ENGLISH HINDI Saturday, July 11, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

आठवें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिज्म का शुभारंभ

February 14, 2020 11:36 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
अंतराष्ट्रीय पत्रकारिता केंद्र के अंतर्गत आठवें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिस्म का मारवाह स्टूडियो में उदघाट्न किया गया। समारोह का उदघाट्न करते हुए डॉ संदीप मारवाह ने कहा 12 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है और हमारा यही उद्देश्य है कि हम इस समारोह के जरिए प्रेम, शांति व एकता पूरे विश्व में स्थापित करें।

समारोह के उद्घाटन के अवसर स्लोवेनिया के राजदूत मार्जन सेन्सेन, पेरू के राजदूत कार्लोस पोलो, बोस्निया के राजदूत मोहम्मद सेनजिक, रोमानिया के राजदूत राडू ऑक्टेवियन डोबरे, घाना के राजदूत माइकल एरॉन ओकाये, भाजपा के नेशनल सेक्रेटरी तीरथ सिंह रावत, के. एल. गंजु, कॉलमनिस्ट अशोक कुमार टंडन, लिसोथो के कॉउंसलर हाई कमिशनर मोफते सेकमान, कॉलमनिस्ट माधवन नारायणन और फिल्म क्रिटिक कोमल नाहटा उपस्थित हुए जिसमें एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसका विषय था 'राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अखंडता को बनाए रखने में मीडिया की भूमिका'।

समारोह के उद्घाटन के अवसर स्लोवेनिया के राजदूत मार्जन सेन्सेन, पेरू के राजदूत कार्लोस पोलो, बोस्निया के राजदूत मोहम्मद सेनजिक, रोमानिया के राजदूत राडू ऑक्टेवियन डोबरे, घाना के राजदूत माइकल एरॉन ओकाये, भाजपा के नेशनल सेक्रेटरी तीरथ सिंह रावत, के. एल. गंजु, कॉलमनिस्ट अशोक कुमार टंडन, लिसोथो के कॉउंसलर हाई कमिशनर मोफते सेकमान, कॉलमनिस्ट माधवन नारायणन और फिल्म क्रिटिक कोमल नाहटा उपस्थित हुए जिसमें एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसका विषय था 'राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अखंडता को बनाए रखने में मीडिया की भूमिका'।

मार्जन सेन्सेन ने इस अवसर पर कहा कि अगर आप जर्नलिस्म में कदम रख रहे है तो आपकी कलम को सच्चाई लिखने की आदत होनी चाहिए क्योंकि ईमानदारी इस प्रोफेशन का सबसे अहम और सबसे पहला काज है और आज पत्रकारिता सिर्फ समाचारपत्र में नहीं रह गयी है वह न्यूज़ चैनल, ब्लॉग, सोशल मीडिया तक आ गयी है और आज सोशल मीडिया बहुत बड़ा माध्यम बन गया है किसी भी घटना पर आँखों देखा हाल लिखने और बताने के लिए। कार्लोस पोलो ने कहा की हमारे देश में हर किसी को अपने विचार प्रकट करने की खुले तौर पर आज़ादी है और लेखन की स्वतंत्रता है।

राडू डोबरे ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा की मैंने अपने करियर की शुरुआत पत्रकारिता से ही की थी लेकिन उस समय की पत्रकारिता अलग थी, आज की पत्रकारिता और नब्बे के दशक की पत्रकारिता में बहुत बदलाव आ गया है। मोहम्मद सेनजिक ने कहा कि अगर हम पत्रकारिता की बात करे तो उसमे बहुत बदलाव आया, पहले हमे किसी खबर के लिए सिर्फ रेडियो, टीवी या समाचारपत्र पर ही आश्रित रहते थे लेकिन आज आप विश्वभर की खबरें अपने मोबाइल पर उसी समय देख लेते है सोशल मीडिया और ऑनलाइन न्यूज़ के माध्यम से।

कोमल नाहटा ने कहा कि पत्रकार का काम पूरे देश को सच्चाई से अवगत कराना होता है जो पत्रकार दिखाता है वही जनता समझती और जानती है इसलिए पत्रकार को हमेशा अपने काम के प्रति ईमानदार होना ज़रूरी है। तीरथ सिंह रावत ने कहा कि मैंने पत्रकारिता को जानने के लिए पत्रकारिता में डिप्लोमा किया लेकिन कुछ समय पश्चात ही इसमें मेरी रूचि खत्म हो गयी, आज एक सत्य यह है की जैसे राजनीति है वैसे ही जर्नलिस्म है दोनों में ही कड़ा परिश्रम है, काम की कोई समय सीमा नहीं है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
भ्रष्ट तंत्र की उपज है विकास दुबे— जो बहुतों का जीवन ही ले डूबे एम्‍स दिल्‍ली ने कोविड क्‍लीनिकल मैनेजमेंट के बारे में राज्‍य के डॉक्‍टरों को टेली-परामर्श देना शुरु किया 25 वर्ष के अविवाहित दिव्यांग पुत्र ईसीएचएस सुविधा प्राप्त करने के पात्र कोविड-19 से लड़ने हेतु ईसीएचएस के तहत प्रति परिवार एक पल्स ऑक्सीमीटर की प्रतिपूर्ति की अनुमति अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन योजना अवधि को जुलाई से पांच माह और बढ़ाकर नवंबर तक की मंजूरी भारत में दीपगृह पर्यटन के अवसरों को विकसित करने का आह्वान महामारी को देखते हुए परीक्षाओं पर यूजीसी संशोधित दिशानिर्देश, अकादमिक कैलेंडर जारी कोविड—19: ठीक होने वालों की संख्या करीब 4 लाख 40 हजार हुई आईसीएआर-राष्ट्रीय पादप आनुवांशिक संसाधन ब्यूरो ने किए एमओयू पर हस्ताक्षर सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी?