ENGLISH HINDI Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

संतान की मंगलकामना के लिए अहोई अष्टमी का व्रत 21 अक्टूबर को

October 19, 2019 05:30 PM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्

 अहोई अष्टमी का व्रत 21 अक्टूबर दिन सोमवार को है। अहोई अष्टमी का व्रत करवा चौथ के चार दिन बाद और दीपावली से 8 दिन पहले होता है। कार्तिक मास की आठवीं तिथि को पड़ने के कारण इसे अहोई आठे भी कहा जाता है।

इस दिन महिलाएं अहोई माता का व्रत रखती हैं और उनका विधि विधान से पूजा अर्चना करती हैं। यह व्रत संतान के खुशहाल और दीर्घायु जीवन के लिए रखा जाता है। इससे संतान के जीवन में संकटों और कष्टों से रक्षा होती है।

अहोई अष्टमी का व्रत महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण होता है। अपनी संतान की मंगलकामना के लिए वे अष्टमी तिथि के दिन निर्जला व्रत रखती हैं। मुख्यत: शाम के समय में अहोई माता की पूजा अर्चना की जाती है। फिर रात्रि के समय तारों को करवे से अर्ध्य देती हैं और उनकी आरती करती हैं। इसके बाद वे संतान के हाथों से जल ग्रहण करके व्रत का समापन करती हैं। 

अहोई अष्टमी व्रत: पूजा मुहूर्त 

अष्टमी तिथि का प्रारंभ 21 अक्टूबर को सुबह 06:44 बजे से हो रहा है, जिसका समापन 22 अक्टूबर को सुबह 05:25 बजे हो रहा है। 

पूजा मुहूर्त -शाम को 05:46 बजे से रात 07:02 बजे तक है। 

तारों को देखने का समय शाम को 06:10 बजे से है। 

वहीं उस दिन चंद्रमा के उदय होने का समय देर रात है।  

इस व्रत में बायना सास, ननद या जेठानी को दिया जाता है। व्रत पूरा होने पर व्रती महिलाएं अपनी सास और परिवार के बड़े सदस्यों का पैर छूकर आशीर्वाद लेती हैं। इसके बाद वह अन्न जल ग्रहण करती हैं। अहोई माता की माला को दीपावली तक गले में धारण किया जाता है।

अहोई व्रत विधि

व्रत के दिन प्रात: उठकर स्नान किया जाता है और पूजा के समय ही संकल्प लिया जाता है कि “हे अहोई माता, मैं अपने पुत्र की लम्बी आयु एवं सुखमय जीवन हेतु अहोई व्रत कर रही हूं| अहोई माता मेरे पुत्रों को दीर्घायु, स्वस्थ एवं सुखी रखें|” अनहोनी से बचाने वाली माता देवी पार्वती हैं इसलिए इस व्रत में माता पर्वती की पूजा की जाती है|

अहोई माता की पूजा के लिए गेरू से दीवाल पर अहोई माता का चित्र बनाया जाता है और साथ ही स्याहु और उसके सात पुत्रों का चित्र भी निर्मित किया जाता है| माता जी के सामने चावल की कटोरी, मूली, सिंघाड़े रखते हैं और सुबह दिया रखकर कहानी कही जाती है| कहानी कहते समय जो चावल हाथ में लिए जाते हैं, उन्हें साड़ी/ सूट के दुप्पटे में बाँध लेते हैं| सुबह पूजा करते समय लोटे में पानी और उसके ऊपर करवे में पानी रखते हैं| ध्यान रखें कि यह करवा, करवा चौथ में इस्तेमाल हुआ होना चाहिए. इस करवे का पानी दिवाली के दिन पूरे घर में भी छिड़का जाता है|

संध्या काल में इन चित्रों की पूजा की जाती है| पके खाने में चौदह पूरी और आठ पूयों का भोग अहोई माता को लगाया जाता है| उस दिन बयाना निकाला जाता है| बायने में चौदह पूरी या मठरी या काजू होते हैं| लोटे का पानी शाम को चावल के साथ तारों को आर्ध किया जाता है|

अहोई पूजा में एक अन्य विधान यह भी है कि चांदी की अहोई बनाई जाती है जिसे स्याहु कहते हैं| इस स्याहु की पूजा रोली, अक्षत, दूध व भात से की जाती है| पूजा चाहे आप जिस विधि से करें लेकिन दोनों में ही पूजा के लिए एक कलश में जल भर कर रख लें| पूजा के बाद अहोई माता की कथा सुने और सुनाएं| पूजा के पश्चात अपनी सास के पैर छूएं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें| इसके पश्चात व्रती अन्न जल ग्रहण करती है|

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
सितंबर में सितारों की बदली चाल, केैसा रहेगा अब हाल ? 2 सितंबर, 1860 के बाद 18सितंबर,2020 से अधिक मास आरंभ, ऐसा संयोग अब 2039 में फिर बनेगा क्यों करें श्राद्ध ? इस बार श्राद्ध- 2 सितंबर से 17 सितंबर तक इस बार श्राद्ध और नवरात्र के मध्य एक मास का अंतराल, श्राद्ध 1 सितंबर से नवरात्र 17 अक्टूबर से आरंभ कोरोना काल को न बनने दें अवसाद का कारण 22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन कब मनाएं जन्माष्टमी , 11या 12 अगस्त को ? 5 सदियों बाद 5 अगस्त को अभिजित मुहूर्त में राम जन्म भूमि पूजन, राम राज्य की ओर अग्रसर भारत पहली अगस्त से शुक्र ग्रह आ रहे हैं मिथुन राशि में किस तरह 23 जुलाई को मनाई जाएगी हरियाली तीज