ENGLISH HINDI Friday, October 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

एयर मार्शल हरजीत सिंह एवीएसएम एडीसी ने वायुसेना उप-प्रमुख का पदभार संभाला

October 01, 2019 10:16 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
एयर मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा एवीएसएम एडीसी ने आज सवेरे वायुसेना के उप प्रमुख का पदभार संभाल लिया।
एयर मार्शल हरजीत अरोड़ा दिसम्‍बर, 1981 में लड़ाकू पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना में कमीशन किये गये थे। उन्‍हें हेलिकॉप्‍टरों सहित मिग-21, मिग-29 तथा भारतीय वायुसेना के बेड़े के अन्‍य विमानों को उड़ाने का समृद्ध अनुभव है। वह टैकटिक्‍स एंड एयर कमबैट डवलपमेंट स्‍टैबिलशमेंट, डिफेंस सर्विस, स्‍टॉफ कॉलेज तथा नेशनल डिफेंस कॉलेज के स्‍नातक हैं। वह रक्षा अध्‍ययन में स्‍नातकोत्‍तर हैं तथा रक्षा और रणनीतिक अध्‍ययन में मॉस्‍टर ऑफ फिलॉसफी हैं।
एयर मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा दक्षिण-पश्चिम सेक्‍टर में मिग-21 स्‍कवैड्रन की कमान संभाली और बाद में वह इसी सेक्‍टर में एयर डिफेन्‍स डायरेक्‍शन सेंटर के कमांडर रहे। उन्‍होंने मिग-29 बेस की कमान भी संभाली है। वह एयर वायस मार्शल के रूप में पश्चिमी वायु कमान और पूर्वी वायु कमान मुख्‍यालय में एयर डिफेंस कमांडर थे। एयर मार्शल के रूप में वह महानिदेशक (जांच और सुरक्षा) तथा वायु सेना मुख्‍यालय में महानिदेशक एयर (संचालन) के पद पर रहें।
वायु सेना के उप प्रमुख के रूप में पदभार संभालने से पहले वह दक्षिण-पश्चिम वायु कमान के एयर ऑफिसर कमानडिंग इन चीफ थे।
एयर मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा ‘टैकटिक्‍स एंड एयर कमबैट डवलपमेंट स्‍टैबिलशमेंट’ में डायरेटिंग स्‍टॉफ रहे हैं और एयर स्‍टॉफ इंस्‍पेक्‍शन निदेशालय में फ्लाइंग इंस्‍पेक्‍टर रहे हैं। वह 2006 से 2009 तक बैंकॉक, थाईलैंड में भारतीय दूतावास में रक्षा अताशे रहे।
एयर मार्शल को उनकी उत्‍कृष्‍ट सेवा के लिए राष्‍ट्रपति ने उन्‍हें 26 जनवरी, 2011 को ‘अति विशिष्‍ट सेवा पदक’ से सम्‍मानित किया। वह माननीय राष्‍ट्रपति के मानद वायु सेना एडीसी नियुक्‍त किये गये।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये