ENGLISH HINDI Saturday, August 15, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शनस्वतंत्रता दिवस पर ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दीए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडलवाराणसी में वर्चुअल माध्यम से धनवंतरी चलंत अस्पताल का शुभारंभपूंजीगत खर्च पर सीपीएसई की तीसरी समीक्षा बैठकविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और सराहनीय सेवाओं के लिए आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को पुलिस पदक से सम्मानितराष्ट्रपति ने सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए 84 वीरता पुरस्कारों और अन्य सम्मानों की मंजूरी दी
जीवन शैली

महिलाएं भी समझें, जिम्मेदार पुरूषों में छुपी हुई जिम्मेदारियां और भावनाओं का संमदर:डॉ रेनु अरोड़ा

July 03, 2020 06:26 PM

डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडियों के माध्यम से हजारों लोगों से बातचीत की जिनमें अधिकतर महिलाएं थी। आज के दौर में भाग दौड़ की जिंदगी में महिलाओं को भी पुरूषों की जिम्मेदारियों व भावनाओं को उसी प्रकार से तवैजो देनी चाहिए जिस प्रकार पुरूष व समाज महिलाओं की भावनाओं को देता आया है।

 पंचकुला , अनुराधा कपूर   

पुरुषों की जि़ंदगी भी इतनी आसान नहीं होती जितनी हम समझ लेते हैं कभी नौकरी के बहाने ख्वाहिशों की क़ुर्बानी तो कभी घर की जिम्मेदारियों को निभाते हुए अपनी ख्वाहिशों की कुर्बानी। यह बात शहर की प्रख्यात मोटिवेशनल स्पीकर डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडिया के माध्यम से कही। उनका कहना है कि पुरूषों की भावना की कदर व इज्जत, मान सम्मान करने से उनमें ऊर्जा का संचार होता है और वे किसी भी काम को करनें में सफलता प्राप्त करते हैं।

डॉ रेनु अरोड़ा ने सोशल मीडियों के माध्यम से हजारों लोगों से बातचीत की जिनमें अधिकतर महिलाएं थी। उन्होंने कहा कि आज के दौर में भाग दौड़ की जिंदगी में महिलाओं को भी पुरूषों की जिम्मेदारियों व भावनाओं को उसी प्रकार से तवैजो देनी चाहिए जिस प्रकार पुरूष व समाज महिलाओं की भावनाओं को देता आया है। एक पुरूष की जि़दगी आसान नही होती वे अपने दिल में भी भावनाओं कासमंदर भरा होता है, उसकी भी भावनाएं होती है, लेकिन वे अपने परिवार की जिम्मेदारियों को बिना कोई किसी से शिकवा करे, सर उठाये निभाता है।

डॉ रेनू ने पुरूषों की भावनाओं को प्रथम रखते हुए बताया कि एक जिम्मेदार पुरूष के कंधे सदैव जिम्मेदारियों से भरे हुए होते हैं और वे अपने परिवार के सुख प्राप्ति के लिए खुद कई बार विभिन्न मानसिक तनावों व शारीरिक दुखों से गुजरता है, ऐसी स्थिति में भी में वे अपने परिवार के सामने हंसमुख चेहरा ही दिखाता है।

उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में शांत रहने का हुनर पुरूषों में कमाल होता है, उनमें चीज़ों को सोचने और समझने का नज़रिया भी बेमिसाल होता है, वे छोटी छोटी बातों पर अपना धीरज नहीं खोते, रोते तो पुरूष भी है मगर उसकी सिसकियाँ में आवाज़ नहीं होती, क्योंकि किसी ने कहा है पुरूषों को रोने की इजाज़त नहीं होती।

डॉ अरोड़ा ने सलाह देते हुए कहा कि महिलाओ को पुरुषों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए अपने परिवारजनों से बैठकर उनकी जि़दगी में चल रही परेशानियों की बात करनी चाहिए।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और जीवन शैली ख़बरें
सिनेमा और सपाटू - ‘राम तेरी गंगा मैली’ की अभिनेत्री मंदाकिनी - सपाटू की देन सेना के जवान गगनदीप सिंह वराइच ने युवाओं को दिया सेहत का चेलेंज कास्टिंग कॉल ऑडिशन आयोजित, 13 उम्मीदवारों का चयन हुआ कोरोना ने व्यायाम को दिया नया आयाम : शिप्रा राजपूत बॉलीवुड हंगामा पेश करता है सोशल पे वोकल- सबसे नये वायरल सेलीब्रिटी वीडियोज के साथ आपकी हंसी की साप्ताहिक खुराक तेरी_रश्क_ए_कमर_तेरी_पहली_नजर_जब_नजर_से_मिलायी_मजा_आ_गया ऑनलाइन मिस एन्ड मिसेज प्रतियोगिता: मानसी मिस गॉर्जियस और मनदीप कस्तूरी मिसेज गॉर्जियस कफ्र्यू के दौरान डॉ. मनजीत सिंह बल ने आयोजित किया ऑनलाइन कवि दरबार लॉ ग्लोबल फाउंडेशन करेगी महिलाओं को फिटनेस के प्रति सचेत,करेगी मुकाबलों का आयोजन डी'काॅट डोनियर ने बद्दी हिमाचल में खोला अपना पहला आउटलैट