ENGLISH HINDI Sunday, January 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द लास्ट बेंचर्स "और अमृत कैंसर फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया मैमोग्राफी, डेकसा और डेंटल जांच शिविर26 को वाईस ऑफ़ इंडिया नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन पर विशाल पद यात्रा कैंसर की चपेट में गांव बडबर, 6 से अधिक लोगों की हो चुकी मौतवाल्मीकि समाज ने नगर निगम कमिश्नर और पूर्व मेयर राजेश कालिया का पुतला फूंकाअवैध माइनिंग के खिलाफ हरकत में आया प्रशासन, मुबारिकपुर घग्गर नदी पर बनाए अवैध पुल को तोड़ागणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयकर विभाग ने लगाया रक्तदान शिविर, 108 रक्त यूनिट एकत्रितजुडो चैंपियनशिप में आर्यन ने जीता गोल्ड, प्रिंस ने रजत व अंजू ने कांस्य हासिल कियापंजाब की सर्वदलीय बैठक के बयान का कोई औचित्य नहीं: मुख्यमंत्री
राष्ट्रीय

धूम्रपान व धुएं से दूर रहकर क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज से बचाव:पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत

December 03, 2019 09:06 PM

ऋषिकेश/ओम रतूड़ी्  अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग की ओर से विश्व सीओपीडी दिवस के उपलक्ष्य में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान सभी ने सीओपीडी जैसी बीमारी से दूर रहने के लिए धूम्रपान व धुएं से दूर रहने का संकल्प लिया। पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के तत्वावधान में क्राॅनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज सीओपीडी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित जनजागरूकता कार्यक्रम की एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने सराहना की। उन्होंने बताया कि सीओपीडी एक ऐसी बीमारी है,जिसका बचाव संभव है।

  निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि धूम्रपान व धुएं से दूर रहकर प्रत्येक व्यक्ति आसानी से क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज से स्वयं का बचाव कर सकता है। इस दौरान निदेशक एम्स ने विश्व सीओपीडी आर्गेनाइजेशन के हम सब एक साथ मिलकर सीओपीडी जैसी बीमारी का अंत करेंगे संकल्प को पूरा करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति से आगे आने का आह्वान किया।

पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि लोग इस तरह के आयोजनों से स्वास्थ्य के प्रति जागरुक होते हैं। इस अवसर पर विभाग की फैकल्टी मेंबर डा. रूचि दुआ व डा. प्रखर शर्मा ने मरीजों व उनके परिजनों से सीओपीडी बीमारी के लक्षणों व बचाव संबंधी विस्तृत जानकारियां दी। उन्होंने बताया कि यह बीमारी बीड़ी, सिगरेट के सेवन व लकड़ी के चूल्हे के धुएं से अत्यधिक होती है, जिसका कारगर इलाज इन्हेलर दवा, सांस की एक्सरसाइज, योगाभ्यास व धुएं से बचाव ही है। कार्यक्रम में मनो चिकित्सा विभाग क डा. विशाल धीमान ने धूम्रपान से होने वाले शारीरिक व मानसिक नुकसान से अवगत कराया व इस आदत को छुड़वाने, बीमारी से मुक्ति के लिए असरकारक दवाइयें व काउंसलिंग संबंधित जानकारियां दी।

आयोजित कार्यक्रम में संस्थान के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग की ओर से मरीजों को निशुल्क सांस का जांच की सुविधा उपलब्ध कराई गई।स्वांस रोग विभागाध्यक्ष डा. गिरीश सिंधवानी ने लोगों को एम्स संस्थान के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि संस्थान में सोमवार को सीओपीडी स्पेशल क्लिनिक संचालित की जाती है,जिसमें मरीजों को सांस की जांच, सांस की एक्सरसाइज, धूम्रपान निरोधक क्लिनिक आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पासपोर्ट धारकों को पासपोर्ट की समाप्ति तिथि से पहले भेजा जाएगा संदेश क्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं? बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना जांच के दायरे में करीब 20 हजार लोग, दिल्ली पुलिस कर रही है पड़ताल भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव जल होगा तो सब होगा: स्वामी चिदानन्द सरस्वती चिकित्सक को चिकित्सा ज्ञान के साथ व्यवहार कुशल होना भी जरुरी: प्रो. कांत फरवरी से अयोध्या में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 100008 कुंडीय श्री सीताराम महायज्ञ नागरिकता संशोधन विधेयक किसी के भी विरोध में नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती