से किया सत्य साबित खस्ता हाल सड़कों को लेकर रोष, शीघ्र मुरम्मत की उठी मांग