ENGLISH HINDI Friday, July 10, 2020
Follow us on
 
पंजाब

लाखों की लागत से छह साल पहले बना कम्युनिटी सेंटर बना सफेद हाथी, नहीं होते फंक्शन

October 13, 2019 09:28 PM

रेजिडेंट्स वैलफेयर एसोशिएशन्स ने देखभाल को बनाया क्लब

ज़ीरकपुर, जेएस कलेर

जीरकपुर नगर कौंसिल द्वारा लाखों रुपए की लागत से ढकोली क्षेत्र में तैयार किए कम्युनिटी सेंटर को बने सालों बीत गए, लेकिन इसमें आज तक किसी कार्यक्रम का आयोजन नहीं हुआ। इसकी वजह यह नहीं कि इसमें लोगों की दिलचस्पी नहीं, बल्कि नगर कौंसिल द्वारा इसे पब्लिक के लिए खोला ही नहीं गया, जिसके लिए पिछले कई सालों से क्षेत्रीय आरडब्ल्यूए एसोशिएशन्स संघर्ष कर रहीं हैं और इस संबंध में कई बारी अधिकारियों को मिल भी चुके हैं। ऐसे में कम्युनिटी सेंटर की बिल्डिंग की हालत काफी हद तक खस्ता हो चुकी है। 

 बता दें कि शहर के ढकोली क्षेत्र में नगर कौंसिल जीरकपुर द्वारा करीब 6 साल पहले लाखों रुपए की लागत से कम्युनिटी सेंटर का निर्माण करवाया गया था, जिसके तहत लोगों को निजी व सामाजिक कार्यक्रम करने की कुछ शुल्क पर सुविधा दी जानी थी। परंतु सालों बीत जाने के बाद भी ऐसा कुछ नहीं हो पाया।
बिल्डिंग होने लगी खस्ता 

इन दिनाें कम्युनिटी सेंटर की बिल्डिंग की हालत खराब होने को है। बिल्डिंग के लगे शीशे ही नहीं टूट गए, बल्कि चारदीवारी भी दम भर रही है,क्योंकि धीरे इसकी ईंटे गायब हो रही हैं। बिल्डिंग रामभरोसे होने के कारण इसमें आवारा पशु तो घूमते ही हैं, साथ ही आवारा तत्वों का अड्डा भी बनता जा रहा है।

निजी पैलेस उठा रहे हैं लाभ
सालों बीत जाने के बाद भी कम्युनिटी सेंटर को कार्यक्रम किए जाने के लायक न बन पाना विभाग की कार्यप्रणाली की ओर सवाल खड़े कर रहा है। इसी का लाभ निजी पैलेस वाले उठा रहे हैं। क्योंकि कम्युनिटी सेंटर में कार्यक्रम करने के लिए लोगों को कुछ ही शुल्क देना पड़ता है, जबकि निजी पैलेस या बैक्वेंट में कार्यक्रम करने के लिए कम से कम पचास हजार रुपए का खर्च तो उठाना ही पड़ता है। इस क्षेत्र में करीब दस से बारह हजार लोगों की आबादी है। जिनकी कम्युनिटी सेंटर खुलने की उम्मीद टूट चुकी थी। क्योंकि इसे बने सालों बीत चुके हैं और अब बिल्डिंग की चमक-दमक भी फीकी पड़ गई थी । इसकी जिमेवारी अब आरडब्यूए एसोसिएशन ने लेने के लिए एक क्लब के गठन किया है।
ढकोली में कम्युनिटी सैंटर वैल्लफेयर क्लब का गठन, शर्मा प्रधान और कुलभूषन महासचिव
नगर कौंसिल ज़ीरकपुर की ओर से ढकौली के बसंत विहार कालोनी नज़दीक बनाए कम्युनिटी सैंटर की संभाल के लिए आज क्षेत्र के निवासियों की ओर से कम्युनिटी सैंटर वेलफेयर क्लब का गठन किया गया। इस मौके पर सर्वसम्मिती के साथ एसके शर्मा को क्लब का प्रधान और कुलभूशन शर्मा को सचिव चुना गया।  कम्युनिटी सैंटर वेलफेयर क्लब के सचिव कुलभूषन शर्मा ने बताया कि इस कम्युनिटी सैंटर का निर्माण साल 2013 में विधायक एन.के शर्मा की ओर से करवाया गया था परंतु इस के बाद किसी ने भी इस कम्युनिटी सैंटर की संभाल न किये जाने कारण यह कम्युनिटी सैंटर ने लम्बे समय से कचरा घर का रूप ले लिया था। बीते करीब दो साल से वह इस कम्युनिटी सैंटर की संभाल करते आ रहे हैं और नगर कौंसिल के सहयोग के इलावा अपनी ओर से पैसे इकठ्ठा कर इस कम्युनिटी सैंटर के ज़रूरी काम करवा रहे हैं। कम्युनिटी सैंटर में ज़रूरी सभी सहूलतें मिलना बाकी हैं। जिसको पूरा करने के मकसद से उनकी तरफ से क्लब का गठन किया गया है जिससे समय समय और नगर कौंसिल आधिकारियों के साथ संबंध कायम करके इस कम्युनिटी सैंटर का काम मुकम्मल करवाया जा सके। आज क्लब के गठन मौके अन्यों के अलावा जेपी बंगा को उप प्रधान, जी एस वर्मा को कैशियर, जी एस सहगल को जुआइंट सचिव, राकेश कपिला को आरगेनाईजिंग सचिव, सोहन लाल और लाभ सिंह को कार्यकारिणी मैंबर चुना गया। क्लब के समूह सदस्यों की ओर से प्रशासन से माँग की गई कि यदि प्रशासन इस कम्युनिटी सैंटर की संभाल नहीं करवा सकता तो यह कम्युनिटी सैंटर उन के क्लब के हवाले किया जाये जिससे इस कम्युनिटी सैंटर को दुबारा कूड़ा घर बनने से बचाया जा सके।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
बरगाड़ी-बहबल कलां कांड में लोगों की कचहरी के मुख्य आरोपी हैं बादल: मान इंतकाल फीस 300 रुपए से बढ़ाकर 600 रुपए की, महामारी झेल रहे लोगों पर अतिरिक्त भार राज्य में खेल ढांचे की मज़बूती के लिए कड़े निर्देश शिरोमणि कमेटी के फ़ैसले से पंजाब के 3.5 लाख दूध उत्पादकों के पेट पर पड़ी लात: रंधावा पहलकदमी : बरनाला में घुटनों की तकलीफ के मरीजों का दूरबीन से इलाज डेराबस्सी में कोरोना का कहर: बेहड़ा में 33 पॉजिटिव, जवाहरपुर पुन: सुर्खियों में सिविल डिफेंस द्वारा रक्तदान शिविर 9 जुलाई को सिविल अस्पताल में पंजाब के 22 में से 18 जिले नशे की चपेट में : सांपला वेरका ने पशु खुराक के दाम 80-100 रुपए प्रति क्विंटल घटाये गांव खेड़ी गुजरां में दूषित पानी पीने से चार भैंसों की मौत का मामला, एसडीएम ने किया मौके का दौरा