ENGLISH HINDI Thursday, January 28, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
एसबीपी हाउसिंग प्रोजेक्ट के आनंद टावर की नौवीं मंजिल में लगी आग मां भारती के पाठ के पश्चात कांग्रेस पूर्वांचल सेल ने लहराया तिरंगागणतन्त्र दिवस पर केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो के 30 अधिकारियों व कार्मिकों को विशिष्ट सेवा तथा सराहनीय सेवा पदक30,000 रु. की कथित धूसखोरी मामले में क्षेत्रीय श्रम आयुक्त तथा एक व्यक्ति गिरफ्तारध्वजारोहण करने बरनाला पहुंचे स्वास्थय मंत्री सिद्धू को दिखाये काले झंडेदिल्ली में कुछ अराजक तत्वों द्वारा हिंसा असहनीय, किसानों को दिल्ली की सरहदों पर लौटने की अपीलसीटीयू वार्षिक चुनाव : रेल इंजन पैनल ने शेर पार्टी को करारी शिकस्त दी धरमिंदर सिंह राही बने प्रधानचंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस और ओंकार चैरिटेबल ट्रस्ट ने चलाया ट्रैफिक रूल्स एंड रेगुलेशन अवेयरनेस ड्राइव
एस्ट्रोलॉजी

संतान की मंगलकामना के लिए अहोई अष्टमी का व्रत 8 नवम्बर को

November 05, 2020 11:22 AM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्-9815619620

 अहोई, अनहोनी शब्द का अपभ्रंश है। अनहोनी को टालने वाली माता देवी पार्वती हैं। इसलिए इस दिन मां पार्वती की पूजा-अर्चना का भी विधान है। अपनी संतानों की दीर्घायु और अनहोनी से रक्षा के लिए महिलाएं ये व्रत रखकर साही माता एवं भगवती पार्वती से आशीष मांगती हैं।

अहोई अष्टमी का व्रत करवा चौथ के चार दिन बाद और दीपावली से 8 दिन पहले होता है। कार्तिक मास की आठवीं तिथि को पड़ने के कारण इसे अहोई आठे भी कहा जाता है। कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को माताएं अपने वंश के संचालक पुत्र अथवा पुत्री की दीर्घायु व प्रतिष्ठा की रक्षा के लिए यह व्रत रखती हैं।इस दिन महिलाएं अहोई माता का व्रत रखती हैं और उनका विधि विधान से पूजा अर्चना करती हैं।

यह व्रत संतान के खुशहाल और दीर्घायु जीवन के लिए रखा जाता है। इससे संतान के जीवन में संकटों और कष्टों से रक्षा होती है।अहोई अष्टमी का व्रत महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण होता है। अपनी संतान की मंगलकामना के लिए वे अष्टमी तिथि के दिन निर्जला व्रत रखती हैं। मुख्यत: शाम के समय में अहोई माता की पूजा अर्चना की जाती है। फिर रात्रि के समय तारों को करवे से अर्ध्य देती हैं और उनकी आरती करती हैं। इसके बाद वे संतान के हाथों से जल ग्रहण करके व्रत का समापन करती हैं। पौराणिक मान्यता है कि अहोई अष्टमी के दिन व्रत रखने से संतान के कष्टों का निवारण होता है एवं उनके जीवन में सुख-समृद्धि व तरक्की आती है।

अहोई पूजा में एक अन्य विधान यह भी है कि चांदी की अहोई बनाई जाती है जिसे स्याहु कहते हैं| इस स्याहु की पूजा रोली, अक्षत, दूध व भात से की जाती है| पूजा चाहे आप जिस विधि से करें लेकिन दोनों में ही पूजा के लिए एक कलश में जल भर कर रख लें| पूजा के बाद अहोई माता की कथा सुने और सुनाएं| पूजा के पश्चात अपनी सास के पैर छूएं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें| इसके पश्चात व्रती अन्न जल ग्रहण करती है|

ऐसा माना जाता है कि जिन माताओं की संतान को शारीरिक कष्ट हो, स्वास्थ्य ठीक न रहता हो या बार-बार बीमार पड़ते हों अथवा किसी भी कारण से माता-पिता को अपनी संतान की ओर से चिंता बनी रहती हो तो माता द्वारा विधि-विधान से अहोई माता की पूजा-अर्चना व व्रत करने से संतान को विशेष लाभ होता है।

