ENGLISH HINDI Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
शरीर कैसे छोडऩा है दादी पहले से ही कर ली थी प्लानिंग, दादी जी नही चाहती थी कि उनके शरीर छोडऩे पर ज्यादा खर्च होकोविड-19 के विरुद्ध जंग में महान योगदान के लिए मैडीकल समुदाय की प्रशंसाबकरियां चराने गये बुजुर्ग पर जंगली सूअर का आक्रमण, बुजुर्ग की हुई मौतट्राईडेंट उद्योग समूह जिला के सेहत विभाग को देगा 10 हजार मेडीकल सूटकोरोना वायरस से मारे गए लोगों की अंतिम रस्में निभाने संबंधी हिदायतें जारी हों : ग्रेवाल जमाखोरी, कालाबाजारी और मूल्य वृद्धि को नियंत्रण के लिए विशेष टीमें गठितमंडी में पहुंचने वाले किसान को मिलेगा मास्क और सैनिटाइजरनिजामूद्दीन मरकज़ में तबलीगी जमात में भाग लेने वालों को दी 24 घंटों की अंतिम समय-सीमा
एस्ट्रोलॉजी

लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने मनाया स्थापना दिवस

February 19, 2020 06:02 PM

चंडीगढ़: ज्योतिष विद्या की विभिन्न विधाओं की कोचिंग देने और निःशुल्क ज्योतिष शिविरों के माध्यम से ज्योतिष के प्रचार प्रसार में जुटे लक्ष्य ज्योतिष संस्थान चंडीगढ़ ने अपनी स्थापना के तीन वर्ष पूरे कर लिए है। चौथे वर्ष में प्रवेश पर स्थापना दिवस संस्थान के सेक्टर 35 स्थित आफिस में बड़ी ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

लक्ष्य ज्योतिष संसथान के फांउडर चेयरमैन रोहित कुमार जयोतिषाचार्य आचार्य वीना शर्मा प्रेजिडेंट व वाईस प्रेजिडेंट पियूष कुमार ने बताया कि इन ऐतिहासिक पलों को यादगार बंनाने के लिए न केवल केक काटकर खुशी मनाई गई। बल्कि पिछले तीन वर्षो के दौरान संस्थान के पदाधिकारियों और सदस्यों द्वारा उन लम्हों को भी याद कर सांझा किया गया। जिनकी बदौलत संस्थान ने आज ट्राईसिटी में एक मुकाम हासिल किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
घर पर ही मनाएं 7 व 8 अप्रैल, मंगल व बुधवार को हनुमान जयंती ओैर करें आराधना व उपाय पहली अप्रैल अष्टमी या 2 अप्रैल नवमी पर वीडियो कान्फ्रैंसिंग से करें कन्या पूजन नवरात्र में 4 ग्रहों की विशेष चौकड़ी कारोना का संहार करेगी कोरोना से राहत 21 अप्रैल से , पूरा छुटकारा 1 जुलाई के बाद होलिका दहन व होली पर प्रचलित सामान्य प्रचलित एवं आंचलिक उपाय जीरकपुर में ज्योतिष कैम्प आयोजित: लोगों ने जानी समस्या, ज्योतिषों ने सुझाया उपाय कैसा रहेगा लीप का साल ? कैसा रहेगा 29 फरवरी को जन्मे लोगों का हाल ? होलाष्टक रहेगा 3 मार्च से 9 मार्च तक, जानिए क्यों नहीं करते इसमें शुभ कार्य ? 117 साल बाद फिर बना शिवरात्रि पर विशिष्ट दुर्लभ संयोग माथे पर तिलक लगाने और मांग में सिंदूर भरने के पीछे क्या है वैज्ञानिक आधार?