ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
हरियाणा

आवासीय भूखण्ड को विकसित ना कर 23 साल मुकदमेबाजी, हुडा को 10000 रुपए का जुर्माना

February 07, 2021 10:33 AM

चंडीगढ, संजय मिश्रा:

कुरुक्षेत्र हरियाणा में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा आबंटित आवासीय भूखण्ड में समुचित सुविधा उपलब्ध ना कराकर 23 साल तक मुकदमा लड़ते रहने पर नाराज राष्ट्रीय उपभोक्ता आयोग ने प्राधिकरण की अपील को खारिज करते हुए उल्टे प्राधिकरण पर ही 10000 रुपए का जुर्माना लगा दिया।

आयोग ने पुनरीक्षण याचिका संख्या 269 ऑफ़ 2011 का निपटारा करते हुए कहा कि- शिकायतकर्ता ने 1997 मे जिला मंच में शिकायत दी जिसपर 2003 में उपभोक्ता के हक में फैसला आया, हुडा ने 2003 में ही इस आदेश की अपील राज्य उपभोक्ता आयोग में की जो 2010 में खारिज हो गई। फिर हुडा ने इसकी अपील 2011 मे राष्ट्रीय उपभोक्ता आयोग में दी, जो आज 2021 में निस्तारित हो रही है।

आयोग ने कहा, प्राधिकरण आबंटित आवासीय भूखण्ड की विकसित करने में विफल रहा लेकिन मुकदमेबाजी करके इस मामले को 23 साल तक लटकाने में सफल रहा। आयोग ने आगे कहा कि 10000 रुपए का जुर्माना प्राधिकरण उपभोक्ता राहत कोष में 4 सप्ताह के भीतर जमा कराए एवं इस जुर्माने कि रिकवरी उस अधिकारी या अधिकारियों से करें जो इस अनचाहे अपील एवं मुकदमेबाजी में सहायक है।

आयोग ने कहा कि उपभोक्ता संरक्षण कानून को बनाने का मकसद था ग्राहकों को सस्ता एवं त्वरित न्याय, लेकिन सरकारी प्रतिष्ठान अपनी हठधर्मिता के कारण इस मकसद को पलीता लगा रहे है।

आयोग ने कहा, प्राधिकरण आबंटित आवासीय भूखण्ड की विकसित करने में विफल रहा लेकिन मुकदमेबाजी करके इस मामले को 23 साल तक लटकाने में सफल रहा। आयोग ने आगे कहा कि 10000 रुपए का जुर्माना प्राधिकरण उपभोक्ता राहत कोष में 4 सप्ताह के भीतर जमा कराए एवं इस जुर्माने कि रिकवरी उस अधिकारी या अधिकारियों से करें जो इस अनचाहे अपील एवं मुकदमेबाजी में सहायक है।

प्रताप मंडी शाहाबाद जिला कुरुक्षेत्र हरियाणा के निर्मल मदन ने हुडा के खिलाफ जिला मंच में 1997 मे शिकायत दी थी, ये कहते हुए कि हुडा आबंटित भूखण्ड का समुचित विकास नहीं कर पाया है, इस कारण दूसरी भूखण्ड विकसित इलाके मे आबंटित कराने का हुडा को निर्देश दिया जाए, जिसे जिला मंच ने स्वीकार कर लिया था।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
पंचकूला सीएससी संचालकों को नहीं मिल रही है समुचित विभागीय सहायता, राम भरोसे चल रहा है काम प्राचीन वैदिक पद्धति तकनीक से ईजाद तकनीकों से दिव्यांगों बनाया जा सकता है सक्षम 1726 डिफाल्टर जनसूचना अधिकारियों से 2.27 करोड़ जुर्माना वसूली हेतु उच्चस्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी गठित सालाना 1.80 लाख की आय व कार व पक्के मकान वाले भी गरीब की श्रेणी में आएंगे: मलिक पब्लिसिटी सैल के पूर्व चेयरमैन रॉकी मित्तल अरेस्ट, सरकार पर आरोप जड़े तो खुला पुराना केस दहिया ने भारती अरोड़ा से सामाजिक तौर से माफी मांगी। धोखाधड़ी मामलें में नामी बिल्डर बगई गिरफ्तार कैंसर, किडनी तथा एचआईवी पीड़ित को 2250 रुपये प्रति माह पेंशन सिरसा में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने 3 घंटे किया चक्का जाम 2 जिलों सोनीपत और झज्जर में 6 फरवरी शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद