ENGLISH HINDI Thursday, March 04, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
न्यू मलौया कॉलोनी वासियों ने भाजपा सांसद के खिलाफ किया प्रदर्शन इस वर्ष भी सीधे भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से होगी गेहूं की खरीदः राजेंद्र गर्गजन्मदोष का शीघ्र पता लगाने के लिए प्रसव पूर्व परीक्षण का महत्व अहम: डॉ.गुरजीत कौरवीरेंद्र कश्यप पुनः भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनेट्राइडेंट ग्रुप ने सिविल अस्पताल, रेडक्रॉस सोसायटी व जिला जेल को भेंट की साढ़े तीन लाख राशिगुरुद्वारा श्री नानकसर साहिब में 45वां सात दिवसीय सालाना समागम समारोह शुरू नगर निगम ने कोरोना वारियर सुमिता कोहली को किया सम्मानितखालसा कॉलेज मोहाली की ओर से श्री गुरू तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित राष्ट्रीय वैबीनार का आयोजन
जीवन शैली

महिलाएं भी समझें, जिम्मेदार पुरूषों में छुपी हुई जिम्मेदारियां और भावनाओं का संमदर:डॉ रेनु अरोड़ा

July 03, 2020 06:26 PM

डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडियों के माध्यम से हजारों लोगों से बातचीत की जिनमें अधिकतर महिलाएं थी। आज के दौर में भाग दौड़ की जिंदगी में महिलाओं को भी पुरूषों की जिम्मेदारियों व भावनाओं को उसी प्रकार से तवैजो देनी चाहिए जिस प्रकार पुरूष व समाज महिलाओं की भावनाओं को देता आया है।

 पंचकुला , अनुराधा कपूर   

पुरुषों की जि़ंदगी भी इतनी आसान नहीं होती जितनी हम समझ लेते हैं कभी नौकरी के बहाने ख्वाहिशों की क़ुर्बानी तो कभी घर की जिम्मेदारियों को निभाते हुए अपनी ख्वाहिशों की कुर्बानी। यह बात शहर की प्रख्यात मोटिवेशनल स्पीकर डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडिया के माध्यम से कही। उनका कहना है कि पुरूषों की भावना की कदर व इज्जत, मान सम्मान करने से उनमें ऊर्जा का संचार होता है और वे किसी भी काम को करनें में सफलता प्राप्त करते हैं।

डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडियों के माध्यम से हजारों लोगों से बातचीत की जिनमें अधिकतर महिलाएं थी। उन्होंने कहा कि आज के दौर में भाग दौड़ की जिंदगी में महिलाओं को भी पुरूषों की जिम्मेदारियों व भावनाओं को उसी प्रकार से तवैजो देनी चाहिए जिस प्रकार पुरूष व समाज महिलाओं की भावनाओं को देता आया है। एक पुरूष की जि़दगी आसान नही होती वे अपने दिल में भी भावनाओं कासमंदर भरा होता है, उसकी भी भावनाएं होती है, लेकिन वे अपने परिवार की जिम्मेदारियों को बिना कोई किसी से शिकवा करे, सर उठाये निभाता है।

डॉ रेनू ने पुरूषों की भावनाओं को प्रथम रखते हुए बताया कि एक जिम्मेदार पुरूष के कंधे सदैव जिम्मेदारियों से भरे हुए होते हैं और वे अपने परिवार के सुख प्राप्ति के लिए खुद कई बार विभिन्न मानसिक तनावों व शारीरिक दुखों से गुजरता है, ऐसी स्थिति में भी में वे अपने परिवार के सामने हंसमुख चेहरा ही दिखाता है।

उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में शांत रहने का हुनर पुरूषों में कमाल होता है, उनमें चीज़ों को सोचने और समझने का नज़रिया भी बेमिसाल होता है, वे छोटी छोटी बातों पर अपना धीरज नहीं खोते, रोते तो पुरूष भी है मगर उसकी सिसकियाँ में आवाज़ नहीं होती, क्योंकि किसी ने कहा है पुरूषों को रोने की इजाज़त नहीं होती।

डॉ अरोड़ा ने सलाह देते हुए कहा कि महिलाओ को पुरुषों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए अपने परिवारजनों से बैठकर उनकी जि़दगी में चल रही परेशानियों की बात करनी चाहिए।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और जीवन शैली ख़बरें
नेहा वर्मा अवार्ड ऑफ़ मोस्ट इन्फलुएंशियल आइकॉन 2021 से सन्मानित दिल से किए गए कामों से मिलते है सुंदर परिणाम: मनिका श्योकंद अरुणा पाटिल ने जीता ग्लोबल पेजेंट मिसेज क्वीन ऑफ़ इंडिया का खिताब स्टार अकेडमी ने करवाया सबसे बड़ा माॅडलिंग शो वण्डर माडल 2021 मिस्टर एंड मिस ट्रिनिटी अवॉर्ड्स, मिस ट्रिनिटी का खिताब चंडीगढ़ की मेघा के नाम रहा स्टेप्स ग्रोइंग एकेडमी ने रिलीज किया सुपर मॉडल-2021 का कैलेंडर चंडीगढ़ की महिला बनी डिएडम मिस एंड मिसेज इंडिया लिगेसी-2020 की फर्स्ट रनर अप कोरोना काल का करवा चौथ: पीपीई किट पहन कर मुफ्त में मेंहदी कोरोना ने बदला लोगों का रुझान, शिवी महाजन अब हर शक्रवार फेसबुक लाइव पर स्टार अकेडमी का चमकता सितारा है आठ वर्षीय आरव