ENGLISH HINDI Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

लक्ष्य ज्योतिष संस्थान के निशुल्क ज्योतिष कैंप में लोगों ने कुंडली दिखा जाना भविष्य

September 08, 2019 05:27 PM

चंडीगढ़ :लक्ष्य ज्योतिष संस्थान चंडीगढ़ की ओर से सेक्टर 40 सी के श्री शिव शक्ति मंदिर में आज 08 सितंबर रविवार को छठे निशुल्क ज्योतिष कैंप का आयोजन किया गया । ज्योतिष कैंप में पंजाब हरियाणा और हिमाचल सहित समस्त उत्तर भारत के ज्योतिष विद्या की विभिन्न विधाओं वैदिक, हस्त रेखा, टैरो कार्ड रीडर, अंक गणित, स्प्रिचुअल हीलर, रैकी, वास्तु-नाड़ी, लाल किताब एवं के पी एस्ट्रोलॉजी से जुड़े विशेषज्ञ ज्योतिष आचार्यों भाग लिया। शिविर के दौरान  लोगों  ने भारी संख्या में पहुंच इस कैम्प का लाभ उठाया।

लक्ष्य ज्योतिष संस्थान की प्रेजिडेंट आचार्य बीना शर्मा, फाउंडर व् चेयरमैन डॉक्टर रोहित कुमार और वाईस प्रेजिडेंट पियूष कुमार ने बताया कि संस्थान की ओर से आयोजित इस ज्योतिष कैंप को निशुल्क लगाया गया है, इसमें न तो ज्योतिष विशेषज्ञों से स्टाल लगाने औऱ न ही कुंडली टेवा दिखा अपने परिवार की ग्रह दशा जानने आये आम जनता से किसी भी प्रकार की धनराशि ली गयी है।

डॉक्टर रोहित कुमार ने बताया कि इस कैंप का मुख्य उद्देशय वैदिक ज्योतिष का प्रचार प्रसार है, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा इस विद्या के बारे में जान सके। उन्होंने बताया की उनके संस्थान की और से गरीब परिवार के बच्चो को ज्योतिष विद्या की फ्री एजुकेशन दी जाती है । ताकि वो इस विद्या से वो न केवल लोगों को जीवन में आ रही विभिन्न परेशानियों से छुटकारा पाने का उपाए बता सके, साथ ही अपने परिवार का भरण पोषण कर सके। उन्होंने बताया की हालांकि ज्योतिष द्वारा जीवन में आ रही परेशानियों से छुटकारा तो नहीं पाया जा सकता, परन्तु ज्योतिष विद्या के उपायों से इन पर काफी हद तक नियंत्रण  जरूर पाया जा सकता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
सितंबर में सितारों की बदली चाल, केैसा रहेगा अब हाल ? 2 सितंबर, 1860 के बाद 18सितंबर,2020 से अधिक मास आरंभ, ऐसा संयोग अब 2039 में फिर बनेगा क्यों करें श्राद्ध ? इस बार श्राद्ध- 2 सितंबर से 17 सितंबर तक इस बार श्राद्ध और नवरात्र के मध्य एक मास का अंतराल, श्राद्ध 1 सितंबर से नवरात्र 17 अक्टूबर से आरंभ कोरोना काल को न बनने दें अवसाद का कारण 22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन कब मनाएं जन्माष्टमी , 11या 12 अगस्त को ? 5 सदियों बाद 5 अगस्त को अभिजित मुहूर्त में राम जन्म भूमि पूजन, राम राज्य की ओर अग्रसर भारत पहली अगस्त से शुक्र ग्रह आ रहे हैं मिथुन राशि में किस तरह 23 जुलाई को मनाई जाएगी हरियाली तीज