ENGLISH HINDI Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कर्नाटक: मई प्रथम सप्ताह तक हो सकते है कोविड-19 के मामले चरम पर: स्वास्थ्य मंत्रीजीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन होमहात्मा ज्योतिबा फुले: एक प्रासंगिक चिंतनजश्न मनाने बंद करो, कोटकपूरा केस अभी ख़त्म नहीं हुआ: कैप्टन का सुखबीर को जवाबबठिंडा-बरनाला मार्ग पर बंद पड़े राइस शैलर के अंदर से मिले बाहरी प्रांत की गेंहूं के डंप किए 5 हजार गट्टेअपराध साबित हो जाने पर भी सिर्फ अपराधी को सजा, पीड़ित को मुआवजा क्यों नही?पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरीचंडीगढ़ में तीसरे इंडियन टैरो सम्मेलन का आयोजन
हिमाचल प्रदेश

चट्टान खिसकने से 4 लोगों की मौत , जय राम ने की चार-चार लाख देने की घोषणा

February 21, 2021 09:36 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा)  

मंडी जिले में शनिवार को चट्टान खिसकने से 4 लोगों की मौत हो गई और 11 घायल हो गए। ये लोग एक धार्मिक समारोह में शामिल होकर लौट रहे थे। रविवार को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पीडि़त परिवारों से मुलाकात की। उन्होंने मृतकों के परिजन को 4-4 लाख रुपए मुआवजा देने और घायलों के इलाज का खर्च उठाने का ऐलान किया।

मंडी जिले के कल्हणी में शनिवार देर शाम एक धार्मिक कार्यक्रम था। इसमें शामिल श्रद्धालु जंजली की तरफ लौट रहे थे। इस दौरान एक जीप आगे निकल गई। पीछे चल रही दूसरी गाड़ी पर पहाड़ से मलबा और पेड़ आ गिरे और इसके बाद जीप खाई में गिर गई। घटना में जीप में सवार 15 लोगों में से 3 की मौत हो गई, 12 गंभीर हो गए। इन्हें आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया गया। रविवार सुबह 5 बजे एक घायल व्यक्ति ने दम तोड़ दिया।

मुख्यमंत्री ने जोनल अस्पताल मंडी में घायलों का हाल जाना। इस दौरान परिजन ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों की लापरवाही से उनके लोगों की जान गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय लोगों ने राहत और बचाव कार्य में काफी ज्यादा मदद की है। हादसे में किसी प्रकार की कोई लापरवाही सामने नहीं आ रही है। जिस क्षेत्र में यह हादसा हुआ है, वहां इस प्रकार की लैंडस्लाइड होती रहती हैं। उन्होंने कहा कि यदि घायलों को आईजीएमसी शिमला या पीजीआई चंण्डीगढ़ भेजने की आवश्यकता हुई तो उन्हें शीघ्र ही स्थानातंरित किया जाना चाहिए ताकि उन्हें समय पर उचित उपचार मिल सके।

मुख्यमंत्री ने ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और शोक संतप्त परिजनों को इस अपूर्णीय क्षति को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की और इस दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये देने की घोषणा की है।

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर, सांसद राम स्वरूप शर्मा, विधायक इन्द्र सिंह गांधी और अतिरिक्त मुख्य सचिव जे.सी. शर्मा भी मुख्यमंत्री के साथ थे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट लानी जरूरी कोविड-19: हिमाचल में 21 अप्रैल तक सभी शिक्षण संस्थानों को शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों सहित बंद का निर्णय उपायुक्त ने जूस पिला कर समाप्त करवाया सीयू के विद्यार्थियों का अनशन 13 अप्रैल को निर्वाचित पार्षदों लेंगे शपथ 7 अप्रैल को मध्य रात्रि तक नहीं होगी शराब की बिक्री: प्रजापति रिश्वत लेते लोक निर्माण विभाग का जेई गिरफ्तार हिमाचल में किए गए 3 नए नगर निगम सृजित युद्ध संग्रहालय, सेल्फी प्वाइंट को भाजपा ने क्यों बनाया खंडहर: कांग्रेस हिमाचल में 15 अप्रैल तक बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान जल जीवन मिशन के तहत हिमाचल को मिली सर्वाधिक प्रोत्साहन निधिः ठाकुर