ENGLISH HINDI Sunday, September 25, 2022
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पश्चिमी कमान मुख्यालय में सेना और सीमा सुरक्षा बल का सम्मेलन आयोजितलंबे अरसे से ट्रांसपोटरों की तरफ से माल ढुलाई के मौके पर करोड़ों रुपए कर चोरी करने का पर्दाफाशनेटबॉल पंजाब की टीम "राष्ट्रीय खेल 2022" में भाग लेने के लिए बठिंडा से गुजरात के लिए हुई रवानाग्राम घोलूमजरा में दाह संस्कार के लिए न ना कोई पक्का श्मशान घाट और ना ही जगहपरेशानी: रेल फाटक के दोनों ओर जाम में फंसे लोगदो पंजाबी कर्मियों को परेशान कर नौकरी से निकालने पर किसान जत्थेबंदी ने किया रोष प्रदर्शनसुंडरा गांव में हो रहा अवैध खनन, सरपंच पर लगा खनन का आरोपसीबीआई ने बाल यौन शोषण सामग्री (CSAM) को डाउनलोड करने/प्रसारण करने के दो मामलों में 21 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में करीब 59 स्थानों पर राष्ट्रीय स्तर पर तलाशी ली
 
 
संपादकीय
पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक, जिम्मेवार कौन ?

पीएम सुरक्षा का ये मुद्दा सुरक्षा चूक के साथ राजनीतिक ज्यादा बन गया है।

वाहन बीमा पॉलिसी में दुर्घटना में मृत्यु ही नहीं बल्कि अपंगता लाभ भी मांगो

यदि अदालतें इन परिस्थितियों में भी उनके मुआवजे में कंजूसी करेंगी तो ये घायल पीड़ित के लिए अपमान के समान परिणामी है।

वसंत पंचमी इतिहास के झरोखों से

जैसे ही वसंत आता है, उपकार फिल्म का प्रसिद्ध गीत -‘पीली पीली सरसों फूली, पीली उड़े पतंग, अरे पीली पीली उड़े चुनरिया, पीली पगड़ी के संग’, भी खेतों का दृश्य लेकर मन मस्तिष्क में तैरने लगता है।

किसान त्रस्त - सरकारें मस्त

यह कैसा लोकतंत्र है? मतदाता 'राजा' होकर भी भिखारी बन गया और प्रतिनिधि नौकर होकर भी राजे बन बैठे। खून-पसीना एक करके जिस बंजर भूमि को अनाज उगाने लायक बनाया, भला उसको पूंजीपतियों के हाथ में कैसे सौंप दें? बस इतनी- सी बात भी हमारे नेताओं की समझ में नहीं आ रही।

सरकारों को क्यों सुनाई नहीं देता धरतीपुत्र का आर्तनाद

सर्द रातों में खेतों को पानी देना आसान काम नहीं है। इस सारी मशक्कत में धरतीपुत्र कब बीमार होता है, कब मर जाता है, इतना सोचने का समय भी उनके पास नहीं होता। अब सवाल उठता है कि मिट्टी के साथ मिट्टी होने वाला यह इंसान क्या सम्मान भरी जिंदगी का हकदार नहीं?

लीव एंड लाइसेंस एग्रीमेंट अपनाएं और प्रॉपर्टी पर किरायेदारों के अनुचित दावे से बचें वाहन बीमा पॉलिसी में दुर्घटना में मृत्यु ही नहीं बल्कि अपंगता लाभ भी मांगो वसंत पंचमी इतिहास के झरोखों से कृषि कानून वापस कैसे हो भाई- आगे है कुआं तो पीछे खाई याचना नहीं, अब रण होगा, जीवन-जय या कि मरण होगा किसान त्रस्त - सरकारें मस्त सरकारों को क्यों सुनाई नहीं देता धरतीपुत्र का आर्तनाद आयकर विभाग का इंस्टेंट पैन कार्ड सुविधा में एक पेंच, जनता परेशान दिल्ली में क्यों बढ़ जाता है अक्टूबर से ही प्रदूषण? पराली ही नहीं अन्य फैक्टर भी हैं जिम्मेदार मौत में अपना अस्तित्व तलाशता मीडिया मां भारती सुशांत राजपूत की मौत का रहस्य— हत्या या आत्महत्या? हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो बिहार रेजीमेंट के शूरवीरों ने कैसे चीनियों की पिटाई, बौनों को बौनी क्षमता का करवाया अहसास जंगल के नियम बनाम इंसाफ का तकाजा अच्छे दिन बनाम भुखमरी कोरोना या कादर का कहिर क्या सुप्रीम कोर्ट सिर्फ रसूखदारों की सुनती है आम जनता की नहीं? इरफान के विवेक_की पराकाष्ठा को परख गई प्रकृति प्राकृतिक सम्पदा संभालने का सुनहरा अवसर लॉक डाउन में प्रीपेड मोबाइल को वैलिडिटी एक्सटेंशन का लाभ डी टी एच उपभोक्ता को क्यो नहीं श्रापित दुनिया की ठेकेदार पांच महाशक्तियां सवालों के घेरे में पुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयार पवित्रता की याद दिलाती है ‘राखी’ करीब 50 गाँव के बीच में एक आधार केंद्र परबत्ता, 2-3 चक्कर से पहले पूरा नहीं होता कोई काम अपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासी क्या चुनावों में हर बार होती है जनता के साथ ठग्गी? क्या देश का चौकीदार सचमुच में चोर है? रोड़ रेज की बढ़ती घटनाएं चिंताजनक