ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
हिमाचल प्रदेश

लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल

February 19, 2021 10:42 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय किन्नौरी संस्कृति से इतने प्रभावित हुए कि स्थानीय कलाकारों द्वारा प्रस्तुत नृत्य में भाग लेने से अपने आप को नहीं रोक पाए। यह उनका अपना अलग ही अनुभव था, जिसपर उन्होंने कहा, ‘‘यहां आकर लगा कि हिमाचल आना सार्थक हुआ है। यहां की संस्कृति सचमुच बेजोड़ है और लोगों में जो अपनापन है, वह देश के अन्य किसी भी हिस्से में देखने को नहीं मिलता है।’’
राज्यपाल आज अपने दो दिवसीय प्रवास के दौरान जनजातीय जिला किन्नौर पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। राज्यपाल के तौर पर यह उनका जनजातीय क्षेत्र किन्नौर का पहला दौरा है। इस अवसर पर स्थानीय कलाकारों ने संास्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर, लोगों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि किन्नौर की अपनी एक अलग पहचान है। यहां की समृद्ध संस्कृति काफी आकर्षक है, जिसका संरक्षण जरूरी है। उन्होंने कहा कि भावी पीढ़ी को अपनी समृद्ध संस्कृति के बारे में बताया जाना चाहिए ताकि वह इसपर गर्व कर सके। उन्होंने कहा कि कोई भी समाज तब तक जीवित रहता है जब तक वह अपनी संस्कृति से जुड़ा रहता है। उन्होंने कहा कि देवभूमि की पहचान यहां के पहाड़, वन व नदियां हैं। संस्कृति के साथ-साथ प्रकृति का संरक्षण और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देवभूमि की सार्थकता इसी में है कि हम स्वच्छता को जीवन में अपनाएं।
श्री दत्तात्रेय ने नव निर्वाचित जन प्रतिनिधियों को जीत की बधाई देते हुए कहा कि उन्हें विकास का नया दायित्व मिला है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे लोगों की जन आकांक्षाओं पर खतरा उतरे और ग्रामीण स्तर पर विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें। उन्होंने कहा कि वे खूब मेहनत करें और प्रदेश व देश की राजनीति में भी सबसे आगे रहें। उन्होंने कहा कि विकास में महिलाओं की अहम भूमिका है। इसलिए महिलाओं को नीति निर्धारण व विकास गतिविधियों में आगे आना चाहिए विशेषकर जनजातीय क्षेत्र में उनकी भूमिका व योगदान अहम है।
राज्यपाल ने कहा कि यहां अधिकांश शिल्पकला, बुनाई व अन्य उत्पाद स्थानीय स्तर पर तैयार किए जाते हैं, जिन्हें अधिक व्यापक स्तर पर विपणन व प्रचार की आवश्यकता है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरी कोविड-19: हिमाचल में 21 अप्रैल तक सभी शिक्षण संस्थानों को शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों सहित बंद का निर्णय उपायुक्त ने जूस पिला कर समाप्त करवाया सीयू के विद्यार्थियों का अनशन 13 अप्रैल को निर्वाचित पार्षदों लेंगे शपथ 7 अप्रैल को मध्य रात्रि तक नहीं होगी शराब की बिक्री: प्रजापति रिश्वत लेते लोक निर्माण विभाग का जेई गिरफ्तार हिमाचल में किए गए 3 नए नगर निगम सृजित युद्ध संग्रहालय, सेल्फी प्वाइंट को भाजपा ने क्यों बनाया खंडहर: कांग्रेस हिमाचल में 15 अप्रैल तक बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान जल जीवन मिशन के तहत हिमाचल को मिली सर्वाधिक प्रोत्साहन निधिः ठाकुर