अहोई अष्टमी मुहूर्त:

रविवार 8 नवंबर- शाम 5 बजकर 26 मिनट से शाम 6 बजकर 46 मिनट तक

अवधि- 1 घंटा 19 मिनट

अष्टमी तिथि आरंभ- 8 नवंबर, सुबह 7 बजकर 28 मिनट से

ऐसे करें अहोई अष्टमी की पूजा

व्रत के दिन प्रात: उठकर स्नान किया जाता है और पूजा के समय ही संकल्प लिया जाता है कि “हे अहोई माता, मैं अपने पुत्र की लम्बी आयु एवं सुखमय जीवन हेतु अहोई व्रत कर रही हूं| अहोई माता मेरे पुत्रों को दीर्घायु, स्वस्थ एवं सुखी रखें|” अनहोनी से बचाने वाली माता देवी पार्वती हैं इसलिए इस व्रत में माता पर्वती की पूजा की जाती है| अहोई माता की पूजा के लिए गेरू से दीवाल पर अहोई माता का चित्र बनाया जाता है और साथ ही स्याहु और उसके सात पुत्रों का चित्र भी निर्मित किया जाता है| माता जी के सामने चावल की कटोरी, मूली, सिंघाड़े रखते हैं और सुबह दिया रखकर कहानी कही जाती है| कहानी कहते समय जो चावल हाथ में लिए जाते हैं, उन्हें साड़ी/ सूट के दुप्पटे में बाँध लेते हैं|

सुबह पूजा करते समय लोटे में पानी और उसके ऊपर करवे में पानी रखते हैं| ध्यान रखें कि यह करवा, करवा चौथ में इस्तेमाल हुआ होना चाहिए. इस करवे का पानी दिवाली के दिन पूरे घर में भी छिड़का जाता है| संध्या काल में इन चित्रों की पूजा की जाती है| पके खाने में चौदह पूरी और आठ पूयों का भोग अहोई माता को लगाया जाता है| उस दिन बयाना निकाला जाता है| बायने में चौदह पूरी या मठरी या काजू होते हैं| लोटे का पानी शाम को चावल के साथ तारों को आर्ध किया जाता है|

अहोई पूजा में एक अन्य विधान यह भी है कि चांदी की अहोई बनाई जाती है जिसे स्याहु कहते हैं| इस स्याहु की पूजा रोली, अक्षत, दूध व भात से की जाती है| पूजा चाहे आप जिस विधि से करें लेकिन दोनों में ही पूजा के लिए एक कलश में जल भर कर रख लें| पूजा के बाद अहोई माता की कथा सुने और सुनाएं| पूजा के पश्चात अपनी सास के पैर छूएं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें| इसके पश्चात व्रती अन्न जल ग्रहण करती है|

-मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्-9815619620, 0172-2577458

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
गलत रत्न धारण करने से आप हो सकते है तबाह एवं बर्बाद: ज्योतिषचार्य विष्णु शर्मा ऋण कौन लें , कब लें , कब लौटाएं , उतारने के क्या करें उपाय ? 5 ग्रहों का विशेष महा संयोग है माघ मकर संक्रान्ति 14 जनवरी को 13 जनवरी बुधवार को मनाएं लोहड़ी सायं 6 बजे के बाद रात्रि 11 बजकर 42 मिनट तक मकर संक्राति 14 जनवरी को कैसा रहेगा 2021 आप और देश के लिए ? 2 सितारों का मिलन है 21 दिसंबर की सबसे लंबी रात 14 दिसंबर को अंतिम पंचग्रहीय सूर्य ग्रहण, भारत में दिखेगा नहीं, करेगा बहुत प्रभावित 2020 में विवाह के दिन रह गए 3, फिर होंगे 24 अप्रैल, 2021 से आरंभ 2020 का अंतिम उपच्छाया चंद्रग्रहण 30 नवंबर , सोमवार को 20 नवंबर को गुरु के मकर राशि में प्रवेश व शनि के साथ मेल होने से बदलेगी देश व मौसम की दिशा और दशा