ENGLISH HINDI Sunday, January 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द लास्ट बेंचर्स "और अमृत कैंसर फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया मैमोग्राफी, डेकसा और डेंटल जांच शिविर26 को वाईस ऑफ़ इंडिया नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन पर विशाल पद यात्रा कैंसर की चपेट में गांव बडबर, 6 से अधिक लोगों की हो चुकी मौतवाल्मीकि समाज ने नगर निगम कमिश्नर और पूर्व मेयर राजेश कालिया का पुतला फूंकाअवैध माइनिंग के खिलाफ हरकत में आया प्रशासन, मुबारिकपुर घग्गर नदी पर बनाए अवैध पुल को तोड़ागणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयकर विभाग ने लगाया रक्तदान शिविर, 108 रक्त यूनिट एकत्रितजुडो चैंपियनशिप में आर्यन ने जीता गोल्ड, प्रिंस ने रजत व अंजू ने कांस्य हासिल कियापंजाब की सर्वदलीय बैठक के बयान का कोई औचित्य नहीं: मुख्यमंत्री
हिमाचल प्रदेश

पड़ोसी देशों में प्रताड़ना झेल रहे अल्पसंख्यकों के लिए विधेयक उम्मीद की किरण: ठाकुर

December 10, 2019 07:18 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफ़ेयर्स राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने नागरिक संशोधन बिल 2019 के लोकसभा में पास होने पर हर्ष जताते हुए इसे पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों के हित में मोदी सरकार द्वारा उठाया गया बड़ा क़दम बताया है व इस संशोधन बिल के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री श्री अमित शाह का आभार प्रकट किया है।
‪श्री ठाकुर ने कहा” प्रधानमंत्री व गृहमंत्री के अटल इरादों से पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों के माथे से चिंता की लकीरें मिट रही हैं। कल लोकसभा में नागरिक संशोधन विधेयक 2019 के पारित होने से पिछले कई वर्षों से पड़ोसी देशों में धार्मिक प्रताड़ना का दंश झेल रहे अल्पसंख्यक समुदाय के लिए नागरिक संशोधन विधेयक 2019 एक उम्मीद की किरण जगी है। आज़ादी के बाद हुए नेहरू-लियाक़त समझौते की गलती को सुधार कर मोदी सरकार द्वारा पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों को यहाँ नागरिकता देने का यह प्रशंसनीय प्रयास है।
आगे बोलते हुए ठाकुर ने कहा” भारत अपने पड़ोसी देशों के साथ हुए सभी समझौतों का पालन करने वाला एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है मगर हमारे पड़ोसी देशों ने सदैव भारत को धोखे में रख कर छलने का काम किया है। 1947 में पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की आबादी 23% थी जो 2011 में घटकर 3.7 % हो गई, 1947 में पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) में अल्पसंख्यकों की आबादी 22% थी जो 2011 में मात्र 7.8% रह गई। लाखों-करोड़ों शरणार्थी यातनाएं झेल रहे हैं। उन्हें सुविधाएं नहीं मिली, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाएं, नौकरी नहीं मिली, उन लोगों को यातनाओं से मुक्ति के लिए मोदी सरकार यह बिल लेकर आई है। देश की आजादी के बाद अगर कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश का विभाजन न किया होता, तो आज नागरिकता संशोधन बिल लाने की जरूरत नहीं पड़ती”।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
शोभा यात्रा से हुआ प्रागपुर राज्य स्तरीय लोहड़ी मेले का शुभारंभ मकर संक्रांति पर पर्यटन विभाग पकाएगा 1100 किलो खिचड़ी नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर प्रदेश स्तरीय जन जागरण अभियान 5 से नये साल के पहले दिन श्रद्धालुओं का तांता ज्वालामुखी में आरोह सांस्कृतिक समारोह का आयोजन एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और अमृत फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्प पठन पाठन का तौर तरीका बदलना होगा: डिप्टी स्पीकर हंस राज कंपनी में रोजगार के लिए चयनित किया विद्यार्थियों में सामाजिक चेतना विकसित करें शिक्षक एवं अभिभावक: परमार ग्रेट पेरेंट्स डे पर वेद धारा ग्लोबल स्कूल में दादा दादी की धूम