ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
हरियाणा

सिरसा में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने 3 घंटे किया चक्का जाम

February 06, 2021 09:37 PM

अबोहर/सिरसा (राज सदोष)

संयुक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर देशभर में आज किसानों ने तीन घंटे  के लिए चक्का जाम किया, जिसका जिला सिरसा में भी व्यापक असर देखने को मिला। वहीं किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल भी जिले की सीमाओं पर तैनात रहा।

हरियाणा राज्य परिवहन निगम की ओर से यूं तो बस अड्डा से बसों का संचालन किया गया मगर जगह-जगह किसानों विभिन्न मार्गों पर जाम लगा होने के कारण वह अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पाई। वहीं दूसरी ओर किसानों के जाम के दृष्टिगत सिरसा में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला व बिजली मंत्री रणजीत सिंह के आवासोंं के बाहर भी सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे।

हरियाणा किसान मंच के प्रदेशाध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा ने बताया कि मुसाबिहवाला के निकट पंजाब के जाने वाले रास्ते, रानियां, राजस्थान व हरियाणा को जोडऩे वाले चौपटा मार्ग, चौटाला-संगरिया मार्ग, भावदीव व खुइयांमलकाना टोल प्लाजा मार्ग को पूरी तरह जाम किया गया।

भारूखेड़ा ने बताया कि देश भर में राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक जाम किया गया। इमरजेंसी और आवश्यक सेवाओं जैसे एम्बुलेंसए स्कूल बस को नहीं रोका गया। यही नहीं चक्का जाम पूरी तरह से शांतिपूर्ण और अहिंसक रहा, जिसके लिए बकायदा प्रदर्शनकारियों को निर्देश दिए गए थे कि वे इस कार्यक्रम के दौरान किसी भी  अधिकारी, कर्मचारियों या आम नागरिकों के साथ किसी भी टकराव में शामिल न हों। 

जब-जब जनमत सड़कों पर उतरा है तो ऐतिहासिक  परिवर्तन हुए हैं और इस बार भी देश के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जाएगा। हालांकि सरकार ने आंदोलनरत किसानों को उठाने के लिए हर प्रकार से औच्छे हथकंडे  अपना रही है। कभी आंदोलनरत किसानों के स्थलों पर बिजली-पानी की सप्लाई बंद कर  रही है तो कभी लोकतंत्र का गला घोटते हुए इंटरनेट सेवा बंद कर रही है। इन सबके बावजूद किसानों ने शंातिपूर्वक तरीके से आंदोलन को अंजाम दिया है।

भारूखेड़ा ने बताया कि 3 बजे एक मिनट तक हॉर्न बजाकर, किसानों की एकता का संकेत देते हुए, चक्का जाम कार्यक्रम संपन्न होगा। उन्होंने बताया कि जनता से भी अपील की गई थी कि वे अन्न दाता के साथ अपना समर्थन और एकजुटता व्यक्त करने  के लिए इस कार्यक्रम में शामिल हों और हजारों लोगों की उपस्थिति ने ये दिखा दिया है कि आमजन किसान व किसानी को बचाने के लिए किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। इस मौके पर हैैप्पी रानियां व लखा अलीकां ने संयुक्त रूप से बताया कि किसान जनविरोधी फैसले लेकर खुद अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार रही है। पंूजीपतियों की गुलाम हो चुकी सरकार को सबक सिखाने के लिए किसानों को सड़क पर आना पड़ा है।

उन्होंने कहा कि जब-जब जनमत सड़कों पर उतरा है तो ऐतिहासिक  परिवर्तन हुए हैं और इस बार भी देश के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जाएगा। हालांकि सरकार ने आंदोलनरत किसानों को उठाने के लिए हर प्रकार से औच्छे हथकंडे  अपना रही है। कभी आंदोलनरत किसानों के स्थलों पर बिजली-पानी की सप्लाई बंद कर  रही है तो कभी लोकतंत्र का गला घोटते हुए इंटरनेट सेवा बंद कर रही है। इन सबके बावजूद किसानों ने शंातिपूर्वक तरीके से आंदोलन को अंजाम दिया है।

किसानों ने सरकार को चेताते हुए कहा है कि जब तक तीनों काले कानून रद्द नहीं होते और सरकार एमएसपी को लिखित में कानून नहीं बनाती, तब तक किसान इसी प्रकार से मोर्चे पर डटे रहेंगे। उन्होंने कहा कि किसान व किसानी को बचाने के लिए अगर कुर्बानियां भी देनी पड़ी तो किसान पीछे नहीं हटेंगे। किसान इस तानाशाह हो चुकी सरकार को सबक सिखाकर ही दम लेंगे, चाहे इसके लिए कितना भी लंबा संघर्ष क्यों न करना पड़े। इस मौके पर गुरदीप सिंह बाबा, हैप्पी रानियां, लखा अलीकां, सतपाल सिंह सिरसा सहित अन्य किसान नेता व हजारों की संख्या में किसान उपस्थित थे।
चप्पे-चप्पे पर रही पुलिस की पैनी नजर:
किसान नेताओं ने बताया कि जिलेभर में 30 से अधिक स्थानों पर नैशनल व स्टेट हाइवे सहित लिंक मार्गों को जाम किया गया। इस दौरान कोई अप्रिय घटना न हो, इसके लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस की पैनी नजर रही। पुलिस की गाडिय़ां तीन घंटे
तक लगातार एक स्थान से दूसरे स्थानों पर दनदनाती रही। वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटालाा में बिजली मंत्री रंजीत सिंह आवासों के जहां पुलिस बल तैनात रहा वहीं वाटर कैनन गाड़ी एंबुलेंस व फायर ब्रिगेड की गाड़ी सहित अन्य प्रबंध किए गए थे। 

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
पंचकूला सीएससी संचालकों को नहीं मिल रही है समुचित विभागीय सहायता, राम भरोसे चल रहा है काम प्राचीन वैदिक पद्धति तकनीक से ईजाद तकनीकों से दिव्यांगों बनाया जा सकता है सक्षम 1726 डिफाल्टर जनसूचना अधिकारियों से 2.27 करोड़ जुर्माना वसूली हेतु उच्चस्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी गठित सालाना 1.80 लाख की आय व कार व पक्के मकान वाले भी गरीब की श्रेणी में आएंगे: मलिक पब्लिसिटी सैल के पूर्व चेयरमैन रॉकी मित्तल अरेस्ट, सरकार पर आरोप जड़े तो खुला पुराना केस दहिया ने भारती अरोड़ा से सामाजिक तौर से माफी मांगी। धोखाधड़ी मामलें में नामी बिल्डर बगई गिरफ्तार कैंसर, किडनी तथा एचआईवी पीड़ित को 2250 रुपये प्रति माह पेंशन आवासीय भूखण्ड को विकसित ना कर 23 साल मुकदमेबाजी, हुडा को 10000 रुपए का जुर्माना 2 जिलों सोनीपत और झज्जर में 6 फरवरी शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद