ENGLISH HINDI Tuesday, August 04, 2020
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

चातुर्मास इस बार 4 की बजाए, 5 मास का रहेगा

June 25, 2020 01:47 PM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्

 इस वर्ष चातुर्मास जो पहली जुलाई से 25 नवंबर तक है, चार मास की बजाए, पांच मास का रहेगा। इस चौमासे का विवरण रामायण काल में भी मिलता है जब भगवान राम, कहते हैं कि अब चौमासा भी समाप्त होने जा रहा है और सीता जी का कुछ पता नहीं चल रहा। इस बार आश्विन मास, मलमास अर्थात अधिक मास होने से एक की बजाय दो बार आएगा और सभी उत्सव, पर्व एवं त्योहार आदि गत वर्षों की तुलना में लेट आएंगे। अक्सर श्राद्ध समाप्त होते ही अगले दिन नवरात्र, आरंभ हो जाते थे परंतु 2020 में, लीप वर्ष होने के कारण, ऐसा नहीं हो पाएगा। ऐसा यह पहली बार नहीं हो रहा, अक्सर कई बार हो चुका है।
अब श्राद्ध पहली सितंबर से आरंभ होकर 17 सितंबर तक चलेंगे, अर्थात अन्य सालों के विपरीत नवरात्र 17 अक्तूबर से आरंभ होंगे, दशहरा 25 अक्तूबर को पड़ेगा और दीवाली 14 नवंबर को होगी।
चातुर्मास पौराणिक काल में अधिक महत्वपूर्ण था जब ऋतु परिवर्तन के 4 महीने, अधिक वर्षा, बाढ़, भूस्खलन, पर्वतों पर हिमपात, कीड़े मकौड़ों, बीमारियों आदि से भरपूर होते थे और जनसाधारण को कहीं बाहर न निकलने की सलाह दी जाती थी और समय बिताने के लिए, पूजा पाठ का मार्ग बताया जाता था। जैन समाज में भी इस काल की अवधि में संत एक स्थान पर बैठ कर ही तप करते आ रहे हैं।
वर्तमान समय में ऐसा क्रियात्मक रुप से संभव नहीं है और बचाव के अनेक साधन मौजूद हैं फिर भी कोरोना काल में ईश्वर से इससे मुकि्त की प्रार्थना करने में हर्ज क्या है? समय के साथ साथ औचित्य, परिवेश, पाठ -पूजा का तरीका बदल जाता है, अतः 5 मास के इस काल में आप अपनी आवश्यकता एवं समयानुसार, जप तप कर सकते हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
पहली अगस्त से शुक्र ग्रह आ रहे हैं मिथुन राशि में किस तरह 23 जुलाई को मनाई जाएगी हरियाली तीज श्रावण मास में कैसे करें भगवान शिव को प्रसन्न ? कुछ क्षेत्रों में 16 जुलाई से होगा सावन आरंभ शीघ्र विवाह के लिए सावन में रखें मंगला गौरी व्रत अब के सावन कितना पावन? क्या पहली जुलाई की देवशयनी से लेकर 25 नवंबर,2020 के मध्य , विवाहों का लॉक डाउन रहेगा ? 21 जून को सूर्य का लॉकडाउन ? क्या ग्रहण बढ़ाएगा धरती की धड़कन ? कोरोना तुम कब जाओगे ? भारत तीसरी स्टेज में नहीं जाएगा, कोरोना की विदाई जुलाई से, परंतु अंतिम यात्रा नवंबर में वास्तु में आक के पौधे का महत्व 26 अप्रैल, रविवार की अक्षय तृतीया इस बार अत्याधिक शुभ